Marwar ki mast malaai-मारवाड़ की मस्त मलाई compleet

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories ,erotic stories. Visit skoda-avtoport.ru
rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: Marwar ki mast malaai-मारवाड़ की मस्त मलाई

Unread post by rajaarkey » 13 Dec 2014 17:02

मारवाड़ की मस्त मलाई पार्ट --26



गतांक से आगे........................

पिंकी की प्रेग्नेन्सी के चलते उसको डॉक्टर ने चुदवाने से मना किया था इसी लिए वो नीचे पीठ के बल लेट गयी और सुनीता आंटी उसके ऊपेर 69 की पोज़िशन मे आ गयी. पिंकी के पैर मुड़े हुए थे और आंटी पिंकी के ऊपेर झुकी उसकी चिकनी चूत को मज़े ले ले के चाट रही थी. आंटी की गुलाबी चूत और छोटे से गंद के सुराख को देख के मेरे लंड मे तनाव कुछ और बढ़ गया. मैं आंटी के पीछे आ गया और आंटी को थोड़ा आगे किया जिसके चलते पिंकी का मूह उनकी चूत से हट गया और मैं ने पिंकी के मूह मे अपना लंड डाल दिया जिसे वो बड़े मज़े से चूसने लगी. यह देख के आंटी अपनी जगह से उठी और पिंकी के बदन के दोनो तरफ अपने पैर रख के मेरे सामने खड़ी हो गयी और मेरे मूह पे अपनी चूत को लगा दिया जिसे मैं चूमने और चाटने लगा. आंटी अपने दोनो हाथ मेरे सर पे रख के मेर मूह के अंदर अपनी चूत घुसेड रही थी और इतनी मस्ती मे थी के अपनी गंद को आगे पीछे कर के मेरे मूह को ज़ोर ज़ोर से चोदना शुरू कर दिया और उनकी सेन्सिटिव क्लाइटॉरिस से मेरे दाँत कीरगड़ खाते ही उनकी आँखें बंद होगयी और अपनी गंद को पीछे कर के मेरे सर को टाइट पकड़ के एक ज़ोर का झटके से अपनी चूत को मेरे मूह मे दबा दिया, उनकी आँखें बंद हो गयी और उनका बदन अकड़ गया और वो मेरे सर को अपनी चूत मे दबाए हुए झड़ने लगी और मैं उनकी चूत का रस पीने लगा. इधर जैसे जैसे आंटी मेरे मूह मैं झटके मार मार के मेरे मूह को चोद रही थी उसी के चलते मेरा लंड पिंकी के मूह की ऑटोमॅटिक चुदाई करने लगा. पिंकी को बोहोत दीनो से मेरा मूसल नही मिला था इसी लिए वो बड़ी मस्ती और बड़ी तेज़ी से और मज़े से मेरा लंड किसी मीठे मीठे लॉली पोप की तरह से चूस रही थी. मेरे लंड को भी 2 दिन से कोई चूत चोदने को नही मिली थी इसी लिए अब मुझे लगा के मेरी मलाई निकलने वाली है और मेरे बॉल्स मे उबाल आने लगा है तो मैं और तेज़ी से पिंकी के मूह को चोदने लगा और एक फाइनल झटका मार के अपने लंड को पिंकी के हलक के अंदर तक उतार दिया जिसके चलते उसकी आँखें बाहर को निकल गयी और वो गग्ग्गूऊव गग्ग्घह की आवाज़ें निकालने लगी और मेरे लंड से गरम मलाई की धारियाँ निकल निकल के डाइरेक्ट पिंकी के पेट मे गिरने लगी जिसे उसने एक बूँद ज़ाए किए बिना एक एक बूँद चाट ली.

पिंकी की चूत आंटी के चाटने से और मेरे लंड को चूसने से पिंकी बोहोत ही चुदसी हो गयी थी और अब बोल रही थी के राजा प्लीज़ मुझे चोद डालो मे नही रह सकती तुम्हारे लंड के बिना मैं तुम्हारे पाव पड़ती हू राजा प्लीज़ मुझे चोद के मेरी गरम चूत की आग को शांत करदो तो मैं ने बोला के ठीक है तुम्हारी चूत की प्यास को भी बुझा दूँगा पर थोडा वेट करो क्यों के मैं चाहता हू के तुम पूरी सावधानी बर्तो और मैं ने सोचा है के मैं अपनी प्यारी आंटी को चोद्ता हू और जब मेरी मलाई निकलने वाली रहेगी तो तुम्हारी चूत को चोद के उसके अंदर अपनी मलाई डाल दूँगा तो वो थोड़ी सी ना नू के बाद तय्यार हो गयी.

इतनी देर मे आंटी भी बिस्तर पे चढ़ के पिंकी के बगल मे पीठ के बल लेट चुकी थी तो मैं ने उनसे बोला के आंटी आप पेट के बल लेटो और पिंकी अभी तक नही झड़ी है आप उसकी चूत को चाट चाट के झाड़ा दो. पिंकी अपनी टाँगें खोल के पीठ के बल चित लेट गयी और आंटी अपने पैर पीछे कर के अपने मूह को पिंकी की चूत से सटा के उल्टा लेट गयी और उसकी चूत को अपनी जीभ से चाटने लगी तो फॉरन ही पिंकी ने आंटी का सर पकड़ के अपनी चूत मे घुसा लिया और अपनी गंद उठा उठा के अपनी सास के मूह मे अपनी चूत घुसेड के रगड़ने लगी. वाह क्या सीन था दोस्तो सास अपनी बहू की चूत को चाट रही थी और खुद किसी और से चुदवा रही है. आंटी पेट के बल लेटी थी और उन्हो ने थोड़ा सा अपने घुटनो पे वज़न डाल के अपनी गंद ऊपेर को उठा दी थी. मैने आंटी के दोनो पैरो को थोडा सा खोल दिया और उनके बीच मे अपने पैर पीछे को लंबे कर के आंटी के पीठ पे लेट गया. मेरा लंड तो पिंकी के थूक से बोहोत गीला हो चुका था. आंटी की कमर को पकड़ के उनकी गंद को थोड़ा ऊपेर उठा दिया. ऐसी पोज़िशन मे आंटी की चूत किसी डबल रोटी की तरह से फूली हुई लग रही थी, चूत के मोटी पंखाड़ियान लाल हो गयी थी और दोनो पंखदिओं के बीचे से उनकी छोटी सी क्लाइटॉरिस अभी अभी के ऑर्गॅज़म से फूल पिचक रही थी. आंटी की गंद थोड़ी ऊपेर उठी हुई थी और मैं उनके ऊपेर लेट के उनकी नेक पे किस कर रहा था और उनके बदन के नीचे हाथ डाल के उनके बूब्स को दबा रहा था और मसल रहा था. आंटी को अपनी चूत पे मेरे लंड का सूपड़ा महसूस हो रहा था तो आंटी ने अपना एक हाथ अपने बदन के नीचे डाल के मेरे लंड के डंडे को पकड़ लिया और अपनी चूत को थोड़ा पीछे धकेल जिसके चलते लंड का चिकना सूपड़ा उनकी गीली चूत मे घुस गया तो आंटी अपनी ऊट के अंदर लंड के सूपदे को ऊपेर नीचे कर के घिसने लगी. लंड से प्री कम निकल रहा था और आंटी अब फुल मस्ती मे आ चुकी थी और मेरे से धीमी आवाज़ मे बोली के चोद डाल राजा चोद डाल मेरी चूत को क्या देख रहा है रे देख मेरी चूत तय्यार है भट्टी

जैसी गरम हो गयी है. मेरे दोनो हाथ आंटी के बूब्स पे थे और मैं मसल रहा था. बूब्स पे से हाथ हटा के उनके शोल्डर्स को पकड़ लिया तो आंटी समझ गयी के अब उनकी चूत मे मूसल घुसने वाला है तो वो अपने मूह को एक बार फिर पिंकी के चूत पे रख के चाटने लगी. मेरा एक ही पवरफुल झटका लगा और पूरे का पूरा लंड आंटी की चूत को चीरता हू जड़ तक अंदर घुस के उनकी बचे दानी से टकरा गया तो उनके मूह से एक सस्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्सस्स उउउउउउउउह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्

ह्ह जैसी सिसकारी निकली और जोश मे उन्हो ने पिंकी की चूत को अपने दांतो से काट डाला तो पिंकी भी मज़े से आआआआहह ऊऊईईईई म्‍म्म्ममाआआआआ जैसी आवाज़ें निकालने लगी और अपनी गंद थोड़ी और ऊपेर उठा के आंटी के मूह को चोदने लगी. मैं इधर आंटी की गरम चूत को चोद रहा था और आंटी उल्टा लेटी अपनी बहू की चूत को मज़े से चाट रही थी. मेरी चुदाई के धक्को से जो आंटी आगे पीछे हो रही थी तो उसी ताल से ताल मिलाते हुए उनका मूह भी पिंकी की चूत मे आगे पीछे हो रहा था. आंटी की जीभ बाहर निकली हुई थी और धक्को से ऑटोमॅटिकली पिंकी की चूत को चाते जा रही थी. सास और बहू दोनो मस्ती मे सेक्स का मज़ा ले रहे थे. अब मेरे धक्के तेज़ होने लगे थे. मैं दीवानो की तरह से आंटी को चोद रहा था जिसके चलते अब आंटी भी बोहोत तेज़ रफ़्तार से पिंकी की चूत को चाट रही थी. आंटी और पिंकी दो तीन टाइम अपना जूस छोड़ चुके थे. मैं ने एक इतना पवरफुल झटका आंटी की चूत के अंदर मारा तो आंटी का बॅलेन्स आउट हो गया ऐसा लगा जैसे के मैं ने आंटी को ज़ोर से धकेल दिया और वो इतनी ज़ोर से आगे की ओर चली गयी और पिंकी के ऊपेर गिर गयी और मैं अपने ही फोर्स मे आगे आ गया और पोज़िशन ऐसी बन गयी के अब आंटी की चूत पिंकी के मूह के सामने हो गयी और पिंकी के चूत के सामने मेरा लंड लहराने लगा. जैसे ही पिंकी ने अपनी सास की डबल रोटी की तरह से फूली हुई लाल चूत अपने मूह के सामने देखी तो फॉरन आंटी की गंद को पकड़ के अपने ऊपेर दाब लिया और अपनी सास की चूत को चाटने लगी. इधर मेरा लंड आंटी की चूत को इतनी ज़ोर की ठोकर मार चुका था के उनकी चूत से जूस निकलता ही चला गया और वो झड़ती चली गयी और उनकी चूत से जैसे ज्वाला मुखी फूट पड़ा और उनका बदन अकड़ गया और अपनी चूत को अपनी बहू के मूह पे रख के आगे पीछे करने लगी और झड़ती ही चली गयी. झटके से जैसे ही आंटी का बॅलेन्स आउट हुआ, मेरा बॅलेन्स भी आउट हुआ और मैं सामने की तरफ आ गया. मेरे दोनो हाथ पिंकी के दोनो बदन के तरफ आ गये और झुक के मैं ने एक ही झटके मे अपने लंड को पिंकी की गीली चूत के अंदर घुसेड दिया. वो मस्ती मे चिल्ला पड़ी उउउउउउउउउउईईईईईईईईई म्‍म्म्मममममममाआआआ र्र्र्र्र्राआआआज्ज्ज्ज्ज्ज्ज्ज्ज्ज्ज्ज्ज हहाआआईईईई म्‍म्म्ममाआआज़्ज़्ज़्ज़्ज़ाआअ आआआ गग्ग्गाआआयययययाआ और जैसे ही मेरा लंड उसकी बचे दानी से

टकराया, उसकी नाज़ुक चूत मेरे झटके को बर्दाश्त नही कर पाई और उसकी प्रेग्नेंट चूत से जूस बहने लगा और उसका ऑर्गॅज़म शुरू हो गया और फिर चार पाँच मिनिट तक पिंकी की गीली चूत को चोद्ता रहा और वो मज़े से सस्स्स्स्स्स्सस्स आआआअहह र्र्र्र्ररराआआआजजजज्ज्ज आऐईसीए ह्हियियी कककचहूऊओद्दद्दूव हहाआईई रररीई म्‍म्मीर्ररिई चहूऊतततत गग्ग्गाआयईए और ऐसी ही मस्त सेक्सी आवाज़ेन्निकल ती रही और मस्ती से चुदवाति रही. मैं घचा गच उसकी चूत को मूसल से चोद्ता रहा और फिर 5 मिनिट की चुदाई के अंदर ही मेरे झटको से मेरे लंड ने भी मलाई का गरम गरम फव्वारा छोड़ दिया और मेरी गरम मलाई अपनी चूत के अंदर गिरती महसूस कर ते ही उसकी चूत से एक बार फिर से जूस निकल गया और वो गहरी गहरी साँसें लेती हुई हाथ पैर ढीले छोड़ के लेट गयी तो मैं फॉरन ही अपना लंड उसकी चूत से बाहर निकाल के उसकी बगल मे लेट गया क्यॉंके वो प्रेग्नेंट थी और मेरा वज़न उसके बदन पे पड़ने से उसको दरद हो सकता था. उधर आंटी की हालत भी ढीली हो गयी थी वो पिंकी के मूह मे अपनी चूत रखे गहरी साँसें लेते हुए लेती हुई झाड़ चुकी थी.

