Hindi Sex Stories By raj sharma

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories ,erotic stories. Visit skoda-avtoport.ru
rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: Hindi Sex Stories By raj sharma

Unread post by rajaarkey » 15 Dec 2014 04:41

दो कामुक सहेलियाँ-5

गतान्क से आगे………………

शिल्पा के हाथ अब उसकी मस्ती से भरी चुचिओ को दबा रहे थे और उसने आँखें बंद कर रखी थी. कुच्छ देर चूत रस चाटने के बाद विनोद ने अपनी बेहन की जांघों को चूमा और फिर अपना मूह उसके चुचक पर ले गया. गदराई चुचि मूह मे भर के वो पागल सा हो गया और उसका लंड अब उसको बेह्न्चोद बनाने के लिए तड़पने लगा. “शिल्पा, मेरी बेहन, अब चुदाई शुरू करते हैं. तुम मेरे ऊपर चढ़ जाओ और मैं तेरे नीचे लेट जाता हूँ. मैं अपना लंड अपनी बेहन की चूत मे जाते हुए देखना चाहता हूँ. मुझे लगता है कि मेरी प्यारी बहना भी अब चुदाई के लिए तैयार हो चुकी है”

विनोद ने शिल्पा को बाहों मे उठाया और चूमते हुए लेट गया. शिल्पा अपने भाई के ऊपर चढ़ गयी और दोनो के नंगे जिस्म एक दूसरे से मिलने लगे. शिल्पा ने अपनी टाँगों को फैलाया और चूत को खड़े लंड पर रगड़ने लगी. विनोद से रुका नहीं गया तो उसने अपनी बेहन को कमर से पकड़ कर अपने लंड पर उतार दिया. “फूच” की आवाज़ से लंड उसकी बेहन की चूत को चीरता हुआ गरम गुफा मे परवेश कर गया. चूत की दीवारों से रस टपक रहा था और चिकनाई की वजह से लंड महाराज बेहन की चूत मे घुसते चले गये.

शिल्पा की चूत का रास्ता पहले ही सुरेश के लंड ने खोल दिया था. इसी लिए वो मस्ती से चुदने लगी. वो झुकती चली गयी और उसकी मस्त चुचि अपने भाई के सीने पर रगड़ खाने लगी,”ओह्ह्ह भैया आप का लंड जड़ तक घुस चुका है मेरी चूत मे….बहुत मस्त लोड्‍ा है आपका भैया…आपका तो सुरेश से भी मोटा है…अपनी बेहन की चूत को पूरा खोल रखा है आपके लंड ने भैया…चोदो मुझे मेरे भैया….वाह मेरे भैया…मैं आनंद से मरी जा रही हूँ..खूब चोद अपनी बहना को मेरे भाई!!”

विनोद को अपना लंड शिल्पा की चूत की गहराई मे घुसता हुआ महसूस हो रहा था. उसने शिल्पा के निपल को मूह मे ले लिया और नीचे से ज़ोर दार धक्के मारने लगा,” तो मेरी प्यारी बहना सुरेश से चुदवा चुकी है?” शिल्पा लंड के ऊपर नीचे होती हुई बोली” हां भैया जब मैने अपने भाई को नीता की चुदाई करते देखा तो रह ना सकी. अगर मेरा भाई मेरी सहेली को चोद सकता है तो सुरेश मुझे क्यो नहीं चोद सकता? मेरी चूत को भी लंड उसी तरह से चाहिए जिस तरह से मेरे भाई के लंड को चूत चाहिए. अब तो मेरे भाई का लंड ही मुझे चोद रहा है, अब और क्या चाहिए मुझे, भैया ज़ोर से चोदो मुझे, मेरी चूत का रस टपकने वाला है, आपके लंड मेरी चूत को तृप्त कर रहा है!!!” इस के साथ ही शिल्पा ने तेज़ी से विनोद के लंड की चुदाई शुरू कर दी.

विनोद उत्तेजना की सीमा पर कर चुका था. वो अब चुदाई का आसन बदलना चाहता था. वो बोला” शिल्पा, अब तुम बस करो और घोड़ी बन जाओ. मैं तुझे घोड़ी बना कर चोद्ना चाहता हूँ!” शिल्पा ना चाहते हुए भी लंड से उठी और हाथों और घुटनो के बल चौपाया हो गयी और उसने अपने चुतडो ऊपर उठा लिए. विनोद ने उसकी गांद पर हाथ फिराया और अपना भीगा हुआ लंड एक बार उसकी गांद पर रगड़ना शुरू कर दिया. शिल्पा को लगा कि शायद विनोद उसकी गांद पेलने लगा हो. लेकिन तभी विनोद ने लंड चूत मे पेल दिया. चूत ने भैया के लंड को एक दम से निगल लिया.

विनोद का लंड बुरी तरह से फूला हुआ था और वो अपनी बेहन की कमर पकड़ कर धक्के मारने लगा. कुतिया की तरह झुकी हुई उसकी चुदासी बहना उसको अपनी शक्ति का एहसास दिला रही थी. “अब मैं जो कहूँगा, शिल्पा वो ही करेगी, मेरी बहन अब मेरी गुलाम बन के रहे गी और मैं शिल्पा और नीता दोनो को चोदुन्गा!!” विनोद ने अपने आप से कहा और मस्ती मे उसने शिल्पा को बालों से पकड़ कर चोद्ना शुरू कर दिया जैसे वो घोड़ी हांक रहा हो. “भैया मेरी चुचि दबाओ, प्लीज़…मैं झरने वाली हूँ…मेरे निपल दबाओ, मुझे ज़ोर से पेलो, मेरे भाई..आआहह…ज़ोर से भैयाआ..ऊऊहह चोद लो अपनी बहना को!!!” शिल्पा चिल्ला रही थी और अपनी गांद को अपने भाई के लंड पर धकेल रही थी.

विनोद ने धक्को की रफ़्तार बढ़ा दी और मस्ती से चोद्ने लगा. उसके अंडकोष उसकी बेहन के नंगे चुतडो से टकरा रहे थे और कमरे मे पच पुच की आवाज़ें गूँज रही थी. विनोद का लंड भी झरने को थी. बगल से हाथ डाल कर उसने शिल्पा की चुचि मसल डाली और लंड की चोट और तेज़ कर दी. शिल्पा ने एक हाथ से अपने क्लिट को स्पर्श किया और वो झरने लगी,” ओह्ह्ह भयियैययाया..मैं गाईए…मेरी चूत…आपका लंड..मैं मरी…भैयाअ मैं बस….ओह्ह्ह्ह भगवाां…आअहह!!”

इसी के साथ विनोद का लंड अपना रस एक फव्वारे की तरह छोड़ने लगा. बेहन की चूत मे भाई का लंड पिचकारी छोड़ रहा था और दोनो आँखें बंद कर के चुदाई के आनंद मे डूब चुके थे.

समाप्त

Do kamuk saheliyaan-5

gataank se aage………………

Shilpa ke haath ab uski masti se bhari chuchion ko daba rahe thay aur usne aankhen band kar rakhi thee. Kuchh der chut ras chatne ke baad Vinod ne apni behan ki janghon ko chuma aur fir apna muh uske chuchak par le gaya. Gadrayi chuchi muh me bhar ke vo pagal sa ho gaya aur uska lund ab usko behnchod banane ke liye tadpane laga. “Shilpa, meri behan, ab chudayi shuru karte hain. Tum mere oopar chadh jayo aur main tere neechey let jata hoon. Main apna lund apni behan ki chut me jate hue dekhna chahta hoon. Mujhe lagata hai ki meri pyari behna bhi ab chudayi ke liye taiyar ho chuki hai”

Vinod ne Shilpa ko bahon me uthaya aur chumte hue let gaya. Shilpa apne bhai ke oopar chadh gayi aur dono ke nange jism ek dusre se milnelage. Shilpa ne apni tangon ko failaya aur chut ko khade lund par ragadne lagi. Vinod se ruka nahin gaya to usne apni behan ko kamar se pakad kar apne lund par uttar diya. “Phuch” ki awaz se lund uski behan ki chut ko cheerta huya garam gufa me parvesh kar gaya. Chut ki deewaron se ras tapak raha tha aur chiknayi ki vajah se lund maharaj behan ki chut me ghuste chale gaye.

Shilpa ki chut ka rasta pehle hi Suresh ke lund ne khol diya tha. Isi liye vo masti se chudane lagi. Vo jhukti chali gayi aur uski mast chuchi apne bhai ke seene par ragad khane lagi,”Ohhh bhaiya aap ka lund jad tak ghus chuka hai meri chut me….bahut mast loda hai aapka bhaiya…aapka to Suresh se bh mota hai…apni behan ki chut ko pura khol rakha hai aapke lund ne bhaiya…chodo mujhe mere bhaiya….Wah mere bhaiya…main anand se mari ja rahi hoon..khub chod apni behna ko mere bhai!!”

Vinod ko apna lund Shilpa ki chut ki gehrayi me ghusta hua mehsoos ho raha tha. Usne Shilpa ke nipple ko muh me le liya aur neechey se zor dar dhake marne laga,” To meri pyari behna Suresh se chudavaa chuki hai?” Shilpa lund ke oopar neechey hoti hui boli” Haan bhaiya jab maine apne bhai ko Neeta ki chudayi karte dekha to reh na saki. Agar mera bhai meri saheli ko chod sakta hai to Suresh mujhe kyo nahin chod sakta? Meri chut ko bhi lund usi tarah se chahiye jis tarah se mere bhai ke lund ko chut chahiye. Ab to mere bhai ka lund hi mujhe chod raha hai, ab aur kya chahiye mujhe, bhaiya zor se chodo mujhe, meri chut ka ras tapakne wala hai, aapke lund meri chut ko tripat kar raha hai!!!” Is ke sath hi Shilpa ne tezi se Vinod ke lund ki chudayi shuru kar dee.

