बदनाम रिश्ते

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories ,erotic stories. Visit skoda-avtoport.ru
rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: बदनाम रिश्ते

Unread post by rajaarkey » 02 Nov 2014 12:01


मेरी तो हालत उसके हाथ के छुने भर से फिर से खराब होने लगी। मेरी समझ में एकदम नही आ रहा था कि क्या करुं। कुछ जवाब देते हुए भी नही बन रहा था कि क्या जवाब दुं। तभी वो हल्का-सा आगे की ओर सरकी और झुकी। आगे झुकते ही उसका आंचल उसके ब्लाउस पर से सरक गया। पर उसने कोई प्रयास नही किया उसको ठीक करने का। अब तो मेरी हालत और खराब हो रही थी। मेरी आंखो के सामने उसकी नारीयल के जैसी सख्त चुचियां जीनको सपने में देख कर, मैने ना जाने कितनी बार अपना माल गीराया था, और जीसको दुर से देख कर ही तडपता रहता था, नुमाया थी। भले ही चुचियां अभी भी ब्लाउस में ही कैद थी, परंतु उनके भारीपन और सख्ती का अंदाज उनके उपर से ही लगाया जा सकता था। ब्लाउस के उपरी भाग से उसकी चुचियों के बीच की खाई का उपरी गोरा-गोरा हिस्सा नजर आ रहा था। हालांकि, चुचियों को बहुत बडा तो नही कहा जा सकता, पर उतनी बडी तो थी ही, जितनी एक स्वस्थ शरीर की मालकिन की हो सकती है। मेरा मतलब है कि इतनी बडी जीतनी कि आप के हाथों में ना आये, पर इतनी बडी भी नही की आप को दो-दो हाथो से पकडनी पडे, और फिर भी आपके हाथ ना आये। एकदम किसी भाले की तरह नुकिली लग रही थी, और सामने की ओर निकली हुई थी। मेरी आंखे तो हटाये नही हट रही थी। तभी राखी ने अपने हाथों को मेरे लंड पर थोडा जोर से दबाते हुए पुछा,
"बोलना, और दबाउं क्या ?"

"हाये,,,,,,राखी, छोडो ना।"

उसने जोर से मेरे लंड को मुठ्ठी में भर लिया।

"हाये राखी, छोडो बहुत गुद-गुदी होती है।"

"तो होने दे ना, तु खाली बोल दबाउं या नही ?"

"हाये दबाओ राखी, मसलो।"

"अब आया ना, रस्ते पर।"

"हाये राखी, तुम्हारे हाथों में तो जादु है।"

"जादु हाथों में है या,,,,,,!!!, या फिर इसमे है,,,,??"
(अपने ब्लाउस की तरफ इशारा कर के पुछा।)

"हाये राखी, तुम तो बस,,,,,?!!"

"शरमाता क्यों है ?,बोलना क्या अच्छा लग रहा है,,?"

"हाय राखी,, मैं क्या बोलुं ?"

"क्यों क्या अच्छा लग रहा है,,,?, अरे, अब बोल भी दे शरमाता क्यों है,,?"

"हाये राखी दोनो अच्छे लग रहे है।"

"क्या, ये दोनो ? "
(अपने ब्लाउस की तरफ इशारा कर के पुछा)

"हां, और तुम्हारा दबाना भी।"

"तो फिर शरमा क्यों रहा था, बोलने में ? ऐसे तो हर रोज घुर-घुर कर मेरे अनारो को देखता रहता है।फिर राखी ने बडे आराम से मेरे पुरे लंड को मुठ्ठी के अंदर कैद कर हल्के-हल्के अपना हाथ चलाना शुरु कर दिया।

"तु तो पुरा जवान हो गया है, रे!"

"हाये राखी,,,,"

"हाये, हाये, क्या कर रहा है। पुरा सांढ की तरह से जवान हो गया है तु तो। अब तो बरदाश्त भी नही होता होगा, कैसे करता है,,,?"

"क्या राखी,,,,?"

"वही बरदाश्त, और क्या ? तुझे तो अब छेद (होल) चाहिये। समझा, छेद मतलब ?"

"नही राखी, नही समझा,,"

"क्या उल्लु लडका है रे, तु ? छेद मतलब नही समझता,,,,?!!"

मैने नाटक करते हुए कहा,
"नही राखी, नही समझता।"

इस पर राखी हल्के-हल्के मुस्कुराने लगी और बोली,
"चल समझ जायेगा, अभी तो ये बता कि कभी इसको (लंड की तरफ इशारा करते हुए) मसल-मसल के माल गीराया है ?"

"माल मतलब,,,!? क्या होता है, राखी,,,?"