कमरे मे चुदाई की खुसभू फैल रही थी और महॉल चुदसी हो रहा था. हम तीनो बिस्तर पे नंगे पड़े गहरी गहरी साँसें लेते हुए आँखें बंद किए लेटे रहे. जब ऑर्गॅज़म का असर ख़तम हुआ तो आंटी जो पिंकी के मूह पे चूत दबाए लेटी थी वो अब सरक के नीचे की तरफ आ गयी और मेरे साइड मे लेट गयी. ऐसी पोज़िशन थी के हम तीनो नंगे थे और पिंकी और आंटी के बीचे मे मैंलेटा था. आंटी और पिंकी ने अपने अपने हाथ मेरे लंड पे रखे और दोनो मिल के मेरे लंड को मसल ने लगे. आज की चुदाई तो बड़ी ही घमासान चुदाई थी यह दोनो चूते मुझे बहुत दीनो के बाद चोदने को मिली थी तो मैं ने भी दीवानो की तरह से चोद डाला दोनो चूतो को. अब मुझे बोहोत भूक लगने लगी थी. सामने देखा तो टेबल पे डिन्नर रेडी रखा था. पिंकी ने बोला के वो लाला के साथ डिन्नर कर चुकी है और आंटी मेरा वेट कर रही है. मैं और आंटी नंगे ही टेबल पे आ गये और खाना खाने लगे. पिंकी हमै डिन्नर सर्व कर रही थी क्यों के सारे नौकर जा चुके थे और जो घर मे थे उनको मेरे बारे मे कुछ मालूम नही था.

आंटी और मैं पहले बाथरूम मे गये और दोनो ने एक दूसरे को साबुन से अछी तरह से रगड़ रगड़ के नहलाया. आंटी मेरे लंड को साबुन लगा के अछी तरह से मालिश किया तो मेरा लंड एक बार फिर से अकड़ने लगा तो आंटी ने मेरे लंड को ज़ोर से दबा दिया और बोली के वाह राजा भगवान ने क्या ऑयटर दिया है रे तेरे को

ऐसे मस्त लंड से तो कोई भी लड़की चुदवाने को कभी भी तय्यार हो जाए तो मैं ने आंटी को प्यार किया और बोला के मेरी प्यारी आंटी जान को मेरा लंड पसंद आया बॅस यही काफ़ी है. फिर मैं ने भी आंटी की चूत मे साबुन लगा के धोया उसके बाद एक दूसरे को टवल से ड्राइ कर के बाथरूम से बाहर निकल आए तो देखा के पिंकी गहरी नींद सो चुकी थी और उसके बूब्स ऊपेर नीचे होते हुए बोहोत ही हसीन लग रहे थे. उसके बूब्स मे अब दूध भरने लगा था इसी लिए वो थोड़े बड़े हो गये थे और पर्फेक्ट शेप मे थे. उसके निपल्स भी थोड़े बड़े हो रहे थे शाएद प्रेग्नेन्सी का असर था. पिंकी जब से प्रेग्नेंट हुई थी कुछ ज़ियादा ही सुन्दर लगने लगी थी. उसका चेहरा किसी चौदहवी के चाँद की तरह से चमकने लगा था. दोस्तो यह बात सच है के औरत जब मा बनने वाली होती है तो उसकी खूबसूरती और बढ़ जाती है.

खाना सोफे के सामने पड़ी सेंटर टेबल पे रखा था तो टेबल को थोड़ा करीब खेच लिया. आंटी मेरे राइट साइड मे बैठी थी और मैं उनके लेफ्ट साइड मे. आंटी ने एक ही प्लेट मे खाना निकाला, मैं समझ रहा था के मेरे लिए भी निकालेगी पर नही निकाला तो मैं थोड़ा वेट करने लगा के देखते है आंटी मेरे लिए खाना परोसती है या नही. उतने मैं आंटी अपनी प्लेट मे से अपने हाथ मे पूरी भाजी उठाई और मुस्कुराते हुए पहले तो मेरे तन तनाते हुए लंड के अतराफ् गोल गोल घुमाया और फिर अपने मूह मैं आधा नीवाला रख लिया और मेरी तरफ झुक गयी और अपने मूह को मेरी तरफ कर दिया तो मैं अपना मूह उनके मूह के सामने लाया और उनके मूह से आधा नीवाला तोड़ के खाया और आंटी ने उसी टाइम पे मेरे को किस करना चालू कर दिया. आंटी ने शराब की बॉटल उठाई और ग्लास फुल कर दिया और हर नीवाले के साथ एक एक चुस्की विस्की की लेटी रही. अब आंटी ने मेरे लंड को पकड़ लिया और मूठ मारने लगी और अपने मूह मे खाना रख रख के मुझे भी खिलाती रही और खुद भी खाती रही. आंटी का हाथ मेरे लंड पे रखते ही उसके अंदर एक एलेक्ट्रिसिटी दौड़ गयी और वो जोश मे लहराने लगा तो आंटी ने लंड के पकड़ के दबाया और बोला के थोड़ी देर ठहर जा बेटा मुझे पता है के तुझे भी भूक लगी हुई है थोड़ा वेट कर तुझे अभी चूत खिलाती हू और ऐसे पुचक़ारने लगी जैसे कोई छोटे बच्चे को पुचकारता है. मेरा हाथ तो फ्री था तो मैं भी अपना हाथ बढ़ा के आंटी की चूत की मसाज करने लगा तो आंटी की टाँगें खुल गयी और अब मैं आंटी की क्लाइटॉरिस की मसाज कर रहा था और साथ ही चूत के सुराख मे उंगली भी कर रहा था. थोड़ी ही देर मे आंटी के मूह से एक सिसकारी निकली उउउउउउउउउउह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह और उनकी चूत काँपते हुए झड़ने लगी.

झड़ना बंद होने तक बिना नीवाला खिलाए आंटी थोड़ी देर तक ऐसे ही सोफे पे पसर के बैठी रही और जब उनका ऑर्गॅज़म ख़तम हो गया तो वो अपनी जाग से उठी और मुझे बगल से पकड़ के उठाया और टेबल के करीब जो कुर्सी बिना हाथ वाली रखी थी उसपे बिठा दिया. कुर्सी के बैठने की जगह इतनी थी के बस चूतड़ ही समा सकते थे. यह ऑलमोस्ट एक टाइप का स्टूल ही था लैकिन इस्पे बॅक रेस्ट भी था इसी लिए कुर्सी जैसी लगती थी. मैं वो बिना हाथो वाली कुर्सी पे बैठ के पीछे टेका लगाया तो मेरा लंड कुछ और ऊपेर उठ गया और बिलकूम किसी एलेक्ट्रिक पोले की तरह से खड़ा हो गया. आंटी मेरे रनो के दोनो तरफ अपने पैर रख के मेरे लंड पे बैठने लगी तो मैं ने लंड के सूपदे को उनकी चूत से सुराख से सटा दिया. आंटी की चूत ऑर्गॅज़म से गीली हो चुकी थी और पैर फैलने से चूत थोड़ी खुल गयी थी इसी लिए लंड आसानी से उनकी चूत के अंदर घुसने लगा फिर भी उनकी चूत टाइट ही थी. आंटी जब मेरे लंड पे अछी तरह से बैठ गयी तो उनको लंड अपने पेट के बोहोत अंदर तक महसूस होने लगा. लंड के अंदर घुसने तक तो आंटी के मूह से सस्स्स्स्स्स्स्स्स्स्सस्स की आवाज़ निकल रही थी और जब लंड पूरी तरह से उनकी चूत के अंदर घुस चुका तो उनके चेहरे पे इतमीनान झलकने लगा. आंटी कभी मेरे लंड पे उछल कूद करती चुदवाति तो कभी प्लेट मे से खाना ले के अपने मूह मे रख के मुझे खिलाती. जितनी देर मैं खाना नही खा रहा होता आंटी के बूब्स को चूस्ता रहता. इस उमर मे भी उनके चुचियाँ बड़ी मस्त थी गुलाबी निपल्स के साथ. मुझे मेरे लंड पे आंटी की चूत सिकुद्ती फूलती महसूस होती रही. आंटी कभी खाना खाती तो कभी शराब पीती. मैं ने पूछा कैसा लग रहा है आंटी तो मुझे चूमते हुए बोली के अरे मेरे राजा क्या बताउ तुझे कैसा लग रहा है मुझे ऐसा लग रहा है जैसे मैं स्वर्ग मे पहुँच गयी हू. मेरे कू तेरा यह मस्त लौदा हमेशा के लिए दे दे रे मैं तेरे लिए अपनी जान लूटा दूँगी मेरी सारी दौलत लेले पर मेरे कू तेरा यह लौदा दे दे तो मैं ने बोला के आंटी यह आपका ही तो है आपको जब चाहिए ले लो. आंटी के उछल कूद करने से मैं भी बोहोत ही जोश मे आ गया था और अब आंटी को नीचे डाल के ज़ोर दार तरीके से चोदना चाहता था. मैं ने आंटी को अपने ऊपेर से उठाया तो बोली के क्या हुआ रहने दे ना तो मैं ने बोला के नही आंटी अब मुझे चोदना है यह चूत को तो आंटी खुश हो गयी और बोली के ले ले मेरे राजा यह चूत हमेशा से तेरी ही है जब चाहे मार लिया कर.