Vinod uttejanaa ki seema par kar chuka tha. Vo ab chudayi ka asan badalna chahta tha. Vo bola” Shilpa, ab tum bas karo aur ghodi ban jayo. Main tujhe ghodi bana kar chodna chahta hoon!” Shilpa na chahte hue bhi lund se uthi aur hathon aur ghutno ke bal chaupaya ho gayi aur usne apne chutaDo oopar utha liye. Vinod ne uski gaand par haath firaya aur apna bheega hua lund ek bar uski gaand par ragadna shuru kar diya. Shilpa ko laga ki shayad Vinod uski gaand pelne laga ho. Lekin tabhi Vinod ne lund chut me pel diya. Chut ne bhaiya ke lund ko ek dum se nigal liya.

Vinod ka lund buri tarah se phula hua tha aur vo apni behan ki kamar pakad kar dhake marne laga. Kuttia ki tarah jhuki hui uski chudasi behna usko apni shakti ka ehsaas dila rahi thee. “Ab main jo kahunga, Shilpa vo hi karegi, meri behahn ab meri ghulam ban ke rahe gi aur main Shilpa aur Neeta dono ko chodunga!!” Vinod ne apne aap se kaha aur masti me usne Shilpa ko balon se pakad kar essey chodna shuru kar diya jaise vo ghodi haank raha ho. “Bhaia meri chuchi dabayo, please…main jharne wali hoon…mere nipple dabayo, mujhe zor se pelo, mere bhai..aaaahhhh…jor se bhaiyaaaa..oooohhh chod lo apni behna ko!!!” Shilpa chilla rahi thee aur apni gaand ko apne bhai ke lund par dhakel rahi thee.

Vinod ne dhakon ki raftar badha dee aur masti se chodne laga. Uske andkosh uski behan ke nange chutaDo se takra rahe thay aur kamre me puch puch ki awazen goonj rahi thee. Vinod ka lund bhi jharne ko thee. Bagal se haath dal kar usne Shilpa ki chuchi masal dali aur lund ki chot aur tez kar dee. Shilpa ne ek haath se apne clit ko sparsh kiya aur vo jharne lagi,” Ohhh Bhaiyaaaaa..main gayeee…meri chut…aapka lund..main mariii…bhaiyaaa main bas….ohhhh bhagwaaaan…aaahhhh!!”

Isi ke saath Vinod ka lund apna ras ek foware ki tarah chodne laga. Behan ki chut me bhai ka lund pichkari chod raha tha aur dono aankhen band kar ke chudayi ke anand me doob chuke thay.

samaapt

rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: Hindi Sex Stories By raj sharma

Unread post by rajaarkey » 15 Dec 2014 04:47

मेरी तन्हाई का साथी--1

मेरा नाम शबनम है. मेरे परिवार मे सिर्फ़ मम्मी, पापा, मेरे बड़े भैया और मैं हैं. हां, और हमारा अल्सेशन कुत्ता भालू. जब मैं 11 साल की थी हम एक छ्होटे से घर में रहते थे. एक किचन, बाथरूम और दो कमरे. भैया एक कमरे में सोते थे और मैं मम्मी पापा के साथ एक कमरे में. घर छ्होटा होने के कारण मैने कई बार पापा और मम्मी को प्यार करते देखा था.

पापा मेरी मम्मी के उपर चढ़ जाते थे और मम्मी अपनी लातें फैला देती थीं और फिर पापा अपना लंड उनके अंदर डाल देते थे. फिर पापा उपना लंड मम्मी की चूत में अंदर बाहर करते थे और कुछ देर बाद मम्मी सिसकारियाँ लेने लगती थी. मुझे लगता था के उन दोनो को खूब मज़ा आ रहा है. उन दिनो में मुझे यह बातें अजीब नहीं लगी. मैं नादान थी और मुझ पे अभी जवानी का जोश नही चढ़ा था.

जब मैं 12 साल की हुई तो मेरा बदन बदलने लगा. मेरी छाती पे मेरे बूब्स आने लगे, मेरी चूत पर हल्के हल्के बाल उगने लगे.मैं जवान होने लगी. मैने आजमाया कि अपने बूब्स को सहलाने से मुझे अजीब सा मज़ा आता है.

जब मैं अपनी चूत पर हाथ फेरती तो बहुत ही अछा लगता. जब मैं मम्मी पापा को चुदाई करते देखती तो जी करता के मैं भी उनके साथ यह प्यार का खेल खेलूँ: पापा मेरे भी बूब्स को दबाएँ और अपना लंड मेरे अंडर डालें और में उनका लंड मुँह में लूँ और चूसू, जैसे मम्मी करती थी. फिर स्कूल में मेरी सहेलियों ने मुझे बताया के यह चुदाई का क्या मतलब है. मेरी सहेली लता ने तो अपने परोसी लड़के के साथ ट्राइ भी किया था.

उसने बताया के लड़के के लंड को हाथ मे लेके सहलाने से वो बड़ा हो जाता है और वो लोहे जैसे सख़्त अकड़ जाता है और उसको फिर मुँह में लेके चूसने में बहुत मज़ा आता है. उसने अपने फ्रेंड का लंड अपनी चूत पे भी उपर नीचे रगड़ा था.

उसको बहुत अछा लगा था. उसने बताया के लंड चूसने के बाद वो झाड़ जाता है और उसमे से खूब सारा मलाई जैसा पानी निकलता है जिसको पीने में बहुत मज़ा है. उसने बताया के वो अब अपने फ्रेंड का लंड अंदर भी लेना चाहती है. सिर्फ़ मौका मिलने की बात है. यह बातें सुनती तो मेरे अंदर अक्सर एक अजीब सी गरमाइश उठती थी और मेरा दिल करता था के मैं भी यह बातें आज़माऊ. तब तक मैं 18 साल की हो गयी थी.

एक दिन मैं स्कूल से आकर होमवर्क करने को बैठी. मम्मी, पापा दोनो ऑफीस गये हुए थे और मैं घर में अकेली थी. गर्मी थी इस लिए मैने सिर्फ़ टी-शर्ट और शॉर्ट्स पहने थे. हमारा कुत्ता भालू कमरे में आकर मेरे पास बैठा था. मेरा मन होमवर्क पर नहीं था. मेरे सर में तो सेक्स के ख्याल आ रहे थे जैसे लता ने सुनाए थे. मैं बेड पे पीछे लेट गयी और अपने बूब्स को, जो अब साइज़ 34 के हो गये थे, अपने हाथों के साथ मसल्ने लगी. फिर मैने अपनी

टी-शर्ट उतार दी ताके मेरे हाथ अछी तरह सब जगह पहुँच सकें. फिर मैने एक हाथ शॉर्ट्स के अंदर डाला और में अपनी चूत को सहलाने लगी. मेरी चूत हल्की सी गीली होने लगी और मेरी उंगलियाँ आसानी से मेरी चूत पे घूमने लगी. मेरा एक हाथ मेरे बूब्स पे और दूसरा हाथ चूत पे घूम रहा था. फिर अचानक मुझे महसूस हुआ के भालू की गरम गरम गीली ज़बान मेरी जाँघो को चाट रही है.

मैने भालू को पीछे धकेला और गुस्से से बोली “ नो भालू, बॅड बॉय”. मगर सच बताऊ तो वो भालू का चाटना मुझे बहुत अछा लगा था. कुछ देर बाद भालू फिर आकर मेरी जाँघो को चाटने लगा. मैं कुछ नहीं बोली और उसको चाटने दिया. आहिस्ता आहिस्ता वो उपर की तरफ, मेरी चूत के पास चाटने लगा. उसकी ज़बान बहुत गरम थी और उसका मुलायम फर मेरी चमड़ी पर रगड़ रहा था. मुझे बहुत अछा लग रहा था.

मेरी चूत भी खूब गीली हो चुकी थी और मेरे अंदर खूब गरमाइश चढ़ चुकी थी. मैने अपनी शॉर्ट्स नीचे खिस्काई और उतार दी. अब मैं बेड पर नंगी पड़ी थी. मैने भालू का सर अपने हाथ में लिया और उसको उपर अपनी चूत की तरफ खींचा. वो चाटने लगा. में तो बहाल होने लगी. मैने अपनी टाँगें फैलाईं और भालू को अपनी चूत का पूरा प्रवेश दिया.

अब उसकी ज़बान मेरे दाने पर भी घिस रही थी और कभी कभी मेरी कुँवारी चूत में भी प्रवेश करती थी. मैं बेड के किनारे तक खिसक गयी ताके भालू की ज़बान सब जगह तक पहुँच सके. उसकी लंबी, गरम और खर खरी ज़बान मेरी गांद से उपर मेरे दाने तक चाट रही थी. मेरी टांगे काँपने लगी. मैं अपने चुतड उपेर करके भालू से और जोश से चटवाने लगी. उसकी ज़बान मेरी चूत में घुस गई और मेरी गरमाइश बढ़ गई. मेरे अंदर में से यह गरमाइश मेरे पूरे बदन में फैल गई.