"अरे उल्लु, कभी इसमे से पानी गीराया है, या नही ?" "हाय, वो तो मैं हर-रोज गीराता हुं। सुबह-शाम दिनभर में चार-पांच बार। कभी ज्यादा पानी पी लिया तो ज्यादा बार हो जाता है।"

"हाये, दिनभर में चार-पांच बार ? और पानी पीने से तेरा ज्यादा बार निकलता है ? कही तु पेशाब करने की बात तो नही कर रहा ?"

"हां राखी, वही तो मैं तो दिनभर में चार-पांच बार पेशाब करने जाता हुं।"

इस पर राखी ने मेरे लंड को छोड कर, हल्के-से मेरे गाल पर एक झापड लगाई और बोली,
"उल्लु का उल्लु ही रह गया, क्या तु ?"

फिर बोली
"ठहर जा, अभी तुझे दिखाती हुं, माल कैसे निकल जाता है ?"

फिर वो अपने हाथों को तेजी से मेरे लंड पर चलाने लगी। मारे गुद-गुदी और सनसनी के मेरा तो बुरा हाल हो रखा था। समझ में नही आ रहा था क्या करुं। दिल कर रहा था की हाथ को आगे बढा कर राखी की दोनो चुचियों को कस के पकड लुं, और खूब जोर-जोर से दबाउं। पर सोच रहा था कि कहीं बुरा ना मान जाये। इस चक्कर में मैने कराहते हुए सहारा लेने के लिये, सामने बैठी राखी के कंधे पर अपने दोनो हाथ रख दिये। वो उस पर तो कुछ नही बोली, पर अपनी नजरे उपर कर के मेरी ओर देख कर मुस्कुराते हुए बोली,
"क्यों मजा आ रहा है की, नही,,,?"

"हाये राखी, मजे की तो बस पुछो मत। बहुत मजा आ रहा है।"

मैं बोला। इस पर राखी ने अपना हाथ और तेजी से चलाना शुरु कर दिया और बोली,
"साले, हरामी कहीं के !!! मैं जब नहाती हुं, तब घुर-घुर के मुझे देखता रहता है। मैं जब सो रही थी, तो मेरे चुंचे दबा रहा था, और अभी मजे से मुठ मरवा रहा है। कमीने, तेरे को शरम नही आती ?" मेरा तो होश ही उड गया। ये राखी क्या बोल रही थी। पर मैने देखा की उसका एक हाथ अब भी पहले की तरह मेरे लंड को सहलाये जा रहा था। तभी राखी, मेरे चेहरे के उडे हुए रंग को देख कर हसने लगी, और हसते हुए मेरे गाल पर एक थप्पड लगा दिया। मैने कभी भी इस से पहले राखी को, ना तो ऐसे बोलते सुना था, ना ही इस तरह से बर्ताव करते हुए देखा था। इसलिये मुझे बडा आश्चर्य हो रहा था।

पर उसके हसते हुए थप्पड लगाने पर तो मुझे, और भी ज्यादा आश्चर्य हुआ की, आखिर ये चाहती क्या है। और मैने बोला की,
"माफ कर दो राखी, अगर कोई गलती हो गई हो तो।"

इस पर राखी ने मेरे गालों को हल्के सहलाते हुए कहा की,
"गलती तो तु कर बैठा है, बेटे। अब केवल गलती की सजा मिलेगी तुझे।"

rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: बदनाम रिश्ते

Unread post by rajaarkey » 02 Nov 2014 12:02

मैने कहा,
"क्या गलती हो गई मेरे से, राखी ?"

"सबसे बडी गलती तो ये है कि, तु खाली घुर-घुर के देखता है बस, करता-धरता तो कुछ है नही। खाली घुर-घुर के कितने दिन देखता रहेगा ?'

"क्या करुं राखी ? मेरी तो कुछ समझ में नही आ रहा।'

"साले, बेवकूफ की औलाद, अरे करने के लिये इतना कुछ है, और तुझे समझ में ही नही आ रहा है।"

"क्या राखी, बताओ ना ?"

"देख, अभी जैसे कि तेरा मन कर रहा है की, तु मेरे अनारो से खेले, उन्हे दबाये, मगर तु वो काम ना करके केवल मुझे घुरे जा रहा है। बोल तेरा मन कर रहा है, की नही, बोलना ?"