मैं ने आंटी को उठाया और उनको कुर्सी पे बिठा दिया और उनकी टाँगो के बीच बैठ के उनकी चूत को चाटने लगा. उनकी चूत मेरे लंड को अंदर रखे ही रखे एक बार फिर से अंदर ही अंदर झाड़ चुकी थी इसी लिए उनकी चूत गीली हो गयी थी. मेरा

मूह आंटी की चूत से लगते ही उनकी टाँगें एक बार फिर से खुल गयी और मेरे सर को पकड़ के अपनी चूत के अंदर दबा लिया और कुर्सी से अपनी गंद उठा उठा के मेरे मूह को चोदने लगी और थोड़ी ही देर मे इतनी मस्ती मे आ गयी के कुर्सी से खड़ी हो गयी और खड़े खड़े ही अपनी गंद आगे पीछेकर के मेरे मूह को चोदने लगी और फाइनली मेरे सर को पकड़ के अपनी चूत मे बोहोत ज़ोर से दबा लिया और मेरे मूह मे ही झड़ने लगी. मैं उनकी चूत का रस मज़े ले के पीता रहा. झड़ने के बाद आंटी शांत हो गयी थी तो मैं अपनी जगह से खड़ा हो गया और आंटी की एक टांग को कुर्सी पे रख दिया और खड़े खड़े ही उनकी गीली चूत के अंदर लंड को घुसा दिया और चोदने लगा. ऑंटी मेरे से लिपट गयी और जो टांग कुर्सी पे थी उसको मेरी कमर पे लपेट लिया. मैं आंटी की गंद पकड़ के थोड़ा उठाया तो उन्हो ने दूसरी टांग भी फरश से उठा के मेरी कमर पे लपेट ली. अब आंटी की गंद हवा मे थी और मैं अपने दोनो हाथ आंटी की गंद के नीचे रख के उनकी खुली चूत की चुदाई करने लगा. थोड़ी ही देर मे मेरे धक्को की स्पीड बढ़ने लगी और मैं उनकी चूत को धना धन चोदने लगा. पूरा लंड हेड तक निकाल निकाल के ज़ोर ज़ोर से चोद रहा था और मुझे मेरा लंड उनकी बच्चे दानी से टकराता महसूस हो रहा था और हर झटके के साथ आंटी का बदन काँप जाता और वो मेरे से और ज़ियादा ज़ोर से चिपेट जाती. मेरे धक्को की स्पीड बढ़ गयी थी और मेरी क्रीम बस अब निकलने ही वाली थी के आंटी एक बार फिर से झड़ने लगी और उनके हाथ पैर ढीले पद गये और इसी के चलते आंटी की ग्रिप मेरी गर्दन पे ढीली पड़ी और वो नीचे स्लिप हो गयी और मेरा लंड उनकी चूत से बाहर निकल आया. आंटी मेरे बदन से स्लिप हो के नीचे उतेरी और मेरे लंड से क्रीम का फव्वारा छूटने ही वाला था के मेरी नज़र टेबल पे रखे शराब के ग्लास पे पड़ी जिस्मै विस्की फुल थी तो मैं ने ग्लास उठा लिया और अपने लंड को विस्की के अंदर घुसा दिया और मेरे लंड से मलाई निकल के ग्लास के पेन्दे मे जमा होने लगी. लंड से निकली मलाई गाढ़ी थी इसी लिए ग्लास के बॉटम मे जमी रही.

--

साधू सा आलाप कर लेता हूँ ,

मंदिर जाकर जाप भी कर लेता हूँ ..

मानव से देव ना बन जाऊं कहीं,,,,

बस यही सोचकर थोडा सा पाप भी कर लेता हूँ

आपका दोस्त

राज शर्मा

(¨`·.·´¨) ऑल्वेज़

`·.¸(¨`·.·´¨) कीप लविंग &

(¨`·.·´¨)¸.·´ कीप स्माइलिंग !

`·.¸.·´ -- राज

Mast Marwari Malaai ( MMM )--paart--26

Pinky ki pregnancy ke chalte usko doctor ne chudwane se mana kia tha isi liye wo neeche peeth ke bal let gayi aur Sunita Aunty uske ooper 69 ki position mai aa gayee. Pinky ke pair mude hue the aur aunty pinky ke ooper jhuki uski chikni choot ko maze le le ke chaat rahi thi. Aunty ki gulabi choot aur chote se gand ke surakh ko dekh ke mere Lund mai tanao kuch aur badh gaya. Mai aunty ke peeche aa gaya aur aunty ko thoda aage kia jiske chalte pinky ka muh unki choot se hat gaya aur mai ne pinky ke muh mai apna Lund dal dia jise wo bade maze se choosne lagi. Yah dekh ke aunty apni jagah se uthi aur pinky ke badan ke dono taraf apne pair rakh ke mere samne khadi ho gayee aur mere muh pe apni choot ko laga dia jise mai choomne aur chatne laga. Aunty apne dono hath mere sar pe rakh ke mer muh ke ander apni choot ghused rahi thi aur itni masti mai thi ke apni gand ko aage peeche kar ke mere muh ko zor zor se chodna shuru kar dia aur unki sensitive clitoris se mere dant ragad khate hi unki aankhein band hogayee aur apni gand ko peeche kar ke mere sar ko tight pakad ke ek zor ka jhatke se apni choot ko mere muh mai daba dia, unki aankhein band ho gayee aur unka badan akad gaya aur wo mere sar ko apni choot mai dabaye hue jhadne lagi aur mai unki choot ka rass peene laga. Idhar jaise jaise aunty mere muh mai jhatke mar mar ke mere muh ko chod rahi thi usi ke chalte mera Lund pinky ke muh ki automatic chudai karne laga. Pinky ko bohot dino se mera musal nahi mila tha isi liye wo badi masti aur badi tezi se aur maze se mera Lund kisi meethe meethe lolly pop ki tarah se choos rahi thi. Mere Lund ko bhi 2 din se koi choot chodne ko nahi mili thi isi liye ab mujhe laga ke meri malayee nikalne wali hai aur mere balls mai ubaal aane laga hai to mei aur tezi se pinky ke muh ko chodne laga aur ek final jhatka maar ke apne Lund ko pinky ke halak ke ander tak utar dia jiske chalte uski aankhein baher ko nikal gayee aur wo ggggooooo gggghhhhh ki awazein nikalne klagi aur mere Lund se garam malayee ki dhariyan nikal nikal ke direct pinky ke pet mei girne lagi jise usne ek boond zaye kiye bina ek ek boond chaat li.

Pinky ki choot Aunty ke chaatne se aur mere Lund ko choosne se Pinky bohot hi chudasi ho gayee thi aur ab bol rahi thi ke Raja please mujhe chod dalo mai nahi reh sakti tumhare Lund ke bina mai tumhare pau padti hu raja please mujhe chod ke meri garam choot ki aag ko shant kardo to mai ne bola ke theek hai tumhari choot ki pyas ko bhi bujha dunga par thoda wait karo kyon ke mai chahta hu ke tum poori savdhani barto aur mai ne socha hai ke mai apni pyari aunty ko chodta hu aur jab meri malayee nikalne wali rahegi to tumhari choot ko chod ke uske ander apni malayee dal dunga to wo thodi si na nu ke bad tayyar ho gayi.

Itni der mai Aunty bhi bistar pe chadh ke Pinky ke baghal mai peeth ke bal let chuki thi to mai ne unse bola ke aunty aap pet ke bal leto aur Pinky abhi tak nahi jhadi hai aap uski choot ko chaat chaat ke jhada do. Pinky apni tangein khol ke peeth ke bal chhit let gayee aur aunty apne pair peeche kar ke apne muh ko Pinky ki choot se sata ke ulta let gayee aur uski choot ko apni jeebh se chaatne lagi to foran hi Pinky ne aunty ka sar pakad ke apni choot mai ghusa lia aur apni gand utha utha ke apni saas ke muh mai apni choot ghused ke ragadne lagi. Waah kia scene tha dosto saas apni bahu ki choot ko chaat rahi thi aur khud kisi aur se chudwa rahi hai. Aunty pet ke bal leti thi aur unho ne thoda sa apne ghutno pe wazan dal ke apni gand ooper ko utha di thi. Mai aunty ke dono pairo ko thoda sa khol dia aur unke beech mai apne pair peeche ko lambe kar ke aunty ke peeth pe let gaya. Mera Lund to Pinky ke thook se bohot geela ho chuka tha. Aunty ki kamar ko pakad ke unki gand ko thoda ooper utha dia. Aisi position mai aunty ki choot kisi double roti ki tarah se phooli hui lag rahi thi, choot ke mote pankhadiyan laal ho gaye the aur dono pankhadion ke beeche se unki choti si clitoris abhi abhi ke orgasm se phool pichak rahi thi. Aunty ki gand thodi ooper uthi hui thi aur mai unke ooper let ke unke neck pe kiss kar raha tha aur unke badan ke neeche hath dal ke unke boobs ko daba raha tha aur masal raha tha. Aunty ko apni choot pe mere Lund ka supada mehsoos ho raha tha to aunty ne apna ek hath apne badan ke neeche dal ke mere Lund ke dande ko pakad lia aur apni choot ko thoda peeche dhakel jiske chalte Lund ka chikna supada unki geeli choot mai ghus gaya to aunty apni choot ke ander lund ke supade ko ooper neeche kar ke ghisne lagi. Lund se pre cum nikal raha tha aur aunty ab full masti mai aa chuki thi aur mere se dheemi awaz mai boli ke chod dal raja chod dal meri choot ko kia dekh raha hai re dekh meri choot tayyar hai bhatti

jaisi garam ho gayee hai. Mere dono hath aunty ke boobs pe the aur mai masal raha tha. Boobs pe se hath hata ke unke shoulders ko pakad lia to aunty samajh gayee ke ab unki choot mai musal ghusne wala hai to wo apne muh ko ek bar phir Pinky ke choot pe rakh ke chaatne lagi. Mera ek hi powerful jhatka laga aur poore ka poora Lund aunty ki choot ko cheerta hu jad tak ander ghus ke unki bache dani se takra gaya to unke muh se ek ssssssssssssssss uuuuuuuuhhhhhhhhhhhhh jaisi siskari nikli aur josh mai unho ne pinky ki choot ko apne dato se kaat dala to Pinky bhi maze se aaaaaaaahhhhhhhhh ooooeeeeeeeee mmmmmaaaaaaaaaa jaisi awazein nikalne lagi aur apni gand thod aur ooper utha ke aunty ke muh ko chodne lagi. Mai idhar aunty ki garam choot ko chod raha tha aur aunty ulta leti apni bahu ki choot ko maze se chaat rahi thi. Meri chudai ke dhakko se jo aunty aage peeche ho rahi thi to usi taal se taal milate hue unka muh bhi pinky ki choot mei aage peeche ho raha tha. Aunty ki jeebh baher nikli hui thi aur dhakko se automatically pinky ki choot ko chaate ja rahi thi. Saas aur Bahu dono masti mai sex ka maza le rahe the. Ab mere dhakke tez hone lage the. Mai deewano ki tarah se aunty ko chod raha tha jiske chalte ab aunty bhi bohot tez raftaar se pinky ki choot ko chaat rahi thi. Aunty aur pinky do teen time apna juice chhor chuke the. Mai ne ek itna powerful jhatka aunty ki choot ke ander mara to aunty ka balance out ho gaya aisa laga jaise ke mai ne aunty ko zor se dhakel dia aur wo itni zor se aage ki or chali gayee aur Pinky ke ooper gir gayee aur mai apne hi force mai aage aa gaya aur position aisi ban gayee ke ab aunty ki choot Pinky ke muh ke samne ho gayee aur pinky ke choot ke samne mera lund lehrane laga. Jaise hi pinky ne apni saas ki double roti ki tarah se phooli hui laal choot apne muh ke samne dekhi to foran aunty ki gand ko pakad ke apne ooper dab alia aur apni saas ki choot ko chaatne lagi. Idhar mera Lund aunty ki choot ko itni zor ki thokar mar chuka tha ke unki choot se juice nikalta hi chala gaya aur wo jhadti chali gayee aur unki choot se jaise jwala mukhi phoot pada aur unka badan akad gaya aur apni choot ko apni bahu ke muh pe rakh ke aage peche karne lagi aur jhadti hi chli gayee. Jhakte se jaise hi aunty ka balance out hua, mera balance bhi out hua aur mai saamne ki taraf aa gaya. Mere dono hath pinky ke dono badan ke taraf aa gaye aur jhuk ke mai ne ek hi jhatke mai apne Lund ko pinky ki geeli choot ke ander ghused dia. Wo masti mai chilla padi uuuuuuuuuuiiiiiiiiiiiiiiiiii mmmmmmmmmmaaaaaaaa rrrrrraaaaaaaajjjjjjjjjjjjj hhhhhhhaaaaaaeeeeeeee mmmmmaaaaazzzzzaaaaa aaaaaa ggggaaaaayyyyyaaaa aur jaise hi mera Lund uski bache dani se