मेरी चूत अचानक झटके देने लगी और में मज़े में खो गई. मैं तब पहली बार झाड़ गई. मेरी चूत से और पानी बहने लगा जिसको भालू ज़ोर ज़ोर से चाटने लगा. मेरा बदन पूरा थर थारा उठा. जब मुझे थोड़ा होश आया तो मैने भालू को उपर बेड पर खींच लिया. वो दो पैर के साथ मेरे उपर खड़ा था और मेरे बूब्स को चाटने लगा. मैने फिर अपना हाथ नीचे उसके पैट को खिसकाया और मैं उसके लंड को सहलाने लगी, जोकि अभी उसके कवर में था.

आहिस्ता आहिस्ता उसका लंड बाहर आने लगा. वो बहुत गरम और गीला चिकना था. थोड़ी ही देर में वो लंबा मोटा और सख़्त हो गया और भालू हांफता हुआ हवा में, मेरे उपर धक्के लगाने लगा. मैने नीचे देखा तो उसका लंड अब कम से कम 9 इंच लंबा हो चुका था. मुझसे रहा नहीं गया और मैं उसके लंड को अपनी चूत पर फेरने लगी. जन्नत का मज़ा मिल रहा था. मेरी साँस फूल गयी और मैं फिर से काँपति, झटके खाती हुई झर गई.

अब मेरा कुत्ता पूरे जोश में था. उसका लंबा सख़्त लंड मेरी चूत के फांको के बीच था. कभी कभी वो मेरी चूत के छेद पर भी आता था और थोड़ा अंदर भी जाता था. वो झटके मारने लगा और अचानक उसका लंड मेरे अंदर कोई 3-4 इंच तक समा गया. मेरी चूत तो पूरी तरह से गीली थी और उसका लंड आगे से तीखा और चिकना था. पहले तो मुझे डर सा लगा. मेरे दिमाग़ मे आया कि अभी तो आधे से ज़्यादा लंड बाहर है, बाकी कैसे अंदर लूँगी? मगर भालू को इन सब बातों का क्या पता था. वो तो चोद्ने में मगन था.

वो अपनी कुत्ते की रफ़्तार से मेरे अंदर बाहर जा रहा था. हर झटके के बाद उसका लंड थोड़ा और मेरे अंदर समा जाता. उसके लंड में से थोड़ा थोड़ा गरम गरम पानी सा मेरी चूत को और भी गीला और चिकना कर रहा था. मेरी चूत भरी जा रही थी और में मज़े से अपने कुत्ते से चुद रही थी. मैने जोश में आ कर भालू को पीछे से पकड़ा और ज़ोर से अपनी तरफ खींचा. मुझे नही पता था कि क्या होगा.

उसका मोटा लंड मेरी चूत के अंदर पूरा समा गया. मुझे महसूस हुआ कि मेरे अंदर कुछ फटा है और में दर्द से चीख पड़ी. भालू ने मेरी सील तोड़ दी थी. मैने उसे धकेल कर उसको मेरे अंदर से निकालने की कोशिश करी मगर मैं उसको पीछे नही हटा पाई. उसने अपने अगले पैर मेरे बदन के पीछे अटकाए हुए थे और वो मेरे उपर चिप्टा हुआ था. उसका धड़ मेरे बूब्स और पेट पर सरक रहा था. उसकी ज़बान मेरी गर्दन और मुँह को चाट रही थी. मैं अपनी दर्द बिल्कुल भूल गयी और उसकी चुदाई का मज़ा लेने लगी.

अब भालू का पूरा 10 इंच लंबा गरम गरम मोटा लंड मेरे अंदर बाहर जाने लगा. में भी अपनी लातें फैला कर अपने चुतड उठा उठा उसके धक्कों का मुक़ाबला कर रही थी. जन्नत का मज़ा आ रहा था मुझे. उसका लंड हर धक्के के साथ मेरी पूरी गहराई तक पहुँच रहा था. मैं तब बहुत ही ज़ोर से झर गयी. मेरा पूरा बदन फिर से काँप उठा और मेरी चूत झटके खाने लगी. भालू नही रुका और मुझे चोद्ता रहा.

उसकी रफ़्तार बढ़ती गयी और मुझे ऐसे लगा जैसे उसका लंड और भी मोटा होता जा रहा है. मैने अपने हाथ से उसका लंड पकड़ा तो मैने महसूस किया कि उसका लंड जड़ के पास बहुत ज़्यादा मोटा था. मोटा ही नहीं वो तो एक टेन्निस बॉल जैसे गोल था. हर धक्के से यह गोला मेरी चूत के अंदर जाने की कोशिश कर रहा था. फिर वही हुआ. वो गोला मेरी चूत के अंदर चला गया.

मुझे लगा जैसे मेरी चूत फॅट जाएगी. भालू फिर मेरी चूत में झरने लगा और उसने अपना गरम गरम वीर्य मेरे अंदर एक पिचकारी जैसे छोड़ दिया. अब वो अपना लंड मेरी चूत के अंदर बाहर नहीं कर पा रहा था. हम दोनो चूत और लंड से जुड़े हुए थे. फँसे हुए थे जैसे कुत्ता और कुतिया जुड़े हुए दिखते हैं.

मेरा कुत्ता और में पूरे 15 मिनिट ऐसे ही पड़े रहे. उतने में मैं एक बार फिर झाड़ गयी.

फिर उसका लंड ढीला हुआ और वो मेरी चूत में से निकला. साथ ही उसका ढेर सारा पानी निकला. भालू मेरे उपर से उठा और कमरे के एक कोने में बैठके अपना लंड चाटने लगा. में बेड पर लेटी रही और अपनी पहली चुदाई का मज़ा लेती रही.

एक तरफ मेरा दिमाग़ कह रहा था कि भालू एक जानवर है, इंसान नहीं. मगर मन कह रहा था कि यह मज़ा फिर से ले लो. काफ़ी कन्फ्यूज़्ड थी मैं. अगले दिन दोपहर को जब मैं पलंग पे लेटी हुई थी, भालू खुद ही आकर मेरी जांघे चाटने लगा. मैने कुछ देर सोचा कि मैं क्या करूँ. फिर मेरे से रहा नहीं गया और मैने अपने टी-शर्ट और शॉर्ट्स उतार दिए. बेड पे सरक कर में किनारे पर आ गयी और मैने भालू को पूरा रास्ता दे दिया मुझे चाटने को. वो तुरंत मेरी चूत को चाटने लगा.

आहिस्ता आहिस्ता उसका चाटने में और जोश आया. उसकी लंबी खर खरी ज़बान मेरी गांद के छेद पे शुरू होकर मेरी चूत और मेरे दाने तक चाट रही थी. कभी कभी उसकी ज़बान मेरी चूत के अंदर भी पहुँच रही थी. मेरा बदन अकड़ने लगा और कुछ ही मिनिट में मैं झटके खा खा कर झाड़ गयी. कुछ देर तक में ऐसे लेटी रही. जब मुझे थोड़ा आराम आया मैं उठी और फर्श पर आ गयी. भालू का लंड उसके कवर में से निकला हुआ था और उसके पेट के नीचे लटक रहा था.

उसको मैने अपने हाथ में लिया और उसको हल्के हल्के सहलाने लगी. वो अकड़ने लगा और थोड़ा थोडा पानी छोड़ने लगा. मैने आगे झुक कर उसके लंड के छेद पर ज़बान लगाई. उसका पानी गरम था और टेस्टी. नमकीन सा और थोड़ा मीठा. फिर मैं भालू का लंड चूसने लगी. वो इतना लंबा था कि मैं उसको पूरा मुँह में नहीं ले पा रही थी. फिर भालू आगे को धक्के मारने लगा और अपने लंड को मेरे मुँह में पेलने लगा. साथ ही वो अपना सर मोड़ के मेरी गांद को चाटने लगा.

में फिर झाड़ गयी में अपने हाथों और घुटनों के सहारे में बैठी थी कुतिया जैसे. भालू ने अपना लंड मेरे मुँह से खींचा और वो घूम के मेरे पीछे आ गया, और मेरे ऊपर चढ़ गया. उसका बदन मेरी पीठ पर था और उसने मुझे अपने अगले पैरों से ज़ोर से चिपका लिया था. उसका लंड मेरे पीछे धक्के मार रहा था. कभी गांद के पास और कभी चूत के पास. अचानक उसका निशाना ठीक हुआ और उसका लंड मेरी चूत में समा गया.

दो तीन धक्कों में उसका पूरा 10 इंच का लंड मेरे अंदर आ गया, और वो तेज़ रफ़्तार से मेरी चुदाई करने लगा. उसका मोटा लंबा और गरम लंड मुझे पेलते पेलते मेरी पूरी गहराई तक प्रवेश कर रहा था. मैं परमानंद में थी स्वर्ग का मज़ा ले रही थी. कुच्छ 15 तो 20 मिनिट के बाद में फिरसे झाड़ गयी. मेरा पानी छूट गया और मेरा पूरा बदन थर थराने लगा. मेरी चूत झटकने लगी. भालू उसी रफ़्तार से चोद्ता रहा. उसका लंड मेरे अंदर भरा हुआ था.

मेरा क्लाइमॅक्स जारी रहा. बहुत देर के बाद भालू ने अपना पानी मेरी चूत में छोड़ दिया. उसका लंड इतना मोटा हो गया था के वो मेरे अंदर फँसा ही रहा. निकल नहीं पा रहा था. जैसे कुत्ता और कुतिया फँसते हैं वैसे हम दोनो फँसे हुए थे. में लगातार झाड़ रही थी. सोच रही थी के यह कब ख़तम होगा. फिर 15 मिनिट के बाद उसका लंड मुरझाया और वो मेरे अंदर से निकला. साथ साथ उसका ढेर सा पानी मेरी चूत में से निकला. में थकावट के मारे वहीं फर्श पर लुढ़क गयी.