"हाये राखी, मन तो मेरा बहुत कर रहा है।'

"तो फिर दबा ना। मैं जैसे तेरे औजार से खेल रही हुं, वैसे ही तु मेरे सामान से खेल। दबा, दबा।"

बस फिर क्या था मेरी तो बांछे खिल गई। मैने दोनो हथेलियों में दोनो चुंचो को थाम लिया, और हल्के-हल्के उन्हे दबाने लगा।, राखी बोली,
"शाबाश,,,!!!! ऐसे ही दबा ले। जीतना दबाने का मन करे उतना दबा ले, कर ले मजे।" फिर मैं पुरे जोश के साथ, हल्के हाथों से उसकी चुचियों को दबाने लगा। ऐसी मस्त-मस्त चुचियां पहली बार किसी ऐसे के हाथ लग जाये, जीसने पहले किसी चुंची को दबाना तो दूर, छुआ तक ना हो तो बंदा तो जन्नत में पहुंच ही जायेगा ना। मेरा भी वही हाल था, मैने हल्के हाथों से संभल-संभल के चुचियों को दबाये जा रहा था। उधर राखी के हाथ तेजी से मेरे लंड पर चल रहे थे। तभी राखी ने, जो अब तक काफी उत्तेजित हो चुकी थी, मेरे चेहरे की ओर देखते हुए कहा,
"क्यों, मजा आ रहा है ना। जोर से दबा मेरी चुचियों को भाई, तभी पुरा मजा मिलेगा। मसलता जा,,,,देख अभी तेरा माल मैं कैसे निकालती हुं।"

मैने जोर से चुचियों को दबाना शुरु कर दिया था, मेरा मन कर रहा था की मैं राखी का ब्लाउस खोल के चुचियों को नंगा करके उनको देखते हुए दबाउं। इसलिये मैने राखी से पुछा,
"हाये राखी, तेरा ब्लाउस खोल दुं ?"

इस पर वो मुस्कुराते हुए बोली,
"नही, अभी रहने दे। मैं जानती हुं की तेरा बहुत मन कर रहा होगा की तु मेरी नंगी चुचियों को देखे। मगर, अभी रहने दे।"

मैं बोला,
"ठीक है राखी, पर मुझे लग रहा है की मेरे औजार से खुछ निकलने वाला है।"

इस पर राखी बोली,
"कोई बात नही भाई निकलने दे, तुझे मजा आ रहा है ना ?"

"हां राखी, मजा तो बहुत आ रहा है।"

"अभी क्या मजा आया है भाई,,,? अभी तो और आयेगा, अभी तेरा माल निकाल ले फिर देख, मैं तुझे कैसे जन्नत की सैर कराती हुं,,,!!"

"हाये राखी , ऐसा लगता है, जैसे मेरे में से कुछ निकलने वाला है।"

"हाय, निकल जायेगा।"

"तो निकलने दे, निकल जाने दे अपने माल को।",
कह कर राखी ने अपना हाथ और ज्यादा तेजी के साथ चलाना शुरु कर दिया। मेरा पानी अब बस निकलने वाला ही था। मैने भी अपना हाथ अब तेजी के साथ राखी के अनारो पर चलाना शुरु कर दिया था। मेरा दिल कर रह था उन प्यारी-प्यारी चुचियों को अपने मुंह में भर के चुसुं। लेकिन वो अभी संभव नही था। मुझे केवल चुचियों को दबा-दबा के ही संतोष करना था। ऐसा लग रहा था, जैसे कि मैं अभी सातवें आसमान पर उड रहा था। मैं भी खूब जोर-जोर सिसयाते हुए बोलने लगा,
"ओह राखी , हां राखी , और जोर से मसलो, और जोर से मुठ मारो, निकाल दो मेरा सारा पानी।"

पर तभी मुझे ऐसा लगा, जैसे कि राखी ने लंड पर अपनी पकड ढीली कर दी है। लंड को छोड कर, मेरे अंडो को अपने हाथ से पकड के सहलाते हुए राखी बोली,
"अब तुझे एक नया मजा चखाती हुं, ठहर जा।"

और फिर धीरे-धीरे मेरे लंड पर झुकने लगी। लंड को एक हाथ से पकडे हुए, वो पुरी तरह से मेरे लंड पर झुक गई, और अपने होंठो को खोल कर, मेरे लंड को अपने मुंह में भर लिया। मेरे मुंह से एक आह निकल गई। मुझे विश्वास नही हो रहा था की वो ये क्या कर रही है। मैं बोला,
"ओह राखी , ये क्या कर रही हो ? हाय छोडना, बहुत गुद-गुदी हो रही है।"

rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: बदनाम रिश्ते

Unread post by rajaarkey » 02 Nov 2014 12:03



मगर वो बोली,
"तो फिर मजे ले इस गुद-गुदी के। करने दे, तुझे अच्छा लगेगा।"

"हाये राखी , क्या इसको मुंह में भी लिया जाता,,,,,,,,?"