takraya, uski nazuk choot mere jhatke ko bardasht nahi kar payee aur uski pregnant choot se juice behne laga aur uska orgasm shuru ho gaya aur phir chaar paanch minute tak pinky ki geeli choot ko chodta raha aur wo maze se ssssssssss aaaaaaahhhhhhhhh rrrrrrraaaaaaaajjjjjj aaaeeseee hhhhiii cccchhhhoooooddddooo hhhaaaaeeee rrreeee mmmeerrriiiii chhhooootttt ggggaaayyeee aur aisi hi mast sexy awazeinnikal ti rahi aur masti se chudwati rahi. Mai ghacha gach uski choot ko musal se chodta raha aur phir 5 minute ki chudai ke ander hi mer jhatko se mere Lund ne bhi malayee ka garam garam fawwara chhor dia aur meri garam malayee apni choot ke ander girti mehsoos kar te hi uski choot se ek bar phir se juice nikal gaya aur wo gehri gehri saansein leti hui hath pair dheele chhor ke let gayee to mai foran hi apna Lund uski choot se baher nikal ke uske baghal mai let gaya kyonke wo pregnant thi aur mera wazan uske badan pe padne se usko darad ho sakt tha. Udhar aunty ki halat bhi dheeli ho gayee thi wo pinky ke muh mai pani choot rakhe gehri saansein lete hue leti hui jhad chuki thi.

Kamre mai chudai ki khusbhu phail rahi thi aur mahol chudasi ho raha tha. Ham teeno bistar pe nange pade gehri gehri saansein lete hue aankhein band kiye lete rahe. Jab orgasm ka asar khatam hua to aunty jo pinky ke muh pe choot dabaye leti thi wo ab sarak ke neeche ki taraf aa gayee aur mere side mai let gayee. Aisi position thi ke ham teeno nange the aur Pinky aur aunty ke beeche mai leta tha. Aunty aur Pinky ne apne apne hath mere lund pe rakhe aur dono mil ke mere lund ko masal ne lage. Aaj ki chudai to badi hi ghamasan chudai thi yeh dono chootein mujhe bhot dino ke bad chodne ko mili thi to mai ne bhi deewano ki tarah se chod dala dono chooton ko. Ab mujhe bohot bhook lagne lagi thi. Saamne dekha to table pe dinner ready rakha tha. Pinky ne bola ke wo Lala ke sath dinner kar chuki hai aur Aunty mera wait kar rahi hai. Mai aur aunty nange hi table pe aa gaye aur khana khane lage. Pianky hamai dinner serve kar rahi thi kyon ke sare noukar ja chuke the aur jo ghar mai the unko mere bare mai kuch malum nahi tha.

Aunty aur mai pehle bathroom mai gaye aur dono ne ek doosre ko sabun se achi tarah se ragad ragad ke nehlaya. Aunty mere Lund ko sabun laga ke achi tarah se malish kia to mera Lund ek bar phir se akadne laga to aunty ne mere Lund ko zor se daba dia aur boli ke wah raja bhagwan ne kia autar dia hai re tere ko

aise mast Lund se to koi bhi ladki chudwane ko kabhi bhi tayyar ho jaye to mai ne aunty ko pyar kia aur bola ke meri pyari aunty jaan ko mera Lund pasand aaya bass yehi kaafi hai. phir mai ne bhi Aunty ki choot mai sabun laga ke dhoya uske bad ek doosre ko towel se dry kar ke bathroom se baher nikal aye to dekha ke Pinky gehri neend so chuki thi aur uske boobs ooper neeche hote hue bohot hi haseen lag rahe the. Uske boobs mai ab doodh bharne laga tha isi liye wo thode bade ho gaye the aur perfect shape mai the. Uske nipples bhi thode bade ho rahe the shaed pregnancy ka asar tha. Pinky jab se pregnant hui thi kuch ziada hi sunder lagne lagi thi. Uska chehra kisi choudwin ke chaand ki tarah se chamakne laga tha. Dosto yeh bat sach hai ke aurat jab maa banne wali hoti hai to uski khubsurti aur badh jati hai.

Khana sofe ke samne padi center table pe rakha tha to table ko thoda kareeb khech lia. Aunty mere right side mai baithi thi aur mai unke left side mai. Aunty ne ek hi plate mai khana nikala, mai samajh raha tha ke mere liye bhi nikalegi par nahi nikala to mai thoda wait karne laga ke dekhte hai aunty mere liye khana parosti hai ya nahi. Utne mai aunty apni plate mai se apne hath mai puri bhaji uthayee aur muskurate hue pehle to mere tan tanaate hue lund ke atraaf gol gol ghumaya aur phir apne muh mai aadha niwala rakh lia aur meri taraf jhuk gayee aur apne muh ko meri taraf kar dia to mai apna muh unke muh ke samne laya aur unke muh se aadha niwala tod ke khaya aur aunty ne usi time pe mere ko kiss karna chalu kar dia. Aunty ne sharab ki bottle uthayee aur glass full kar dia aur har niwale ke sath ek ek chuski whiskey ki leti rahi. Ab aunty ne mere Lund ko pakad lia aur muth marne lagi aur apne muh mai khana rakh rakh ke mujhe bhi khilati rahi aur khud bhi khati rahi. Aunty ka hath mere Lund pe rakhte hi uske ander ek electricity doud gayee aur wo josh mai lehrane laga to aunty ne Lund ke pakad ke dabaya aur bola ke thodi der thair ja beta mujhe pata hai ke tujhe bhi bhuk lagi hui hai thoda wait kar tujhe abhi choot khilati hu aur aise pucchkarne lagi jaise koi chote bache ko puchkarta hai. Mera hath to free tha to mai bhi apna hath badha ke aunty ki choot ka massage karne laga to aunty ki tangein khul gayee aur ab mai aunty ki clitoris ka massage kar raha tha aur sath hi choot ke surakh mai ungli bhi kar raha tha. Thodi hi der mai aunty ke muh se ek siskari nikli uuuuuuuuuuhhhhhhhhhhhhhh aur unki choot kaampte hue jhadne lagi.

Jhadna band hone tak bina niwala khilaye aunty thodi der tak aise hi sofe pe pasar ke baithi rahi aur jab unka orgasm khatam ho gaya to wo apni jagh se uthi aur mujhe baghal se pakad ke uthaya aur table ke kareeb jo kursi bina hath wali rakhi thi uspe bitha dia. Kursi ke baithne ki jagah itni thi ke bas chootad hi sama sakte the. Yeh almost ek type ka stool hi tha laikin ispe back rest bhi tha isi liye kursi jaisi lagti thi. Mai wo bina hatho wali kursi pe baith ke peeche teka lagaya to mera Lund kuch aur ooper uth gaya aur bilkum kisi electric pole ki tarah se khada ho gaya. Aunty mere rano ke dono taraf apne pair rakh ke mere Lund pe baithne lagi to mai ne Lund ke supade ko unki choot se surakkh se sata dia. Aunty ki choot orgasm se geeli ho chuki thi aur pair phailane se choot thodi khul gayee thi isi liye Lund aasaani se unki choot ke ander ghusne laga phir bhi unki choot tight hi thi. Aunty jab mere Lund pe achi tarah se baith gayee to unko Lund apne pet ke bohot ander tak mehsoos hone laga. Lund ke ander ghusne tak to aunty ke muh se ssssssssssssss ki awaz nikal rahi thi aur jab Lund poori tarah se unki choot ke ander ghuss chuka to unke chehre pe itmenan jhalakne laga. Aunty kabhi mere Lund pe uchal kood karti chudwati to kabhi plate mai se khana le ke apne muh mai rakh ke mujhe khilati. Jitni der mai khana nahi kha raha hota aunty ke boobs ko choosta rehta. Yeh umar mai bhi unke chuchian bade mast the gulabi nipples ke sath. Mujhe mere Lund pe aunty ki choot sikudti phoolti mehsoos hoti rahi. Aunty kabhi khana khati to kabhi sharab piti. Mai ne poocha kaisa lag raha hai aunty to mujhe choomte hue boli ke arey mere raja kia batau tujhe kaisa lag raha hai mujhe aisa lag raha hai jaise mai swarg mai pohoch gayee hu. Mere ku tera yeh mast louda hamesha ke liye de de re mai tere liye apni jaan luta dungi meri sari doulat lele par mere ku tera yeh louda de de to mai ne bola ke aunty yeh aapka hi to hai aapko jab chahiye le lo. Aunty ke uchal kood karne se mei bhi bohot hi josh mai aa gya tha aur ab aunty ko neeche dal ke zor dar tarike se chodne chahta tha. Mai ne aunty ko apne ooper se uthaya to boli ke kia hua rehne de na to mai ne bola ke nahi aunty ab mujhe chodna hai yeh choot ko to aunty khush ho gayee aur boli ke le le mere raja yeh choot hamesha se teri hi hai jab chahe mar liya kar.

Mai ne aunty ko uthaya aur unko kursi pe bitha dia aur unki tango ke beech baith ke unki choot ko chaatne laga. Unki choot mere Lund ko ander rakhe hi rakhe ek bar phir se ander hi ander jhad chuki thi isi liye unki choot geeli ho gayee thi. Mera

muh aunty ki choot se lagte hi unki tangein ek bar phir se khul gayee aur mere sar ko pakad ke apni choot ke ander daba lia aur kursi se apni gand utha utha ke mere muh ko chodne lagi aur thodi hi der mai itni masti mai aa gayee ke kurse se khadi ho gayee aur khade khade hi apni gand aage peechekar ke mere muh ko chodne lagi aur finally mere sar ko pakad ke apni choot mai bohot zor se daba lia aur mere muh mai hi jhadne lagi. Mai unki choot ka rass maze le ke peeta raha. Jhadne ke bad aunty shant ho gayee thi to mai apni jagah se khada ho gaya aur aunty ki ek tang ko kursi pe rakh dia aur khade khade hi unki geeli choot ke ander Lund ko ghusa dia aur chodne laga. Aaunty mere se lipat gayee aur jo tang kursi pe thi usko meri kamar pe lapet lia. Mai aunty ki gand pakad ke thoda uthaya to unho ne doosri tang bhi farash se utha ke meri kamar pe lapet li. Ab aunty ki gand hawa mai thi aur mai apne dono hath aunty ki gand ke neeche rakh ke unki khuli choot ki chudai karne laga. Thodi hi der mai mere dhakko ki speed badhne lagi aur mai unki choot ko dhana dhan chodne laga. Poora Lund head tak nikal nikal ke zor zor se chod raha tha aur mujhe mera Lund unki bache dani se takrata mehsoos ho raha tha aur har jhatke ke sath aunty ka badan kaanp jata aur wo mere se aur ziada zor se chimat jati. Mere dhakko ki speed badh gayee thi aur meri cream bas ab nikalne hi wali thi ke aunty ek bar phir se jhadne lagi aur unke hath pair dheele pad gaye aur isi ke chalte aunty ki grip meri gardan pe dheeli padi aur wo neeche slip ho gayee aur mera Lund unki choot se baher nikal aaya. Aunty mere badan se slip ho ke neeche uteri aur mere Lund se cream ka fawwara chootne hi wala tha ke meri nazar table pe rakhe sharab ke glass pe padi jismai whiskey full thi to mai ne glass utha lia aur apne Lund ko whiskey ke ander ghusa dia aur mere Lund se malayee nikal ke glass ke pende mai jama hone lagi. Lund se nikli malayee gaadhi thi isi liye glass ke bottom mei jami rahi.


rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: Marwar ki mast malaai-मारवाड़ की मस्त मलाई

Unread post by rajaarkey » 13 Dec 2014 17:03

मारवाड़ की मस्त मलाई पार्ट --27


गतांक से आगे........................