भालू मेरे सामने लेट गया और मेरे मुँह और बूब्स को चाटने लगा. मैने उसको अपनी बाहों में ले लिया और मैं वैसे ही सो गयी. मैने अपनी सहेली लता को इस बारे में कुछ नहीं बताया. हम उस वक़्त दोनो 13 साल की उमर के थे. लता अपने पड़ोस के लड़के रवि, के साथ एक्सपेरिमेंट कर रही थी. उसने रवि का लंड चूसा था और अपनी चूत पर भी रगड़ा था. फिर उसने मुझे बताया कि उस रात उसके परिवार वाले बाहर जा रहें हैं और उसने रवि को घर बुलाने का प्रोग्राम बनाया है.

उसने पूछा शबनम, तू भी आएगी? मैं बोली लता, तू पागल है ? मैं वहाँ क्या करूँगी ?लता बोली अरे यार मैं बहुत नर्वस हूँ. तू साथ होगी तो मुझे सहारा मिलेगा. तो मैं मान गयी. शाम को मैं पढ़ाई के बहाने मम्मी से इजाज़त लेकर लता के घर गई. लता बेडरूम में बैठी थी. बहुत सेक्सी कपड़े पहने थे उसने. एक पीले रंग का टाइट टॉप जिसके अंदर उसके छ्होटे छ्होटे बूब्स तने हुए थे और उसके उभरे हुए निपल्स सॉफ सॉफ दिख रहे थे. नीचे उसने हॉट-पॅंट्स पहनी थी.

उसका फिगर बहुत ही सुन्दर लग रहा था. हॉट पॅंट्स के अंदर उसके चूतड बहुत सेक्सी लग रहे थे. मैं बोली लता तू तो बहुत प्यारी लग रही हो. जी करता है के तुझे चूम लूँ. तो लता ने जवाब दिया “अर्रे शबनम, मैं भी तो कब से ये ही चाहती हूँ. आ मेरे पास. मैं हैरान हो गई और लता के पास गयी. उसने मुझे अपनी बाहों में ले लिया और हम ने अपना पहला किस किया. शुरू में तो कुछ संकोच और शरम के साथ था. हम दोनो को शायद अच्छा लगने लगा.

तो लता ने अपना मुँह खोल लिया और मैने उसको चूमते हुए अपनी ज़बान उसके मुँह में डाली. मुझे एक बिजली का शॉक सा लगा उसकी ज़बान के मिलन से. मीठा मीठा टेस्ट आया उसके मुँह का. हम एक दूसरे की बाहों में लिपटे ऐसे किस करते रहे. मेरा दिल ज़ोर ज़ोर से धड़क रहा था. मैने एक हाथ से लता के बूब्स को दबाया और सहलाने लगी. लता सिसकारियाँ लेने लगी और उसके हाथ भी मेरे बदन पर फिरने लगे.

लता मेरी सलवार के उपेर से ही मेरी जाँघो पे अपना हाथ फेरने लगी. मैने अपनी लातें थोड़ी फैला दी और उसका हाथ उपर आया और मेरी चूत को सहलाने लगा. मैं पागलों जैसे सिसकारियाँ लेने लगी. लता ने मेरा नाडा खोला और मेरी सलवार नीचे गिर गई. उसका हाथ मेरी चड्डी के अंदर गया और वो मेरी नंगी चूत पर फिरने लगा. मैं गीली होने लगी. उतने में मैं लता को किस कर रही थी मैं उसकी गर्दन और कंधों को चाटने लगी. फिर मैने लता के टॉप को नीचे खिसकाया.

उसके प्यारे गोल बूब्स जिनके उपर गुलाबी निपल्स को देख कर मैं बहाल हो गई. मैं झुकी और उसके बूब्स को चूसने लगी. उसकी एक उंगली मेरी चूत के फांकों के बीच थी और मेरी गीली चिकनी चूत उसकी उंगली को प्रेशर देने लगी. अचानक उसकी उंगली मेरी चूत के अंदर समा गई. कुच्छ देर बाद हम दोनो अलग हुए. हमारी आँखें मिली और तब हम दोनो को अहसास हुआ के हम एक दूसरे को बहुत चाहते हैं. हमारा दोनो का प्यार कुच्छ ही देर पहले पैदा हुआ था.

लता कुच्छ महीनो से अपने दोस्त रवि के साथ एक्सपेरिमेंट कर रही थी. उसने रवि का लंड चूसा था और उसका पानी भी पिया था. मगर अभी तक उसने रवि के साथ चुदाई नही की थी. आज उसने रवि को अपने घर इसी लिए बुलाया था.

जब बेल बजी तो मैने लता से पूछा ‘अब क्या करें ?’

तो लता बोली ‘अर्रे यार शबनम, तू तो मेरी बेस्ट फ्रेंड है. तू तो सब कुच्छ जानती है. तू कपबोर्ड में छुप जा और सब कुच्छ देख ले. मुझे अच्छा लगेगा अगर तू मेरे साथ होगी.’

लता के कमरे में उसके कपड़ों के लिए एक बड़ी कपबोर्ड थी. उसने मुझे उस में छुपा दिया और दरवाज़ा थोड़ा खुला छोड़ दिया ताके मैं सब कुच्छ देख सकूँ. फिर उसने घर का दरवाज़ा खोला और रवि को अंदर बुलाया.

लता की चेहरा, हमारी कुच्छ ही मिनिट पहले की कारिस्तानी से,बिल्कुल खिला हुआ था. उसके निपल अभी आकड़े हुए थे और उसके सेक्सी टॉप के अंदर से सॉफ दिख रहे थे, और उसकी हॉट-पॅंट का उपर का बटन खुला था, जिस से उसकी पैंटी का एलास्टिक दिख रहा था. रवि थोड़ा शरमाता हुआ अंदर आया और बोला ‘हाई लता, तू बहुत सुंदर लग रही है.’

क्रमशः......................................

Mera naam Shabnam hai. Mere pariwar mei sirf mummy, papa, mere bade Bhaiya aur mai hain. Haan, aur hamara Alsation kutta Bhaloo. Jab mai 11 saal ki thi hum ek chhote se ghar mein rehte they. Ek kitchen, bathroom aur do kamre. Bhaiya ek kamre mein sote the aur main Mummy Papa ke saath ek kamre mein. Ghar chhota hone ke kaaran maine kai baar papa aur mummy ko pyaar karte dekha tha.

Papa meri mummy ke upar charh jate the aur mummy apni latein phaila deti theen aur phir papa apna lund unke andar daal dete the. Phir papa upna lund mummy ki choot mein under bahar karte the aur kuch der baad mummy siskariyan lene lagti thi. Mujhe lagta tha ke un dono ko khoob maja aa raha hai. Un dino mein mujhe yeh batein ajeeb nahin lagi. Main nadaan thi aur mujh pe abhi jawani ka josh nahi para tha.

Jab main 12 saal ki hui to mera badan badalne laga. Meri chhati pe mere boobs aane lage, meri choot par halke halke baal ugne lage.Main jawan hone lagi. Maine ajmaya ki apne boobs ko sehlane se mujhe ajeeb sa maja ataa hai.

Jab main apni choot par hath pherti to bahut hi acha lagta. Jab main mummy papa ko chudai karte dekhti to jee karta ke main bhi unke saath yeh pyaar ka khel khelun: Papa mujhe bhi boobs ko dabaen aur apna lund mere under dalein aur mein unka lund munh mein loon aur choosun, jaise mummy karti thi. Phir school mein meri saheliyon ne mujhe bataya ke yeh chudai ka kya matlab hai. Meri saheli Lata ne to apne parosi ladke ke saath try bhi kiya tha.

Usne bataya ke ladke ke lund ko haath me leke sahlane se woh barha ho jata hai aur woh lohe jaise sakht akarh jata hai aur usko phir munh mein leke choosne mein bahut maza ata hai. Usne apne friend ka lund apni choot pe bhi upar niche ragarha tha.

Usko bahut acha laga tha. Usne bataya ke lund choosne ke baad woh jhar jata hai aur usme se khoob sara malai jaisa pani nikalta hai jisko pine mein bahut maza hai. Usne bataya ke woh ab apne friend ka lund undar bhi lena chahti hai. Sirf mouka milne ki baat hai. Yeh baatein sunte mere under aksar ek ajeeb si garmaish uthti thi aur mera dil karta tha ke main bhi yeh baatein ajmaun. Tab tak main 18 saal ki ho gayi thi.

Ek din main school se aakar homework karne ko baithi. Mummy, papa dono office gaye hue the aur main ghar mein akeli thi. Garmi thi is liye maine sirf T-shirt aur shorts pehne the. Hamara kutta Bhaloo kamre mein aakar mere paas baitha tha. Mera man homework par nahin tha. Mere sar mein to sex ke khyaal aa rahe the jaise Lata ne sunaye the. Main bed pe piche late gayi aur apne boobs ko, jo ab size 34 ke ho gaye the, apne haathon ke saath masalne lagi. Phir maine apni

T-shirt utaar di taake mere haath achi tarah sab jagah pahunch sakein. Phir maine ek haath shorts ke undar dala aur mein apni choot ko sahlane lagi. Meri choot halki si geeli hone lagi aur meri ungliyan asaani se meri choot pe ghoomne lagi. Mera ek haath mere boobs pe aur doosra haath choot pe ghoom raha tha. Phir achanak mujhe mehsoos hua ke Bhaloo ki garam garam geeli jaban meri jhangon ko chaat rahi hai.