"हां, मुंह में भी लिया जाता है, और दुसरी जगहो पर भी। अभी तु मुंह में डालने का मजा लुट।",
कह कर तेजी के साथ मेरे लंड को चुसने लगी। री तो कुछ समझ में नही आ रहा था। गुद-गुदी और सनसनी के कारण मैं मजे के सातवें आसमान पर झुल रहा था। राखी ने पहले मेरे लंड के सुपाडे को अपने मुंह में भरा और धीरे-धीरे चुसने लगी, और मेरी ओर बडे सेक्षी अंदाज में अपनी नजरों को उठा के बोली,
"कैसा लाल-लाल सुपाडा है रे, तेरा ?! एकदम पहाडी आलु के जैसा। लगता है अभी फट जायेगा। इतना लाल-लाल सुपाडा कुंवारे लडको का ही होता है।"

फिर वो और कस-कस के मेरे सुपाडे को अपने होंठो में भर-भर के चुसने लगी। नदी के किनारे, पेड की छांव में, मुझे ऐसा मजा मिल रहा था, जीसकी मैने आज-तक कल्पना तक नही की थी। राखी , अब मेरे आधे-से अधिक लौडे को अपने मुंह में भर चुकी थी, और अपने होंठो को कस के मेरे लंड के चारो तरफ से दबाये हुए, धीरे-धीरे उपर सुपाडे तक लाती थी। फिर उसी तरह से सरकते हुए नीचे की तरफ ले जाती थी। उसको शायद इस बात का अच्छी तरह से एहसास था की, ये मेरा किसी औरत के साथ पहला संबंध है, और मैने आज तक किसी औरत के हाथो का स्पर्श अपने लंड पर नही महसुस किया है। इसी बात को ध्यान में रखते हुए, वो मेरे लंड को बीच-बीच में ढीला भी छोड देती थी, और मेरे अंडो को दबाने लगती थी। वो इस बात का पुरा ध्यान रखे हुए थी की, मैं जल्दी ना झडुं। मुझे भी गजब का मजा आ रहा था, और ऐसा लग रहा था, जैसे कि मेरा लंड फट जायेगा। मगर मुझसे अब रहा नही जा रहा था। मैने राखी से कहा,
"हाये राखी अब निकल जायेगा। राखी , मेरा माल अब लगता है, नही रुकेगा।"

उसने मेरी बातों की ओर कोई ध्यान नही दिया, और अपनी चुसाई जारी रखी। मैने कहा,
"राखी तेरे मुंह में ही निकल जायेगा। जल्दी से अपना मुंह हटा लो।"

इस पर राखी ने अपना मुंह थोडी देर के लिये हटाते हुए कहा की,
"कोई बात नही, मेरे मुंह में ही निकाल। मैं देखना चाहती हुं की कुंवारे लडके के पानी का स्वाद कैसा होता है।"

और फिर अपने मुंह में मेरे लंड को कस के जकडते हुए, उसने अब अपना पुरा ध्यान केवल, मेरे सुपाडे पर लगा दिया, और मेरे सुपाडे को कस-कस के चुसने लगी, उसकी जीभ मेरे सुपाडे के कटाव पर बार-बार फिरा रही थी। मैं सिसयाते हुए बोलने लगा,
"ओह राखी , पी जाओ तो फिर। चख लो मेरे लंड का सारा पानी। ले लो अपने मुंह में। ओह, ले लो, कितना मजा आ रहा है। हाय, मुझे नही पता था की इतना मजा आता है। हाये निकल गया,,,,, निकल गया, हाये राखी निकलाआआ,,,,,,!!!"तभी मेरे लंड का फौवारा छुट पडा, और तेजी के साथ भलभला कर मेरे लंड से पानी गीरने लगा। मेरे लंड का सारा का सारा पानी, सीधे राखी के मुंह में गीरता जा रहा था। और वो मजे से मेरे लंड को चुसे जा रही थी। कुछ देर तक लगातार वो मेरे लंड को चुसती रही। मेरा लौडा अब पुरी तरह से उसके थुक से भीग कर गीला हो गया था, और धीरे-धीरे सीकुड रहा था। पर उसने अब भी मेरे लंड को अपने मुंह से नही निकाला था और धीरे-धीरे मेरे सीकुडे हुए लंड को अपने मुंह में किसी चोकलेट की तरह घुमा रही थी। कुछ देर तक ऐसा ही करने के बाद, जब मेरी सांसे भी कुछ शांत हो गई, तब राखी ने अपना चेहरा मेरे लंड पर से उठा लिया और अपने मुंह में जमा, मेरे विर्य को अपना मुंह खोल कर दिखाया और हल्के से हस दी। फिर उसने मेरे सारे पानी को गटक लिया और अपनी साडी के पल्लु से अपने होंठो को पोंछती हुई बोली,
"हाये, मजा आ गया। सच में कुंवारे लंड का पानी बडा मिठा होता है। मुझे नही पता था की, तेरा पानी इतना मजेदार होगा ?!!"

फिर मेरे से पुछा,
"मजा आया की नही ?"