आंटी बे दम हो के ज़मीन पे बैठ चुकी थी और आँखें बंद किए गहरी साँसें ले रही थी. मेरे लंड से जब मलाई निकलना बंद हो गयी तो मैं ने अपना लंड विस्की से बाहर निकाला और विस्की की टपकती बूँदो के साथ अपना लंड आंटी के होटो पे रख दिया तो उनकी आँखें खुली और मेरी तरफ नशीली आँखो से देखते हुए बोली के वाह राजा यार तेरा लंड तो कमाल का है इसने मेरी जान ही निकाल दी और फॉरन ही मेरे लंड से टपकती विस्की की बूँदो को अपनी ज़ुबान से चाटने लगी. फिर बोली के ऐसे ही अपने लंड से मेरे कू विस्की पिला दे मेरे राजा तो मैं थोड़ी देर ऐसे ही अपने लंड को शराब के ग्लास

मे डुबो डुबो के उनके होटो से लगा ता रहा और वो मेरे लंड पे से विस्की पीती रही. थोड़ी ही देर मे उन्हो ने ग्लास उठाया और मेरे लंड को अपने हाथ से पकड़ के ग्लास के अंदर तक किया और मेरे लंड से निकली मलाई को मेरे ही लंड से मिक्स करने लगी और फिर पहले मेरे लंड पे से विस्की को चॅटा और फिर एक ही घूँट मे सारा ग्लास खाली कर दिया और एक बड़ी सी डकार मारी और बोली के राजा तेरी चुदाई मेरे कू ज़िंदगी भर याद रहेगी. शराब ख़तम कर के आंटी नीचे से उठी और मेरा हाथ पकड़ के बिस्तर मे खेचा और मुझे अपनी बगल मे लिटा लिया. मैं और आंटी दोनो बोहोत थक्क चुके थे इसी लिए लेट ते ही गहरी नींद सो गये.

पता नही क्या टाइम हुआ था मेरी आँख खुली तो देखा के अभी अंधेरा ही है और पिंकी बेड के पास बैठी है और मेरे लंड को चूस रही है. मैं उठा और उसके चेहरे को अपने दोनो हाथो से पकड़ के किस कर लिया. उसके ऊपेर बोहोत प्यार आ रहा था. मैं ने उसके सर को सहलाया और उसको अपने ऊपेर खेच लिया. उसके चूसने से और चुदाई से रेस्ट मिलने से मेरा लंड एक दम से अकड़ चुका था. पिंकी अपने दोनो पैर मेरे बदन के दो तरफ कर के मेरे नंगे बदन पे नंगी लेट गयी और हम फ्रेंच किस करने लगे. पिंकी मेरे ऊपेर झुकी हुई थी और ऐसी ही पोज़िशन मे वो थोडा पीछे खिसक गयी और उठ के मेरे लंड के डंडे पे बैठ गयी और अपनी गंद हिला हिला के मेरे लंड को अपनी चूत से सटाया और धीरे धीरे अपने बदन को पीछे पुश करने लगी. उसकी चूत गीली हो गयी थी और मेरा लंड भी उसके थूक से गीला था तो लंड का सूपड़ा उसकी चूत के अंदर घुस गया तो वो किस करते करते सस्स्स्स्स्स्स्सस्स की आवाज़ निकाली तो मैं ने बोला के पिंकी दरद हो रहा है तो लंड निकाल दू क्या तो उसने बोला के नही राजा अब नही रहा जाता मेरे से तुम अपने मूसल को मेरी चूत मे घुसा दो और खूब ज़ोर से चोदो तो मैं ने बोला के पिंकी मेरी जानू तुम्है पता है डॉक्टर ने तुम्हाई बेड रेस्ट बोला है और चुदाई से मना किया है तो वो बोली के मैं क्या करू मेरे राजा मेरी चूत के अंदर बोहोत खुजली हो रही है मेरे कू चोद डालो बॅस तो मैं ने बोला के ठीक है तुम खुद ही मेरे लंड को जितना चाहो अपनी चूत के अंदर ले लो और बिना तकलीफ़ उठाए चुदाई करो तो उसने बोला के ठीक है. पिंकी धीरे धीरे पीछे हटने लगी और धीरे धीरे मेरा मूसल लंड उसकी चूत के अंदर घुसने लगा. जितनी देर तक वो लंड को अपनी चूत के अंदर घुसाती रही उसके बदन मे एक तनाव सा था जब लंड पूरी तरह से अंदर घुस गया तो उसने एक लंबी साँस ली. पिंकी ने मेरे कान मे आहिस्ता से पूछा कुछ महसूस हो रहा है क्या राजा तो मैं ने बोला के हा तो उसने पूछाक्या महसूस हो रहा है तो मैं ने बोला के मुझे मेरा बेटा महसूस हो रहा है जो तुम्हारे पेट के अंदर पल रहा है तो उसने कहा के हा राजा मेरे कू तुम्हारे जैसा प्यारा

बेटा चाहिए और फिर हम किस करने लगे. पिंकी मेरे लंड को अपनी चूत के पूरा अंदर रखे ही रखे मेरे ऊपेर झुकी रही.थोड़ी देर मे वो मेरे लंड पे आगे पीछे फिसलने लगी. अब मेरा लंड भी उसकी चूत के अंदर फूल गया था. मैं अब अपनी गंद उठा के उसकी चूत को चोदने लगा. पिंकी थोड़ा आगे को आ गयी थी और ऑलमोस्ट हाफ लंड से चुदवा रही थी. मैं भी अपनी गंद उठा के हाफ लंड से ही उसकी चूत को चोद रहा था. वो मज़े की सिसकारिया ले रही थी और बोल रही थी आआअहह राजा क्या मस्त मज़ा आता है तुमहरे लंड से चुदवाने मे ऐसे ही चोदो राजा. वो बोहोत देर तक हाफ लंड पे ही अपनी चूत को अंदर बाहर करती रही. मैं उसके बूब्स को चूसने लगा तो पाया के उसके बूब्स मे से कुछ अजीब टेस्ट का रस निकला. शाएद उसकी चुचिओ मे दूध बनना शुरू हो गया था. पिंकी फुल मस्ती से चुदवा रही थी और फिर 10 – 15 मिनिट की चुदाई के बाद वो झड़ने लगी. उसके चूत के जूस से मेरा लंड और ज़ियादा चिकना हो गया था और अब मेरी मलाई भी निकलने का कगार पर थी. मैं अब उसको ऑलमोस्ट फुल लंड से चोद रहा था पर उसको नीचे लिटा के पवरफुल धक्के नही मारे क्यॉंके मैं कोई चान्स नही लेना चाहता था के कही मेरे ज़ोर के झटको से उसकी प्रेग्नेन्सी को कोई प्राब्लम ना हो जाए. उसकी प्रेग्नेंट चूत को चोदने मे बोहोत ही मज़ा आ रहा था और फिर थोड़ी ही देर मे मेरे बॉल्स मे हलचल मचना शुरू हो गयी और मैने अपने धक्के तेज़ कर दिए और फिर उसके शोल्डर को पकड़ के पूरी ताक़त से नीचे अपने लंड पे दबा दिया और अपने लंड को उसकी चूत के पूरा अंदर बच्चे दानी तक घुसा दिया और मेरी मलाई का फव्वारा छूटने लगा. जितनी देर तक मेरी मलाई निकलती रही मैं ने पिंकी को ज़ोर से दबा के पकड़ा हुआ था मुझे अपने लंड पे उसकी चूत फूलती पिचकति महसूस हो रही थी. मेरी गरम गरम मलाई के गिरते उसकी चूत एक बार फिर से काँपने लगी और उसकी चूत से जूस निकलने लगा. पिंकी गहरी गहरी साँसे लेती हुई मेरे सीने पे ढेर हो गयी. लंड उसकी गरम गीली चूत के अंदर ही भीगता पड़ा रहा. थोड़ी देर मे लंड उसकी चूत के अंदर ही सॉफ्ट हो गया.

पिंकी बदन पे पड़ी मुझे बे तहाशा चूमने लगी और बोली के राजा मुझे अपना लो राजा मैं लाला के साथ नही तुम्हारे साथ रहना चाहती हू तो मैं ने बोला के अरे खामोश हो जा तुम्हारी सास यही सो रही है तो उसकी आँख से आँसू निकल गये और बोली के क्या फ़ायदा ऐसे हज़्बेंड के साथ रहने से तो मैं ने बोला के पिंकी देख ऐसी बाते नही करते मैं यही हू ना तुमको अब यह परिवार के बारे मे सोचना है नही तो दो परिवार बदनाम हो जाएगे ऐसी पागल बातें ना करो प्लीज़ मैं तुम्हारे साथ हू ज़िंदगी भर तुम्हारे साथ ही रहुगा तुम किसी बात की चिंता मत करो तो उसकी आँखो से आँसू बहने लगे और मैं बड़े प्यार से

उसके सर और पीठ को सहलाता रहा फिर बोला के पिंकी मेर जानू ऐसे लेट ने से तुम्हारा पेट दब रहा है तुम यहा लेट जाओ तो वो लुढ़के के मेरे बाज़ू मे लेट गयी तो मैं ने पूछा क्या टाइम हुआ है तो उसने बोला के सुबह के 4 बजे है तो मैं ने बोला के देखो पिंकी किसी और के उठ ने से पहले और किसी नौकर के आने से पहले मैं चला जाता हू नही तो किसी को शक गया तो अछी बात नही होगी तो उसने ठीक है बोला और जब मैं अपने कपड़े पहेन के रूम के बाहर निकलने लगा तो वो मेरे से लिपट गयी और आँसू से रोने लगी तो मैं ने उसको प्यार किया और बोला के पिंकी प्लीज़ अपने ऊपेर काबू रखो और प्लीज़ रोओ मत. फिर मैं कमरे से बाहर निकला और कॉंपाउंड के बॅक डोर से बाहर निकल गया और अपनी बाइक पे बैठ के अपने घर आ गया और बिस्तर पे लेट ते ही गहरी नींद सो गया.

आशा और उषा

सुबह आँख खुली तो 10 बज रहे थे. जल्दी से शवर लिया और तय्यार हो के कॉलेज को चला गया. लास्ट पीरियड था उसी समय मेरे मोबाइल की घंटी बजी. देखा तो आशा का फोन था. मैं ने फोन डिसकनेक्ट कर दिया और शॉर्ट मेसेज दिया के मैं क्लास मे हू थोड़ी देर मे कॉल करता हू. उसका फोन देखते ही मेरा लंड मेरे पॅंट के अंदर अकड़ने लगा और मुझे आशा की चुदाई याद आने लगी के कैसे दीवार से चिपका के उसको चोदा था. अब मेरा दिल क्लास मे बिल्कुल भी नही लग रहा था मेरे दिमाग़ मे तो बस आशा और उसकी बहेन उषा की नयी चूत को चोदने का भूत सवार हो गया था. ज्यूँ त्यु करके क्लास ख़तम हुई और मैं तीर की तरह से अपनी बाइक की तरफ दौड़ता हुआ गया. बाइक स्टार्ट कर के सब से पहले आशा को फोन किया और उसका एग्ज़ॅक्ट अड्रेस पूछा. अड्रेस पे पहुँचने मे तकरीबन 10 मिनिट लगने का अंदाज़ा था.