Maine Bhaloo ko piche dhakela aur gusse se boli “ No Bhaloo, bad boy”. Magar sach bataun to woh Bhaloo ka chatna mujhe bahut acha laga tha. Kuch der baad Bhaloo phir aakar meri jhangon ko chatne laga. Main kuch nahin boli aur usko chatne diya. Ahista ahista woh upar ki taraf, meri choot ke paas chaatne laga. Uski jabaan bahut garam thi aur uska mulayam fur meri chamrhi par ragarh raha tha. Mujhe bahut acha lag raha tha.

Meri choot bhi khoob gili ho chuki thi aur mere undar khoob garmaish charh chuki thi. Maine apni shorts niche khiskai aur utaar diye. Ab main bed par nangi parhi thi. Maine Bhaloo ka sar apne haath mein liya aur usko upar apni choot ki taraf kheencha. Woh chaatne laga. Mein to behaal hone lagi. Maine apni taangen phailayeen aur Bhaloo ko apni choot ka poora pravesh diya.

Ab uski jabaan mere dane par bhi ghis rahi thi aur kabhi kabhi meri kunwari choot mein bhi pravesh karti thi. Main bed ke kinare tak khisak gayee taake Bhaloo ki jabaan sab jagah tak pahunch sake. Uski lambi, garam aur khar khari jabaan meri gaand se upar mere dane tak chaat rahi thi. Meri taange kaampne lagi. Main apne chutarh uper karke Bhaloo se aur josh se chatwane lagi. Uski jabaan meri chut mein ghus gai aur meri garmaish barh gai. Mere andar mein se yeh garmaish mere pure badan mein phail gai.

Meri chut achanak jhatke dene lagi aur mein maze mein kho gai. Main tab pehli baar jharh gai. Meri choot se aur pani behne laga jisko Bhaloo jor jor se chatne laga. Mera badan poora thar tharaa utha. Jab mujhe thora hosh aya to maine Bhaloo ko upar bed par kheench liya. Woh do pair ke saath mere upar kharha tha aur mere boobs ko chatne laga. Maine phir apna haath niche uske pait ko khiskaya aur mai uske lund ko sehlane lagi, joki abhi uske cover mein tha.

Ahista ahista uska lund bahar aane laga. Woh bahut garam aur gila chikna tha. Thorhi hi der mein woh lamba mota aur sakht ho gaya aur Bhaloo haanfta hua hawa mein, mere upar dhakke lagane laga. Maine niche dekha to uska lund ab kam se kam 9 inch lamba ho chukka tha. Mujhse raha nahin gaya aur main uske lund ko apni choot par pherne lagi. Jannat ka maja mil raha tha. Meri saans phool gayi aur main phir se kaampti, jhatke khati hui jhar gai.

Ab mera kutta poore josh mein tha. Uska lamba sakht lund meri choot ke phanko ke beech tha. Kabhi kabhi woh meri choot ke chhed par bhi ataa tha aur thora andar bhi jata tha. Woh jhatke marne laga aur achanak uska lund mere andar koi 3-4 inch tak sama gaya. Meri choot to poori tarah se geeli thi aur uska lund aage se teekha aur chikna tha. Pehle to mujhe dar sa lagaa. Mere dimaag mei aya ki abhi to adhe zyaada lund bahar hai, baaki kaise andar loongi? Magar Bhaloo ko in sab baton ka kya pataa tha. Woh to chodne mein magan tha.

Woh apni kutte ki raftaar se mere andar bahar ja raha tha. Har jhatke ke baad uska lund thora aur mere andar samaa jata. Uske lund mein se thorha thorha garam garam pani sa meri choot ko aur bhi geela aur chikna kar raha tha. Meri choot bhari ja rahi thi aur mein maje se apne kutte se chud rahi thi. Maine josh mein aa kar Bhaloo ko piche se pakra aur jor se apni taraf khincha. Mujhe nahi pataa tha ki kya hoga.

Uska mota lund meri choot ke andar poora samaa gaya. Mujhe mehsoos hua ki mere andar kuch phataa hai aur mein dard se cheekh parhi. Bhaloo ne meri seal torh dee thi. Maine use dhakel kar usko mere andar se nikaalne ki koshish kari magar main usko peeche nahi hataa paai. Usne apne agle pair mere badan ke peeche atkai hue the aur woh mere upar chipta hua tha. Uska fur mere boobs aur pate par sarak raha tha. Uski jabaan meri gardan aur munh ko chaat rahi thi. Main apni dard bilkul bhool gayi aur uski chudai ka maza lene lagi.

Ab Bhaloo ka poora 10 inch lamba garam garam mota lund mere andar bahar jane laga. Mein bhi apni laatein phaila kar apne chutarh utha utha uske dhakkon ka muqabila kar rahi thi. Jannat ka maza aa raha tha mujhe. Uska lund har dhakke ke saath meri poori gahrayi tak pahunch raha tha. Main tab bahut hi zor se jhar gayi. Mera poora badan phir se kaamp utha aur meri choot jhatke khane lagi. Bhaloo nahi ruka aur mujhe chodta raha.

Uski raftaat barhti gayi aur mujhe aise lagaa jaise uska lund aur bhi mota hota ja raha hai. Maine apne haath se uska lund pakra to maine mehsoos kiya ki uska lund jarh ke paas bahut jyada mota tha. Mota hi nahin who to ek tennis ball jaise gol tha. Har dhakke se yeh gola meri choot ke andar jaane ki koshish kar raha tha. Phir wahi hua. Woh gola meri choot ke andar chala gaya.

Mujhe laga jaise meri choot phat jayegi. Bhaloo phir meri choot mein jharhne laga aur usne apna garam garam virya mere andar ek pichkari jaise chorh diya. Ab woh apna lund meri choot ke andar bahar nahin kar pa rahaa tha. Hum dono choot aur lund se jude hue the. Phanse hue the jaise kuttaa aur kutia jurhe hue dikhte hain.

Mera kutta aur mein poore 15 minute aise hee parhe rahe. Utne mein main ek baar phir jharh gayi.

Phir uska lund dhila hua aur woh meri choot mein se nikla. Saath hi uska dher sara pani nikla. Bhaloo mere upar se utha aur kamre ke ek kone mein baithke apna lund chaatne laga. Mein bed par leti rahi aur apni pahli chudaai ka maza leti rahi.

Ek taraf mera dimaag kah raha that ki Bhaloo ek jaanwar hai, insaan nahin. Magar man keh raha tha ki yeh maza phir se le lo. Kafi confused thi main. Agle din dopahar ko jab main palang pe leti hui thi, Bhaloo khud hi aakar meri jhaangen chaatne laga. Maine kuch der socha ki main kya karoon. Phir mere se raha nahin gaya aur maine apne T-shirt aur shorts utaar diye. Bed pe sarak kar mein kinare par aa gayi aur maine Bhaloo ko poora rasta de diya mujhe chaatne ko. Woh turant meri choot ko chaatne laga.

Ahista ahista uska chaatne mein aur josh aya. Uski lambi khar khari jabaan meri gaand ke chhed pe shuru hokar meri choot aur mere dane tak chaat rahi thi. Kabhi kabhi uski jabaan meri choot ke ander bhi pahunch rahi thi. Mera badan akarhne laga aur kuch hi minute mein main jhatke kha kha kar jharh gayi. Kuch der tak mein aise leti rahi. Jab mujhe thora araam aya main uthi aur pharash par aa gayi. Bhaloo ka lund uske cover mein se nikla hua tha aur uske pate ke niche latak raha tha.

Usko maine apne haath mein liya aur usko halke halke sahlane lagi. Woh akarhne laga aur thora thora pani chhorne laga. Maine aage jhuk kar uske lund ke chhed par jabaan lagai. Uska pani garam tha aur tasty. Namkeen sa aur thora meetha. Phir main Bhaloo ka lund choosne lagi. Woh itna lamba tha ki main usko poora munh mein nahin le pa rahi thi. Phir Bhaloo aage ko dhakke marne lagaa aur apne lund ko mere munh mein pelne laga. Saath hi woh apna sar morh ke meri gaand ko chaatne laga.

Mein phir jharh gayi mein apne haathon aur ghutnon ke sahare mein baithi thi kutiya jaise. Bhaloo ne apna lund mere munh se khincha aur woh ghoom ke mere peeche aa gaya, aur mere oopar charh gaya. Uska badan meri peeth par tha aur usne mujhe apne agle pairon se jor se chimat liya tha. Uska lund mere peeche dhakke maar raha tha. Kabhi gaand ke paas aur kabhi choot ke paas. Achanak uska nishana theek hua aur uska lund meri choot mein samaa gaya.

Do teen dhakkon mein uska poora 10 inch ka lund mere ander aa gaya, aur woh tez raftaar se meri chudai karne laga. Uska mota lamba aur garam lund mujhe pelte pelte meri poori gahrai tak pravesh kar raha tha. Main parmanand mein thi swarag ka maja le rahi thi. Kuchh 15 to 20 minute ke baad mein phirse jharh gayi. Mera pani chhoot gaya aur mera poora badan thar tharane laga. Meri choot jhatakne lagi. Bhaloo usi raftaar se chodta raha. Uska lund mere ander bhara hua tha.