मैं 15 मिनिट के अंदर उसके बताई हुई जगह पहुँच गया. आशा वाहा खड़ी बड़ी बेताबी से मेरा इंतेज़ार कर रही थी. उसका घर वी पास मे ही था और 2 मिनिट के अंदर ही हम उसके घर के अंदर थे. घर के अंदर घुसते ही आशा मेरे बदन से बोहोत जोश मे लिपट गयी और मेरे चेहरे पे चुम्मन की बौछार कर दी. आहह राजा कितना तडपया है तुमने तुम्है क्या मालूम मैं तो तुम्हारी और तुम्हारे मूसल की दीवानी हो चुकी हू तुम ने और तुम्हारे लौदे ने मेरी चूत पे जादू कर दिया है यह अब किसी और से चुदवाना नही चाहती बस इसे तो तुम्हारा मूसल ही चाहिए और मेरा हाथ पकड़ के अपनी चूत पे रख दिया और बोली के देखो इसे कैसे आंशू से रो रही है. मेरा हाथ उसकी चूत पे लगा तो पाया के उसकी चूत से रस्स टपक रहा था और वो समंदर जैसी गीली हो गयी थी मैं मुस्कुरा दिया के यह चूत के आँसू बड़े आछे है. हम अभी डोर के करीब हीखड़े एक दूसरे से लिपटे चूम रहे थे हमै खबर ही नही हुई के उसकी बड़ी बहेन उषा अपने रूम के दरवाज़े से हमै मुस्कुरा के देख रही थी. मेरी नज़र उस पर पड़ी तो मैं आशा के बदन से अलग हो गया तो उसने पलट के देखा तो उसकी बहेन उषा खड़ी मुस्कुरा रही थी तो आशा भी मुस्कुरा के बोली के सॉरी दीदी मैं राजा को देख के तुम्है भूल ही गयी थी तो उसने बोला ओह कोई बात नही.

आशा मेरा हाथ पकड़े उसकी बहेन के पास आई और बोली के दीदी यह राजा बाबू है जिनके बारे मे तुम्है बताया था तो उषा बड़ी अदा से मुस्कुरा के बोली के हा मैं समझ गयी थी. मैं ने उषा की तरफ देखा. उसने लाइट स्काइ ब्लू कलर की सारी टाइट बाँध रखी थी जिस से उसके सेक्सी चूतदो की गोलाई सॉफ दिखाई दे रही थी और शाएद उसने ब्रस्सिएर नही पहनी थी जिसके चलते उसके सारी के मॅचिंग के पतले कपड़े वाले ब्लाउस से उसके मस्त कड़क चुचियाँ भी दिखाई दे रही थी. गौर से देखने पर उसके लाइट ब्राउन कलर के कड़क निपल्स भी महसूस हो रहे थे. सारी पेट नीचे ऐसे बँधी हुई थी के अगर और 2 इंच नीचे को उतर जाए तो शाएद उसकी चूत का ऊपरी हिस्सा भी नज़र आजाए. उसके ब्लाउस और सारी के बीच मे पेट का हिस्सा और डीप नाभि भी बड़ी मस्त लग रही थी. उषा का रंग आशा से थोड़ा और खुलता हुआ था. देखने से तो लगता था के उसका स्किन भी बोहोत ही चिकना है. बड़ी बड़ी काली आँखें, चूतदो तक झूलते काले बाल और इतने प्यारे कमान के शेप के उसके होन्ट इतने सेक्सी थे के जिन्है देखते ही चूसने का दिल करे. मीडियम बिल्ट की आछे भरे भरे बदन की थी. जब वो मुस्कुराती तो उसके मोती जैसे दाँत चमक जाते. उसके चेहरे पे ज़बरदस्त सेक्स अपील थी और सब से कातिलाना उसकी मुस्कुराहट और उसके मस्त 36 साइज़ के बूब्स थे जिनके खड़े निपल्स उसके पतले कपड़े के ब्लाउस के ऊपेर से ही अकड़ के बता रहे थे के वो कितनी सेक्सी है. मैं उषा के करीब आया तो मुझे पता चला के उसने एक बोहोत ही ज़बरदस्त किसम का सेक्सी पर्फ्यूम लगाया हुआ है जिसे सूंघते ही मेरा मंन करने लगा के उसी टाइम उसको अपने सीने से लगा लू और प्यार करते करते उसके पर्फ्यूम को सूँघू. मैं उषा के पास आया और उसको हेलो बोला.

आशा और उषा मुझे ड्रॉयिंग रूम मे ले आई और सोफे पे बिठा दिया. उनका घर भी ठीक ठाक सॉफ सुथरा था. सलीके से चीज़ें अपनी जगह पे रखी हुई थी. घर अछी तरह से सज़ा हुआ था. लगता था के उषा के हज़्बेंड का बिज़्नेस अछा चलता था और उषा को घर सजाने का ढंग और इंटेरेस्ट थे. ड्रॉयिंग रूम मे एक सोफा सेट रखा था जहा प्लास्मा टीवी चल रहा था केबल पे MटV के कुछ हॉट सॉंग्स चल रहे थे. सोफे के

सामने की सेंटर टेबल पे केक, समोसे, पकोडे, पूरी और कुछ मिठाइयाँ सज़ा के रखी गयी थी ऐसा लग रहा थे के मेरे आने से पहले ही सारी तय्यारी कर चुके है. मैं घर को इधर उधर देखते हुए बोला के वाह उषा तुम्हारा घर तो बोहोत शानदार है तो मुस्कुरा के हाथ नमस्ते के स्टाइल मे जोड़ती बोली के शानदार लोगो का हमारे मामूली घर मे स्वागत हैं. आशा मेरी बगल मे बैठ गयी और उषा हमारे सामने के सोफे पे. आशा इतनी बे सबरी हो रही थी के बैठ ते ही एक बार फिर से मेरे को किस करना चालू कर दिया तो उषा हंस के बोली के बड़ी उतावली हो रही है तू, अरे राजा बाबू को कुछ नाश्ता पानी करने दे देखती नही के अभी कॉलेज से थके हारे आ रहे है. आशा ने पलट के टेबल से अपने हाथ मे केक का पीस उठाया और मेरे मूह मे डाल दिया और उसके साथ मे मेरे मूह से अपना मूह लगा दिया और केक का पीस कभी मेरे मूह मे तो कभी आशा के मूह मे घूम रहा था. उषा सामने बैठी बड़ी मीठी और नशीली नज़रो से हमै देख रही थी.

--

साधू सा आलाप कर लेता हूँ ,

मंदिर जाकर जाप भी कर लेता हूँ ..

मानव से देव ना बन जाऊं कहीं,,,,

बस यही सोचकर थोडा सा पाप भी कर लेता हूँ

आपका दोस्त

राज शर्मा

(¨`·.·´¨) ऑल्वेज़

`·.¸(¨`·.·´¨) कीप लविंग &

(¨`·.·´¨)¸.·´ कीप स्माइलिंग !

`·.¸.·´ -- राज

Mast Marwari Malaai ( MMM )--paart--27

Aunty be dam ho ke zameen pe baith chuki thi aur aankhein band kiye gehri saansein le rahi thi. Mere Lund se jab malayee nikalna band ho gayee to mai ne apna Lund whiskey se baher nikala aur whiskey ki tapakti boondo ke sath apna Lund aunty ke hoto pe rakh dia to unki aankhein khuli aur meri taraf nasheeli aankho se dekhte hue boli ke wah raja yaar tera Lund to kamal ka hai isne meri jaan hi nikal di aur foran hi mere Lund se tapakti whiskey ki boondo ko apni zuban se chaatne lagi. Phir boli ke aise hi apne Lund se mere ku whiskey pilade mere raja to mai thodi der aise hi apne Lund ko sharab ke glass

mai dubo dubo ke unke hoto se laga ta raha aur wo mere Lund pe se whiskey piti rahi. Thodi hi der mai unho ne glass uthaya aur mere lund ko apne hath se pakad ke glass ke ander tak kia air mere Lund se nikli malayee ko mere hi Lund se mix karne lagi aur phir pehle mere Lund pe se whiskey ko chaata aur phir ek hi ghoont mai sara glass khali kar dia aue ek badi si Dakar mari aur boli ke raja teri chuai mere ku zindagi bhar yad rahegi. Sharab khatam kar ke aunty neeceh se uthi aur mera hath pakad ke bistar mei khecha aur mujhe apni baghal mai lita lia. Mai aur aunty dono bohot thakk chuke the isi liye let te hi gehri neend so gaye.

Pata nahi kia time hua tha meri aankh khuli to dekha ke abhi andhera hi hai aur pinky bed ke pas baithi hai aur mere Lund ko choos rahi hai. Mai utha aur uske chehre ko apne dono hatho se pakad ke kiss kar lia. Uske ooper bohot pyar aa raha tha. Mai ne uske sar ko sehlaya aur usko apne ooper khech lia. Uske choosne se aur chudai se rest milne se mera Lund ek dum se akad chuka tha. Pinky apne dono pair mere badan ke do taraf kar ke mere nange badan pe nangi let gayee aur ham French kiss karne lage. Pinky mere ooper jhuki hui thi aur aisi hi position mai wo thoda peeche khisak gayee aur uth ke mere Lund ke dande pe baith gayee aur apni gand hila hila ke mere Lund ko apni choot se sataya aur dheere dheere apne badan ko peeche push karne lagi. Uski choot geeli ho gayee thi aur mera Lund bhi uske thook se geela tha to Lund ka supada uski choot ke ander ghus gaya to wo kiss karte karte sssssssssss ki awaz nikali to mai ne bola ke Pinky darad ho raha hai to Lund nikal du kia to usne bola ke nahi Raja ab nahi raha jata mere se tum apne musal ko meri choot mai ghusa do aur khub zor se chodo to mai ne bola ke Pinky meri jaanu tumhai pata hai doctor ne tumhai bed rest bola hai aur chudai se mana kia hai to wo boli ke mai kia karu mere raja meri choot ke ander bohot khujli ho rahi hai mere ku chod dalo bass to mai ne bola ke theek hai tum khud hi mere Lund ko jitna chaho apni choot ke ander le lo aur bina takleef uthaye ke chudai karo to usne bola ke theek hai. Pinky dheere dheere peeche hatne lagi aur dheere dheere mera musal Lund uski choot ke ander ghusne laga. Jitni der tak wo Lund ko apni choot ke ander ghsati rahi uske badan mai ek tanao sa tha Jab Lund poori tarah se ander ghus gaya to usne ek lambi saans li. Pinky ne mere kaan mei aahista se poocha kuch mehsoos ho raha hai kia raja to mai ne bola ke haa to usne poocha kia mehsoos ho raha hai to mei ne bola ke mujhe mera beta mehsoos ho raha hai jo tumhare pet ke ander pal raha hai to usne kaha ke haa raja mere ku tumhare jaisa pyara

beta chahiye aur phir ham kiss karne lage. Pinky mere Lund ko apni choot ke poora ander rakhe hi rakhe mere ooper jhuki rahi.Thodi der mai wo mere Lund pe aage peeche phisalne lagi. Ab mera Lund bhi uski choot ke ander phool gaya tha. Mai ab apni gand tha ke uski choot ko chodne laga. Pinky thoda aage ko aa gayee thi aur almost half Lund se chudwa rahi thi. Mai bhi apni gand utha ke half Lund se hi uski choot ko chod raha tha. Wo maze ki siskariya le rahi thi aur bol rahi thi aaaaahhhhh raja kia mast maza aata hai tumahre Lund se chudwane mai aise hi chodo raja. Wo bohot der tak half Lund pe hi apni choot ko ander baher karti rahi. Mai uske boobs ko choosne laga to paya ke uske boobs mai se kuch ajeeb taste ka ras nikla. Shaed uski chuchion mai doodh banna shuru ho gaya tha. Pinky full masti se chudwa rahi thi aur phir 10 – 15 minute ki chudai ke bad wo jhadne lagi. Uske choot ke juice se mera Lund aur ziada chikna ho gaya tha aur ab meri malayee bhi nikalne ka kagar par thi. Mai ab usko almost full lund se chod raha tha par usko neeche lita ke powerful dhakke nahi mare kyonke mai koi chance nahi lena chata tha ke kahi mere zor ke jhatko se uski pregnancy ko koi problem na ho jaye. Uski pregnant choot ko chodne mai bohot hi maza aa raha tha aur phir thodi hi der mai mere balls mai halchal machna shuru ho gayi aur mai apne dhakke tez kar dia aur phir uske shoulder ko pakad ke poori takat se neeche apne Lund pe daba dia aur apne Lund ko uski choot ke poora ander bache dani tak ghusa dia aur meri malayee ka fawwara chootne laga. Jitni der tak meri malayee nikalti rahi mai ne Pinky ko zor se daba ke pakda hua tha mujhe apne Lund pe uski choot phoolti pichakti mehsoos ho rahi thi. Meri garam garam malayee ke girte uski choot ek bar phir se kaampne lagi aur uski choot se juice nikalne laga. Pinky gehri gehri sansei leti hui mere seene pe dher ho gayee. Lund uski garam geeli choot ke ander hi bheegta pada raha. Thodi der mai Lund uski choot ke ander hi soft ho gaya.

Pinkye badan pe padi mujhe be tahasha choomne lagi aur boli ke raja mujhe apna lo raja mai lala ke sath nahi tumhare sath rehna chahti hu to mai ne bola ke are khamosh ho ja tumhari saas yehi so rahi hai to uski aankh se aansoo nikal gaye aur boli ke kia faida aise husband ke sath rehne se to mai ne bola ke Pinky dekh aisi bate nahi karte mai yahi hu na tumko ab yeh parivar ke bare mai sochna hai nahi to do parivar badnam ho jayege aisi pagal batein na karo please mai tumhare sath hu zindagi bhar tumhare sath hi rahuga tum kisi baat ki chinta mat karo to uski aankho se aansoo behne lage aur mai bade pyar se

uske sar aur peeth ko sehlata raha phir bola ke Pinky mer jaanu aise let ne se tumhara pet dab raha hai tum yaha let jao to wo ludhake ke mere bazu mai let gayee to mai ne poocha kia time hua hai to usne bola ke subah ke 4 baje hai to mai ne bola ke dekho Pinky kisi aur ke uth ne se pehle aur kisi noukar ke aane se pehle mai chala jata hu nahi to kisi ko shak gaya to achi bat nahi hogi to usne theek hai bola aur jab mai apne kapde pehen ke room ke baher nikalne laga to wo mere se lipat gayee aur aansoo se rone lagi to mai ne usko pyar kia aur bola ke Pinky please apne ooper kaboo rakho aur please roo mat. Phir mai kamre se baher nikla aur compound ke back door se baher nikal gaya aur apni bike pe baith ke apne ghar aa gaya aur bistar pe let te hi gehri neend so gaya.

Asha Aur Usha

Subah aankh khuli to 10 baj rahe the. Jaldi se shower lia aur tayyar ho ke college ko chala gaya. Last period tha usi samay mere mobile ki ghanti baji. Dekha to Asha ka phone tha. Mai ne phone disconnect kar dia aur short message dia ke mai class mai hu thodi der mai call karta hu. Uska phone dekhte hi mera Lund mere pant ke ander akadne laga aur mujhe asha ki chudai yaad aane lagi ke kaise deewar se chipka ke usko choda tha. Ab mera dil class mai bilkul bhi nahi lag raha tha mere dimagh mai to bass Ahsa aur uski behen Usha ki nayee choot ko chodne ka bhoot sawar ho gaya tha. Jyun tyun karke class khatam hui aur mai teer ki tarah se apni bike ki taraf doudta hua gaya. Bike start kar ke sab se pehle Asha ko phone kia aur uska exact address poocha. Address pe pohochne mai takreeban 10 minute lagne ka andaza tha.

Mai 15 minute ke ander uske batayee hui jagah pohoch gaya. Asha waha khadi badi betaabi se mera intezar kar rahi thi. Uska ghar whi pas mai hi tha aur 2 minute ke ander hi ham uske ghar ke ander the. Ghar ke ander ghuste hi Asha mere badan se bohot josh mai lipat gayee aur mere chehre pe chumman ki bouchar kar di. Aahh raja kitna tadpaya hai tumne tumhai kia malum mai to tumhari aur tumhare musal ki deewani ho chuki hu tum ne aur tumhare loude ne meri choot pe jadu kar dia hai yeh ab kisi aur se chudwana nahi chahti bass ise to tumhara musal hi chahiye aur mera hath pakad ke apni choot pe rakh dia aur boli ke dekho ise kaise aasnoo se ro rahi hai. Mera hath uski choot pe laga to paya ke uski choot se rass tapak raha tha aur wo samandar jaisi geeli ho gayee thi mai muskura dia ke yeh choot ke aansoo bade ache hai. Ham abhi door ke kareeb hi

khade ek doosre se lipte choom rahe the hamai khabar hi nahi hui ke uski badi behen Usha apne room ke darwaze se hamai muskura ke dekh rahi thi. Meri nazar us par padi to mai Asha ke badan se alag ho gaya to usne palat ke dekha to uski behen Usha khadi muskura rahi thi to Asha bhi muskura ke boli ke sorry didi mai raja ko dekh ke tumhai bhool hi gayee thi to usne bola oh koi bat nahi.

Asha mera hath pakde uski behen ke pas ayi aur boli ke didi yeh Raja babu hai jinke bare mai tumhai bataya tha to Usha badi adaa se muskura ke boli ke haa mai samajh gayee thi. Mai ne Usha ki taraf dekha. Ushane light sky blue colour ki sari tight bandh rakhi thi jis se uske sexy chootado ki golayee saaf dikhayee de rahi thi aur shaed usne brassier nahi pehni thi jiske chalte uske saree ke matching ke patle kapde wale blouse se uske mast kadak chuchian bhi dikhayee de rahe the. Ghor se dekhne par uske light brown colour ke kadak nipples bhi mehsoos ho rahe the. Saree pet neeche aise bandhi hui thi ke agar aur 2 inch neeche ko utar jaye to shaed uski choot ka oopri hissa bhi nazar aajaye. Uske blouse aur saree ke beech mai pet ka hissa aur deep nabih bhi badi mast lag rahi thi. Usha ka rang Asha se thoda aur khulta hua tha. Dekhne se to lagta tha ke uska skin bhi bohot hi chikna hai. Badi badi kaali aankhein, chootado tak jhoolte kaale baal aur itne pyare kamaan ke shape ke uske hont itne sexy the ke jinhai dekhte hi choosne ka dil kare. Medium built ki ache bhare bhare badan ki thi. Jab wo muskurati to uske moti jaise daant chamak jate. uske chehre pe zabardast sex appeal thi aur sab se katilana uski muskurahat aur uske mast 36 size ke boobs the jinke khade nipples uske patle kapde ke blouse ke ooper se hi akad ke bata rahe the ke wo kitni sexy hai. Mai Usha ke kareeb aaya to mujhe pata chala ke usne ek bohot hi zabardast kisam ka sexy perfume lagaya hua hai jise soonghte hi mera mann karne laga ke usi time usko apne seene se laga lu aur pyar karte karte uske perfume ko soonghoo. Mai Usha ke paas aaya aur usko hello bola.

Asha aur Usha Mujhe drawing room mai le ayi aor sofe pe bitha dia. Unka ghar bhi theek thaak saaf suthra tha. Saleeke se cheezein apni jagah pe rakhi hui thi. Ghar achi tarah se saja hua tha. Lagta tha ke Usha ke husband ka business acha chalta tha aur Usha ko ghar sajane ka dhang aur interest the. Drawing room mai ek sofa set rakha tha jaha plasma TV chal raha tha cable pe MTV ke kuch hot songs chal rahe the. Sofe ke

samne ki center table pe Cake, Samose, Pakode, Puri aur kuch mithaiyan saja ke rakhi gayee thi aisa lag raha the ke mere aane se pehle hi sari tayyari kar chuke hai. Mai ghar ko idhar udhar dekhte hue bola ke wah Usha tumhara ghar to bohot shandar hai to muskura ke hath Namaste ke style mei jodti boli ke shandar logo ka hamare mamuli ghar mai swagat haim. Asha meri baghal mai baith gayee aur Usha hamare samne ke sofe pe. Asha itni be sabri ho rahi thi ke baith te hi ek bar phir se mere ku kiss karna chalu kar dia to Usha hans ke boli ke badi utaoli ho rahi hai tu, arey raja babu ko kuch nashta pani karne de dekhti nahi ke abhi college se thake hare aa rahe hai. Asha ne palat ke table se apne hath mai cake ka piece uthaya aur mere muh mai dal dia aur uske sath mi mere muh se apna muh laga dia aur cake ka piece kabhi mere muh mai to kabhi Asha ke muh mai ghoom raha tha. Usha samne baithi badi meethi aur nasheeli nazro se hamai dekh rahi thi.

--

rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: Marwar ki mast malaai-मारवाड़ की मस्त मलाई

Unread post by rajaarkey » 13 Dec 2014 17:04

मारवाड़ की मस्त मलाई पार्ट --28



गतांक से आगे........................

थोड़ी देर मैं नाश्ता पानी करता रहा. इतनी देर मे आशा मेरे पॅंट के ऊपेर से ही मेरे लंड को सहला रही थी और लंड अपने अकड़ने की पूरी चरम सीमा पर पहुँच चुका था और पॅंट के अंदर से निकल ने को तड़प रहा था. आशा ने देखा और बोला के हाए राजा बाबू इस मूसल को क्यों सज़ा दे रही हो इसको क्यों क़ैद कर के रखा है, इसको क़ैद से आज़ाद करदो और यह कहते हुए उसने पॅंट की ज़िप खोल डाली और अंडरवेर को थोड़ा नीचे कर के मेरे लंड को पकड़ लिया और पॅंट के अंदर से बहेर निकाल दिया. लंड बहेर निकलते ही ऐसे लहराने लगा जैसे साँप के आगे बीन बजाने से साँप लहराता है. यह देख के उषा एक दम से बोल पड़ी वाउ क्या हथ्यार पाया है राजा बाबू आपका बोला और अपनी जगह से उठ के हमारे करीब के सोफे पे बैठ गयी और मेरे मस्ती से लहराते, बल खाते लंड को प्यार भरी सेक्सी और खा जाने वाली नज़रो से देखने लगी.