Mera climax jaari raha. Bahut der ke baad Bhaloo ne apna pani meri choot mein chorh diya. Uska lund itna mota ho gaya tha ke woh mere ander phansa hi raha. Nikal nahin pa raha tha. Jaise kutta aur kutiya phanste hain waise hum dono phanse hue the. Mein lagataar jharh rahi thi. Soch rahi thi ke yeh kab khatam hoga. Phir 15 minute ke baad uska lund murjhaya aur woh mere ander se nikla. Saath saath uska dher sa pani meri choot mein se nikla. Mein thakaavat ke mare waheen pharsh par lurak gayi.

Bhaloo mere saamne let gaya aur mere munh aur boobs ko chatne laga. Maine usko apni bahon mein le liya aur main waise hi so gayi. Maine apni saheli Lata ko is bare mein kuch nahin bataya. Hum us waqt dono 13 saal ki umar ke the. Lata apne parhos ke ladke Ravi, ke saath experiment kar rahi thi. Usne Ravi ka lund choosa tha aur apni choot par bhi ragarha tha. Phir usne mujhe bataya ki us raat uske parivaar wale bahar ja rahein hain aur usne Ravi ko ghar bulane ka program banaya hai.

Usne poocha Shabnam, tu bhi ayegi? Main boli Lata, tu paagal hai ? Main wahan kya karoongi ?Lata boli Are yaar main bahut nervous hun. Tu saath hogi to mujhe sahara milega. To main maan gayi. Shaam ko main parhayi ke bahane Mummy se ijazat lekar Lata ke ghar gai. Lata bedroom mein baithi thi. Bahut sexy kaprhe pahane the usne. Ek peele rang ka tight top jiske ander uske chhote chhote boobs tane hue the aur uske ubhre hue nipples saaf saaf dikh rahe the. Neeche usne hot-pants pahni thi.

Uska figure bahut hi sunder lag raha tha. Hot pants ke ander uske chootarh bahut sexy lag rahe the. Main boli Lata tu to bahut pyari lag rahi ho. Jee karta hai ke tujhe choom lun. To Lata ne jawaab diya “Arre Shabnam, main bhi to kab se ye hi chahti hun. Aa mere paas. Main hairaan ho gai aur Lata ke paas gayi. Usne mujhe apni bahon mein le liya aur humne apna pahla kiss kiya. Shuru mein to kuch sankoch aur sharam ke saath tha. Hum dono ko shaid achha lagne laga.

To Lata ne apna munh khol liya aur maine usko choomte hue apni jabaan uske munh mein dali. Mujhe ek bijli ka shock sa laga uski jabaan ke milan se. Mitha mitha taste aya uske munh ka. Hum ek doosre ki bahon mein lipte aise kiss karte rahe. Mera dil zor zor se dharhak raha tha. Maine ek haath se Lata ke boobs ko dabaya aur sehlane lagi. Lata siskariyan lene lagi aur uske haath bhi mere badan par phirne lage.

Lata meri salwar ke uper se hi meri jhangon pe apna haath pherne lagi. Maine apni latein thorhi phaila di aur uska haath upar aya aur meri choot ko sahlane laga. Main paglon jaise siskariyan lene lagi. Lata ne mera narha khola aur meri salwar niche gir gai. Uska haath meri chaddi ke ander gaya aur who meri nangi choot par phirne laga. Main gili hone lagi. Utne mein main Lata ko kiss kar rahi thi main uski gardan aur kandhon ko chatne lagi. Phir maine Lata ke top ko niche khiskaya.

Uske pyare gol boobs jinke upar gulabi nipples ko dekh kar main behaal ho gai. Main jhuki aur uske boobs ko chusne lagi. Uski ek ungli meri choot ke phankon ke beech thi aur meri geeli chikni choot uski ungli ko pressure dene lagi. Achanak uski ungli meri choot ke ander sama gai. Kuchh der baad hum dono alag hue. Hamari ankhen mili aur tab hum dono ko ahsas hua ke hum ek doosre ko bahut chahte hain. Hamara dono ka pyaar kuchh hi der pahle paida hua tha.

Lata kuchh mahino se apne dost Ravi ke saath experiment kar rahi thi. Usne Ravi ka lund choosa tha aur uska pani bhi piya tha. Magar abhi tak usne Ravi ke saath chudai nahi ki thi. Aaj usne Ravi ko apne ghar isi liye bulaya tha.

Jab bell baji to maine Lata se poochha ‘Ab kya karein ?’

To Lata boli ‘Arre yaar Shabnam, tu to meri best friend hai. Tu to sab kuchh jaanti hai. Tu cupboard mein chhup ja aur sab kuchh dekh le. Mujhe achha lagega agar tu mere saath hogi.’

Lata ke kamre mein uske kaprhon ke liye ek barhi cupboard thi. Usne mujhe us mein chhupa diya aur darwaza thorha khula chorh diya taake main sab kuchh dekh sakun. Phir usne ghar ka darwaza khola aur Ravi ko ander bulaya.

Lata ki chehra, hamari kuchh hi minute pahle ki autpayi se,bilkul khila hua tha. Uske nipple abhi akrhe hue the aur uske sexy top ke ander se saaf dikh rahe the, aur uski hot-pant ka upar ka button khula tha, jis se uski panty ka elastic dikh raha tha. Ravi thorha sharmata hua ander aya aur bola ‘Hi Lata, Tu bahut sundar lag rahi hai.’

rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: Hindi Sex Stories By raj sharma

Unread post by rajaarkey » 15 Dec 2014 04:48

मेरी तन्हाई का साथी--2

गतान्क से आगे............

लता कुच्छ नही बोली. उसने दरवाज़ा बंद किया और रवि को अपने कमरे में ले आई. अंदर आते ही लता, रवि से लिपट गयी. अब रवि ने उसको अपनी बाहों में ले लिया और उसको मुँह पे किस करने लगा. लता ने अपना मुँह खोल दिया और रवि की ज़बान उसके मुँह में चली गयी. रवि ने अपने हाथ लता के टॉप के अंदर खिसकाये और वो लता की पीठ पर फेरने लगा. लता हल्के हल्के ‘उन्ह उन्ह उन्ह’ की आवाज़ें निकालने लगी. उसने रवि के शर्ट के बटन एका एक खोलने शुरू किए और उसके पॅंट की ज़िप भी नीचे खींच दी. रवि की चड्डी की उभार सॉफ दिखने लगी. लता बाहर से ही रवि के लंड को सहलाने लगी. उनका किस अभी जारी था. रवि ने फिर लता का टॉप उपर खींचा. लता ने अपनी बाहें उपर करी और रवि ने उसका टॉप उतार दिया और वो लता के 32 साइज़ के उभरे हुए गोल बूब्स को उसके ब्लॅक ब्रा के उपर से ही दबाने लगा.

फिर लता झुकी और घुटनों बल बैठ गयी … उसने रवि की पॅंट और चड्डी एक झटके से नीचे खींच दी. रवि का तना सख़्त लंड बाहर निकला. मैं देख के अचेत हो गयी … इतना सुंदर लग रहा था उसका 6 इंच लंबा लंड . मैं तो पहली बार किसी लड़के का साधन देख रही थी …. ब्लू मूवीस में तो देखे थे मगर असलियत में नहीं. लता ने उसको हाथ में लिया और ज़बान निकाल कर उसके टोपे को चाटने लगी. फिर लता ने रवि के लंड को मुँह में ले लिया और वो हल्के हल्के उसको अंदर बाहर करने लगी. रवि ने उसके सर पे हाथ रखा और वो लता को अपनी ओर खींचने लगा. अब उसका लंड आहिस्ता आहिस्ता और गहराई तक लता के मुँह में समाने लगा.

थोरही देर बाद रवि ने लता के मुँह में तेज़ी से झटके मारना शुरू किया. उसकी साँस फूली हुई थी और वो हर झटके के साथ ‘हुंग…. हुंग…. हुंग ‘ की आवाज़ कर रहा था. उसने लता का सर ज़ोर से पकड़ा और अपनी तरफ खींचा. उसका लंड अब जड़ तक लता के मुँह में पूरा गले तक चला गया. लता पीछे खींच रही थी मगर रवि ने नही छोड़ा. लता का मुँह अब रवि की झांतों पे दबा हुआ था. अचानक रवि अकड़ सा गया और उसका बदन थर थराने लगा. मुझे पता लग गया के वो लता के मुँह के अंदर ही झाड़ रहा है … पूरी गहराई तक. फिर रवि ने लता को कुच्छ ढील दी और लता ने अपना सर पीछे किया. उसके मुँह में से रवि का लंड बाहर निकला. उसके गाढ़े पानी की तारें लता के लबो से लटकी हुई थीं. रवि का पानी लता के गले में छूटा था तो उसको सब निगलना ही पड़ा था.

अलमारी में से यह सब देख कर मेरी चूत पानी पानी हो गयी थी. मैने दो उंगलियाँ चूत में डाली हुई थी और मैं लातें चौड़ी कर के अपनी चूत को रगड़ रही थी.

अब रवि और लता बेड पे लेट गये और एक दूसरे को सहलाने लगे. रवि के हाथ लता के बदन पर फिर रहे थे, कभी उसके बूब्स को दबाते, कभी उसकी चिकनी जाँघो को मसल्ते और कभी उसकी चूत को प्यार करते. लता पीठ पे लेटी इस सब का मज़ा ले रही थी. उसके एक हाथ में रवि का लंड था और वो उसको हल्का हल्का मसल रही थी. कुच्छ ही देर में रवि का लंड फिर अकड़ने लगा और वो जल्दी ही अपनी पूरी लंबाई पे आ गया. रवि लता के निपल को, जो बिल्कुल खड़े हो गये, ज़ोर से चूस रहा था और उसके बूब्स ज़ोर से दबा रहा था.

लता भी अब पूरी गरम हो गयी थी. उसने रवि को अपने उपर खींच लिया और वो दोनो जोश से टंग किस्सिंग कर रहे थे. रवि का लंड पूरी तन्नाव में था और लता की चूत के ऊपर लटका हुआ था. लता ने खुद ही उसका लंड हाथ में लिया और अपनी चूत के मुँह पर लगाया. दूसरे हाथ से उसने रवि के कूल्हो को दबाया. रवि का अकड़ा लंड लता की चिकनी गीली चूत में समाने लगा. आधा लंड तो आराम से लता की चूत में खिसकता गया.

तब लता की हल्की सी चीख निकली, ‘हाइ म्मूऊउम्म्म्मय्ी मै मर गयी. बड़ी दर्द हो रही है. है रवि निकालो इसको’.

रवि तो अब पूरे जोश में था. वो अपने कूल्हे दबाता गया और अचानक उसका लंड एक ही झटके में लता की गीली चूत में पूरा समा गया. फिर रवि रुक गया. लता उसके नीचे दर्द से हल्के से रो रही थी. मैने देखा के उनके नीचे चादर लाल होने लगी थी …. लता के खून से. रवि ने लता के कुँवारापन का फूल लूट लिया था.

कुच्छ देर वो दोनो ऐसे ही पड़े रहे. फिर रवि आहिस्ता आहिस्ता लता के ऊपर हिलने लगा. वो अपना लंड धीरे से निकालता और फिर धीरे से फिर लता की चूत में पेलता. शुरू में लता ने दर्द की आहें ली मगर जल्दी ही वो अपनी लातें फैला कर रवि के लंड को मज़े से अंदर लेने लगी. अब वो अपने कूल्हे उठा उठा कर रवि के झटकों का साथ देने लगी. ऐसे ही वो चुदाई में मगन हो गये. उनकी रफ़्तार तेज़ होने लगी और अब उनकी चुदाई की आवाज़ें कमरे में गूंजने लगी. एक तो लंड और चूत के मिलन की आवाज़ और दूसरे रवि के ‘उन्ह.. उन्ह.. उन्ह’ और फिर लता का ‘आ.. आ.. आ’, यह सब आवाज़ें एक साथ मुझे भी पागल कर रही थी.

मैं तेज़ी से अपनी उंगलियाँ अपनी चूत पर फेर रही थी …. मेरा दाना उभर कर बड़ा हो गया था, मेरी चूत पानी छोड़ रही थी. मुझ में मौज की लहरें दौड़ रहीं थी. और फिर मैं इन दोनो की चुदाई देखते देखते झड़ने लगी.

उधर लता और रवि भी जोश की हद पे पहुँच गये थे. लता मस्ती में चिल्ला रही थी ‘रवि, मेरी जान …. और चोदो … और चोदो…. पेल दो मेरे अंदर …. ऊओह आअहह एम्म्म ‘ और रवि की रफ़्तार और भी तेज़ हो गे थी. उसका लंड लता की पूरी गहराई तक जाता था और फिर उसकी झांतों पर रगड़ता था. लता का बदन अकड़ने लगा, और वो झटके खाती खाती झड़ने लगी. वो रवि से चिपेट गयी. उसकी लातें उसकी पीठ पर टाइट हो कर लिपटी हुई थीं और उसका बदन ज़ोर से काँप रहा था. फिर रवि भी झटकने लगा. मैं समझ गयी के वो मेरी सहेली लता की चूत में झाड़ रहा है. मुझसे भी रहा नही गया और मैं भी तब बहुत ही ज़ोर से झाड़ गयी.

कुच्छ देर बाद रवि उठा और अपने कपड़े पहन ने लगा. लता बेड पे ही पड़ी रही. फिर रवि, मेरी नंगी लता को किस करके चला गया. मैं बाहर आई और अपनी चुदि हुई सहेली के साथ लेट गयी. मैने उसकी चूत में उंगली डाली. उसकी चुदाई का जूस उसकी चूत में से टपक रहा था … लता का पानी और रवि की वीर्य का मिक्स्चर. मैने उंगली को मुँह मे डाला और उस मिक्स्चर को चाट गयी. लता गहरी नींद में सो गयी और मैं भी कपड़े पहन कर घर चली गयी.

अगले दिन हम ने स्कूल में तय किया के हम दो दिन बाद लता के घर में ही ट्राइ करेंगे अपने नये जगे हुए प्रेम को आज़माने के लिए. क्या था के लता को अभी चुदाई से काफ़ी तकलीफ़ हो रही थी. दो दिन के बाद मैं लता के घर, स्कूल के बाद पहुँची. लता अपने कमरे में बिल्कुल नंगी बैठी पॉर्न मूवी देख रही थी. जैसे मैं अंदर आई तो लता ने उठ कर पहले दरवाज़ा लॉक किया और मुझे अपनी बाहों में ले लिया. वो मुझे लिप्स पे किस करने लगी. मैं भी गरम थी और में साथ देने लगी. मैने लता के खुले मुँह में अपनी ज़बान डाल दी. फिर से खूब ज़ोर से बिजली जैसा शॉक लगा और मैने लता की मिठास को टेस्ट किया.

हम ऐसे किस करते रहे. लता ने मेरे बूब्स पर हाथ फेरना शुरू किया. मैं सिसकारियाँ लेने लगी और मैने लता की चूत पर हाथ फेरा. उसने तुरंत अपनी लातें चौड़ी कर दी ताके मैं अच्छी तरह से पहुँच जाउ. उसकी चूत चिकनी और गरम थी और मुझे बहुत अच्छा लग रहा था उसको सहलाते हुए. मैने अपनी एक उंगली लता की गीली चूत में खिसका दी. उसने अपनी चूत आगे करके मेरे हाथ पर दबाई. कुच्छ देर बाद हम दोनो बहुत गरम हो गये थे तो हम बेड पर बैठ गये. लता ने मेरी टी-शर्ट और पॅंट उतारनी शुरू करी. साथ साथ लता मुझे चाट रही थी. कभी गाल पर, कभी नेक, और कभी बाहों पर. मैने कपड़े उतरवाने में खूब साथ दिया और जल्दी से मैं भी बिल्कुल नंगी हो गयी.

अब हम बेड पर लेटे एक दूसरे को खूब किस और लीक करने लगे. हमारे बूब्स, जिन में जवानी की मज़बूती थी, एक दूसरे से दब रहे थे … निपल्स हम दोनो के स्टिफ हो गये थे. फिर लता ने भी अपनी उंगली मेरी चूत में खिसका दी और हम एक दूसरे को फिंगर फक्किंग करने लगे. लता की उंगलियाँ कभी मेरे दाने पर फिरती और कभी मेरी चूत में सरक्तीं. मैं भी लता को ऐसे ही कर रही थी. कुच्छ ही देर में हम दोनो झड़ने लगे. हमारा पानी छूटने लगा.

में बोली ‘ लता जल्दी 69 में आजा. मैने तेरा जूस पीना है.’

उसने मुझे पीठ पे लिटाया और वो मेरे उपर आई और उसकी चूत मेरे मुँह के सामने आ गयी. उसकी चूत में से थोड़ा थोड़ा पानी टपक रहा था. मैने अपनी ज़बान से उसको टेस्ट किया. बहुत टेस्टी था … कुच्छ मीठा और कुच्छ नमकीन. मैं जल्दी से उसका स्वीट जूस पीने लगी और उसे चाटने लगी, कभी मैं अपनी ज़बान उसकी चूत में डालती तो लता का पूरा बदन झटके खाने लगता.

उतने में लता भी बिज़ी थी. मैने अपनी लातें पूरी चौड़ी कर दी थीं और लता का सर मेरी चूत को दबा रहा था. वो भी मुझे चाट रही थी और मेरा माल पी रही थी. 10 मिनिट्स के बाद मैं फिर झाड़ गयी और मेरे बाद लता भी झड़ने लगी. हम दोनो एक दूसरे का जूस पीते रहे. कुच्छ देर बाद हम अलग हुए और बेड पर लूड़क पड़े. उसके बाद मैं अपने घर आ गई .

मैने अपने कुत्ते भोलू के साथ कई बार सेक्स किया और मज़ा लिया दोस्तो भोलू मेरी तन्हाई का साथी था

समाप्त

Lata kuchh nahi boli. Usne darwaza band kiya aur Ravi ko apne kamre mein le ayi. Ander aate hi Lata, Ravi se lipat gayi. Ab Ravi ne usko apni bahon mein le liya aur usko munh pe kiss karne laga. Lata ne apna munh khol diya aur Ravi ki jabaan uske munh mein chali gayi. Ravi ne apne haath Lata ke top ke andar khiskaye aur woh Lata ki peeth par pherne laga. Lata halke halke ‘unh unh unh’ ki awazein nikaalne lagi. Usne Ravi ke shirt ke button eka ek kholne shuru kiye aur uske pant ki zip bhi neeche kheench di. Ravi ki chaddi ki ubharan saaf dikhne lagi. Lata bahar se hi Ravi ke lund ko sahlane lagi. Unka kiss abhi jaari tha. Ravi ne phir Lata ka top upar kheencha. Lata ne apni bahein upar kari aur Ravi ne uska top utaar diya aur woh Lata ke 32 size ke ubhre hue gol boobs ko uske black bra ke upar se hi dabane laga.

Phir Lata jhuki aur ghutnon bal baith gayi … usne Ravi ki pant aur chaddi ek jhatke se neeche kheench di. Ravi ka tana sakht lund bahar nikla. Main dekh ke achet ho gayi … itna sundar lag raha tha uska 6 inch lamba lund . Main to pahli baar kisi ladke ka saadhan dekh rahi thi …. blue movies mein to dekhe the magar asliyat mein nahin. Lata ne usko haath mein liya aur jabaan nikaal kar uske tope ko chaatne lagi. Phir Lata ne Ravi ke lund ko munh mein le liya aur woh halke halke usko andar bahar karne lagi. Ravi ne uske sar pe haath rakha aur woh Lata ko apni or kheenchne laga. Ab uska lund ahista ahista aur gahrai tak Lata ke munh mein samaane laga.

Thorhi der baad Ravi ne Lata ke munh mein tezi se jhatke maarna shuru kiya. Uski saans phuli hui thi aur woh har jhatke ke saath ‘hunh…. hunh…. hunh ‘ ki awaaz kar raha tha. Usne Lata ka sar zor se pakrha aur apni taraf kheencha. Uska lund ab jarh tak Lata ke munh mein poora gale tak chala gaya. Lata peechhe kheench rahi thi magar Ravi ne nahi chhorha. Lata ka munh ab Ravi ki jhaanton pe dabaa hua tha. Achanak Ravi akarh sa gaya aur uska badan thar tharane laga. Mujhe pata lag gaya ke woh Lata ke munh ke ander hi jharh raha hai … poori gahrai tak. Phir Ravi ne Lata ko kuchh dheel di aur Lata ne apna sar peechhe kiya. Uske munh mein se Ravi ka lund bahar nikla. Uske garhe pani ki taarein Lata ke labhon se latki hui theen. Ravi ka pani Lata ke gale mein chhoota tha to usko sab nigalna hi parha tha.

Almari mein se yah sab dekh kar meri chut pani pani ho gayi thi. Maine do ungliyan chut mein dali hui thi aur main latein chaurhi kar ke apni ko ragarh rahi thi.

Ab Ravi aur Lata bed pe late gaye aur ek dusre ko sahlane lage. Ravi ke haath Lata ke badan par phir rahe the, kabhi uske boobs ko dabaate, kabhi uski chikni jhangon ko masalte aur kabhi uski choot ko pyaar karte. Lata peeth pe leti is sab ka maza le rahi thi. Uske ek haath mein Ravi ka lund tha aur woh usko halka halka masal rahi thi. Kuchh hi der mein Ravi ka lund phir akarhne laga aur woh jaldi hi apni poori lambai pe aa gaya. Ravi Lata ke nipple ko, jo bilkul kharhe ho gaye, zor se choos raha tha aur uske boobs zor se dabaa raha tha.

Lata bhi ab poori garam ho gayi thi. Usne Ravi ko apne upar kheench liya aur woh dono josh se tongue kissing kar rahe the. Ravi ka lund poori tannaav mein tha aur Lata ki chut ke oopar latka hua tha. Lata ne khud hi uska lund haath mein liya aur apni chut ke munh par lagaya. Dusre haath se usne Ravi ke koolonh ko dabaya. Ravi ka akrha lund Lata ki chikni geeli chut mein samaane laga. Aadha lund to araam se Lata ki chut mein khisakta gaya.

Tab Lata ki halki si cheekh nikli, ‘Hai mmuuummmmyy mai mar gayi. Barhi dard ho rahi hai. Hai Ravi nikalo isko’.

Ravi to ab poore josh mein tha. Woh apne koolhe dabaata gaya aur achanak uska lund ek hi jhatke mein Lata ki geeli chut mein poora samaa gaya. Phir Ravi ruk gaya. Lata uske niche dard se halke se ro rahi thi. Maine dekha ke unke niche chaadar laal hone lagi thi …. Lata ke khoon se. Ravi ne Lata ke kunwarapan ka phool loot liya tha.

Kuchh der woh dono aise hi parhe rahe. Phir Ravi ahista ahista Lata ke oopar hilne laga. Woh apna lund dheere se nikaalta aur phir dheere se phir Lata ki chut mein pelta. Shuru mein Lata ne dard ki aahein li magar jaldi hi woh apni laatein phaila kar Ravi ke lund ko maze se ander lene lagi. Ab woh apne koolhe utha utha kar Ravi ke jhatkon ka mel dene lagi. Aise hi woh chudai mein magan ho gaye. Unki raftar tez hone lagi aur ab unki chudai ki aawaazen kamre mein goonjne lagi. Ek to lund aur chut ke milan ki aawaaz aur doosre Ravi ke ‘Unh.. Unh.. Unh’ aur phir Lata ka ‘Aah.. aah.. aah’, yeh sab awaazein ek saath mujhe bhi pagal kar rahi thi.

Main tezi se apni ungliyaan apni chut par pher rahi thi …. mera dana ubhar kar barha ho gaya tha, meri chut pani chorhh rahi thi. Mujh mein mauj ki lahren dorh rahin thi. Aur phir main in dono ki chudai dekhte dekhte jharhne lagi.

Udhar Lata aur Ravi bhi josh ki had pe pahunch gaye the. Lata masti mein chilla rahi thi ‘Ravi, meri jaan …. aur chodo … aur chodo…. pel do mere ander …. ooohhhh aaahhhh mmmm ‘ Aur Ravi ki raftaar aur bhi tez ho gay thi. Uska lund Lata ki poori gahrai tak jata tha aur phir uski jhanton par ragarhta tha. Lata ka badan akarhne laga, aur woh jhatke khati khati jharhne lagi. Woh Ravi se chipat gayi. Uski laatein uski peeth par tight ho kar lipti hui theen aur uska badan zor se kaamp raha tha. Phir Ravi bhi jhatakne laga. Main samajh gayi ke woh meri saheli Lata ki chut mein jharh raha hai. Mujhse bhi raha nahi gaya aur main bhi tab bahut hi zor se jharh gayi.

Kuchh der baad Ravi utha aur apne kaprhe pahan ne laga. Lata bed pe hi parhi rahi. Phir Ravi, meri nangi Lata ko kiss karke chala gaya. Main bahar ayi aur apni chudi hui saheli ke saath let gayi. Maine uski chut mein ungli dali. Uski chudai ka juice uski chut mein se tapak raha tha … Lata ka pani aur Ravi ki virya ka mixture. Maine ungli ko munh main dalaa aur us mixture ko chaat gayi. Lata gahri neend mein so gayi aur main bhi kaprhe pahan kar ghar chali gayi.

Agle din humne school mein tah kiya ke hum do din baad Lata ke ghar mein hi try karenge apne naye jaage hue prem ko ajmaana. Kya tha ke Lata ko abhi chudai se kaafi takleef ho rahi thi. Do din ke baad main Lata ke ghar, school ke baad pahunchi. Lata apne kamre mein bilkul nangi baithi porn movie dekh rahi thi. Jaise main ander aayi to Lata ne uth kar pahle darwaza lock kiya aur mujhe apni bahon mein le liya. Woh mujhe lips pe kiss karne lagi. Main bhi garam thi aur mein saath dene lagi. Maine Lata ke khule munh mein apni zabaan daal di. Phir se khub zor se bijli jaisa shock laga aur maine Lata ki mithaas ko taste kiya.

Hum aise kiss karte rahe. Lata ne mere boobs par haath pherna shuru kiya. Main siskariyan lene lagi aur maine Lata ki chut par haath phera. Usne turant apni laatein chaurhi kar din taake main achhi tarah se pahunch jaaun. Uski chut chikni aur garam thi aur mujhe bahut achha lag raha tha usko sahlate hue. Maine apni ek ungli Lata ki geeli choot mein khiska di. Usne apni choot aage karke mere haath par dabayi. Kuchh der baad hum dono bahut garam ho gaye the to hum bed par baith gaye. Lata ne meri T-shirt aur pant utarni shuru kari. Saath saath Lata mujhe chaat rahi thi. Kabhi gaal par, kabhi neck, aur kabhi baahon par. Maine kaprhe utarwane mein khoob saath diya aur jaldi se main bhi bilkul nangi ho gayi.

Ab hum bed par lete ek doosre ko khoob kiss aur lick karne lage. Hamare boobs, jin mein jawaani ki mazbooti thi, ek doosre se dab rahe the … nipples humare dono ke stiff ho gaye the. Phir Lata ne bhi apni ungli meri chut mein khiska di aur hum ek doosre ko finger fucking karne lage. Lata ki ungliyan kabhi mere dane par phirti aur kabhi meri chut mein saraktin. Main bhi Lata ko aise hi kar rahi thi. Kuchh hi der mein hum dono jharhne lage. Hamara pani chhutne laga.

Mein boli ‘ Lata jaldi 69 mein aaja. Maine tera juice pina hai.’

Usne mujhe peeth pe litaya aur woh mere upar aai aur uski chut mere munh ke samne aa gayi. Uski chut mein se thorha thorha pani tapak raha tha. Maine apni jabaan se usko taste kiya. Bahut tasty tha … kuchh meetha aur kuchh namkeen. Main jaldi se uska sweet juice pine lagi aur use chaatne lagi, kabhi main apni jabaan uski chut mein dalti to Lata ka pura badan jhatke khane lagta.

Utne mein Lata bhi busy thi. Maine apni laatein puri chowrhi kar di theen aur Lata ka sar meri chut ko dabaa raha tha. Woh bhi mujhe chaat rahi thi aur mera maal pi rahi thi. 10 minutes ke baad main phir jharh gayi aur mere baad Lata bhi jharhne lagi. Hum dono ek dusre ka juice pite rahe. Kuchh der baad hum alag hue aur bed par ludak parhe.