दो दो चूतो को चुदवाने के लिए बेताब देख कर मेरा दिमाग़ भी खराब हो चुका था. मैं आशा के सर को पकड़ के उसके मूह को चोदने लगा. आशा ने बिना मेरे लंड पे से मूह हटाए अपना एक हाथ पीछे किया और टेबल पे रखे केक के ऊपेर से टॉपिंग का चॉक्लेट अपने उग्न्लिओ मे उठाया और मेरे लंड पे अछी तरह मल दिया और मेरे लंड से लिक्विड चॉक्लेट चाटने लगी. मैं ने हाथ बढ़ा के उसके टॉप को उतार दिया. उसने अंदर ब्रस्सिएर नही पहनी थी. मैं उसके बूब्स को अपने दोनो हाथो से पकड़ के मसल्ने लगा. आशा के चुचियाँ मैं पहले भी दबा चुका था वो आज भी वैसे के वैसे ही कड़क थे और उसके निपल्स भी खड़े हो चुके थे. उसने बैठे ही बैठे अपना पॅंट उतार दिया और एक दम से नंगी

हो गयी. उसको नंगा देख के मेरा जोश कुछ और बढ़ गया तो मैं भी अपने चूतड़ सोफे से उठा दिया तो वो मेरा इशारा समझ गयी और मेरे पॅंट के अंदर हाथ डाले के पॅंट और अंडरवेर दोनो को एक साथ खेच के मेरे बदन से निकाल दिया. इतनी देर मे मैं भी अपना टी शर्ट निकाल के नंगा हो चुका था. उषा मेरे कसरती फौलादी बदन को बोहोत ही सेक्सी नज़रो से देखने लगी और फिर मेरे और करीब आ गयी और मेरे बदन पे हाथ फेर के मेरे बदन की ताक़त का अंदाज़ा लगाने लगी. जैसे ही उषा मेरे करीब आई मैं ने अपना हाथ उसकी गंद पे रख के उसको अपने करीब कर लिया और उसकी सारी के ऊपेर से ही उसकी चूत को सहलाने लगा तो उसने अपनी टाँगें खोल दी. मैं थोड़ी देर उसकी चूत को सहलाता रहा फिर हाथ ऊपेर कर के उसके बूब्स को दबाने लगा और साथ मे उसके ब्लाउस के हुक्स को भी खोल दिया. ब्रा तो उसने भी नही पहनी थी वो मैं पहले ही देख चुका था. जैसा ही ब्लाउस खुला मुझे उसके मस्त चुचियाँ दिखाई देने लगी. 36 के साइज़ के बोहोत ही प्यारे और पर्फेक्ट शेप मे थी उसकी चुचियाँ. कड़क भी थी. उसके निपल्स भी खड़े हो गये थे. वो मेरे करीब नीचे बैठ गयी तो मैं ने अपने लंड पे लगी हुई थोड़ी सी चॉक्लेट को अपने हाथ मे लिया और उसकी चुचिओ के ऊपेर लगा दिया और उन्है चूसने लगा. आशा मेरा लंड चूस रही थी और मैं उसकी बड़ी बहेन उषा की चुचिया चूस रहा था. उषा की चुचिओ को चूस्ते चूस्ते मैं ने अपना हाथ थोडा नीचे किया और उसकी चूत को सहलाने लगा तो उसने बैठे बैठे अपने टाँगें चौड़ी कर ली. मैं उसकी सारी के फोल्ड्स को खोलने लगा तो वो खड़ी हो गयी और खुद ही अपनी सारी और पेटिकोट का नाडा खोल के निकाल दिया और नंगी हो गयी. वाह क्या बताउ दोस्तो क्या पर्फेक्ट जिसम था उसका. एक दम से मस्त चिकने थाइस, और चूत तो क्या बताउ देखते ही मूह और लंड दोनो मे पानी आ गया बोहोत ही चिकनी चूत थी थोड़ी सी फूली हुई और उठा हुआ पेडू था उसका. वो नंगी बे इंतेहा खूबसूरत लग रही थी. मैं उसकी चूत को बड़े प्यार से सहलाने लगा. उसकी चिकनी बिना बालो वाली बेबी चूत बोहोत ही मस्त लग रही थी और मेरे हाथ उसकी चिकनी चूत पे फिसल रहे थे और मुझे बोहोत मज़ा आ रहा था ऐसा लगता था के उसने आज कि चुदाई के लिए उसने किसी बूटी पार्लर मे जा के ख़ास तोर से अपनी चूत की वॅक्सिंग करवाई है. मैने अपने मूह थोड़ा सा आगे किया और उसकी चिकनी चूत को किस किया तो जैसे साँस अंदर लेते है वैसे ही उसने साँस अंदर ली सस्स्स्स्स्स्स्स्स्स्सस्स की आवाज़ के साथ ही उसके टाँगें खुल गयी और उसने मेरे सर को पकड़ के अपनी चूत मे घुसा लिया. मैं थोड़ी देर तक उसकी चिकनी बेबी चूत को चूस्ता और चाट ता रहा. उषा ने भी अपने हाथ बढ़ा कर टेबल पे रखे केक के ऊपेर लगे हुए चॉक्लेट क्रीम को उठाया और अपनी चूत मे चुपद लिया. चूत के ऊपेर, पंखदिओं पे और पंखदिओं के अंदर चॉक्लेट भर लिया था. वो मेरे सामने खड़ी हुई थी और उसकी

चूत पूरी तरह से चॉक्लेट क्रीम से भर चुकी थी. मैने उसको अपनी तरफ खेच लिया और उसकी चूत पे लगी क्रीम चाट ने लगा. इधर आशा मेरे लंड को किसी आइस क्रीम की तरह से चाट रही थी. आशा कुछ ऐसे स्टाइल मे नीचे बैठी थी के उसकी चूत मेरे पैरो की उंगलिओ के सामने थी तो मैं अपने पैर के अंगूठे से उसकी चूत का मसाज करने लगा. मैं उसकी चूत की क्लाइटॉरिस को अपने पैर के अंगूठे से खेल रहा था. पैर का अंगूठा उसकी चूत के अंदर बहेर होने लगा. उसकी चूत गीली हो चुकी थी और वो कुछ इतनी मस्त हो गयी थी के अपने गंद को आगे पीछे कर के मेरे पैर के अंगूठे को अपनी चूत से चोद रही थी और मज़ा ले रही थी.

मेरा लंड को कभी पूरा अपने हलक के अंदर तक ले के चूस्ति तो कभी सिर्फ़ लंड के सूपदे को अपनी जीभ से चाट ती. ऐसे डिफरेंट स्टाइल से लंड चूसने मे मुझे बोहोत ही मज़ा आ रहा था और फिर एक टाइम आशा ने मेरे लंड को पूरा अपने हलक के अंदर तक उतार लिया और हलक के सुराख से मेरे लंड के सूपदे को अंदर बहेर करने लगी. लंड उसके हलक के सुराख के अंदर बहेर ऐसे हो रहा था जैसे उसके हलक का सुराख कोई टाइट चूत है जिसे मैं चोद रहा हू. वाह दोस्तो क्या बताउ ऐसा लग रहा था के मैं स्वर्ग मे पोहोच गया हू इतनी मस्त स्टाइल मे तो किसी ने भी मेरा लंड नही चूसा था और फिर एक ही मिनिट के अंदर मेरे लंड से गरम मलाई का फव्वारा डाइरेक्ट उसके हलक के अंदर चला गया पर उसने लंड चूसना नही छोड़ा. वो बड़े मज़े से लंड चूस रही थी और उसके ऐसे चूसने से लंड से मलाई निकलने के बावजूद भी लंड का तनाव कम नही हुआ बलके और ज़ियादा बढ़ गया. जब मेरी क्रीम निकल रही थी और मैं मस्ती मे चूर था और उषा की चूत मेरे मूह मे थी तो मैं ने उसकी चूत को दांतो से काट लिया तो वो मचल गयी और मेरे मूह मे अपनी चूत को घुसा दिया और मेरे मूह मे अपनी चूत को रगड़ते रगड़ते झड़ने लगी.

उधर आशा भी फुल मस्ती से मेरे पैर के अंगूठे को ज़ोर ज़ोर से चोदने लगी और एक ज़ोर का झटका मारा और उसकी चूत से जूस निकलने लगा जिसके चलते मेरे पैर का अंगूठा उसकी चूत के जूस से गीला हो गया. इधर मेरी क्रीम निकल रही थी उधर उषा की चूत से जूस का झरना फूट पड़ा था.

मैं ने आशा को कंधो से पकड़ के उठा लिया और अपने आकड़े हुए लंड पे बिठा लिया तो उसने अपने पैर मेरे बॅक पे लपेट लिए और मेरे से चिपक गयी. उसकी चूत बे इंतेहा गीली थी और पैर चीर के बैठने से चूत भी खुल गयी थी और वो मेरे लंड पे बैठने लगी. मेरा लंड धीरे धीरे उसकी चूत को चीरता

हुआ उसकी गीली चूत के अंदर घुसने लगा. आहह क्या टाइट चूत थी उसकी. अब आशा के बूब्स मेरे सामने थे. मैं ने आगे बढ़ कर उसके बूब्स को चूसना शुरू कर दिया और उसने मेरे गर्दन मे हाथ डाल दिया और वो मस्ती मे मेरे लंड पे उछलने लगी. मुझे ऐसा लग रहा था जैसे मेरा लंड उसके पेट के अंदर तक घुसा हुआ है. आशा की आँखें मस्ती मे बंद हो गयी थी उसने कहा सर आपकी उस दिन होटेल वाली चुदाई से मुझे ऐसा मज़ा मिला के बता नही सकती और उस चुदाई को मैं ज़िंदगी भर नही भूल सकती और उस दिन से आज तक मुझे अपनी चूत मे सिर्फ़ आपका लंड महसूस होता है. आपके मूसल लंड ने मेरा दिन का चैन और रातो की नींद उड़ा रखी है. आपके लंड की तो पूजा करने को जी चाहता है. प्लीज़ सर एक बार फिर से मुझे दीवार से लगा के वोही स्टाइल मे चोद डालो सर तो मैं ने बोला के आशा मैं ने पहले ही बोला था के अब यह सर वर बोलना बंद करो और सीधे राजा या राज बोलो तो उसने हस्ते हुए कहा के भूल गयी थी सर ऊप्स राजा और हस्ते हुए मेरे से लिपट गयी और मेरे मूह मे पानी जीभ डाल के किस करने लगी. उषा ने आशा से पूछा के वो कैसे चोदा था राजा ने तेरे कू तो उसने बोला के अभी देख लो दीदी तुम खुद ही और मेरे कू किस करके बोली के मेरे स्वीट राजा उठो ना प्लीज़ और अपने लंड से ड्रिल करदो मेरी चूत को चोद चोद के फाड़ डालो.

मैने आशा की गंद को पकड़ लिया और लंड को उसकी चूत के अंदर रखे ही रखे अपनी जगह से उठ खड़ा हुआ. आशा का कुछ बॅलेन्स आउट हो रहा था इसलिए उसने मेरे गले मे बाहें डाले अपने आप को थोड़ा सा अड्जस्ट किया और मेरे लंड की सवारी करने लगी. आशा ने अपने पैरो के घेराव को मेरे बॅक पे टाइट कर दिया जिस से उसकी चूत और खुल गयी थी. उषा हम दोनो को हैरत से देखने लगी और मैं ने आशा को दीवार से टीका दिया. उषा भी हमारे साथ साथ दीवार तक चली आई. अब मैने आशा को दीवार से टीका दिया और पहले तो बॅलेन्स को अड्जस्ट किया और उसके बाद नीचे खड़े खड़े उसको चोदना चालू कर दिया. उसके हाथ मेरे गले मे पड़े हुए थे और पैर पीठ पे लपेटे हुए थे वो मेरे बदन से झूल रही थी. शुरू मे तो बॅलेन्स को अड्जस्ट करते हुए चोद रहा था और जब ग्रिप सही मिल गयी तो फिर क्या पूछना दोस्तो इतनी बुरी तरह से चोद रहा था के उसकी चूत की चॅम्डी और पंखाड़िया मेरे लंड के डंडे से चिपके हुए बहेर निकलते और लंड के डंडे के साथ ही अंदर चले जाते. उषा करीब खड़े बड़े इंटेरेस्ट से लंड और चूत का खेल देख रही थी. आशा मस्ती मे बोल रही थी छ्छूड्द्डूऊव म्‍म्मईएररीए र्र्राअज्ज्ज्जाआआअ हहाआईईईई बोहूऊऊवटतत्त मज़्ज़ाआआ हीईईई ययईएहह ककककचहुड्ददाआययययईईई मीईए हाअईए रीईई ऊऊऊऊईईईईईइ म्‍म्म्माआआआआ.

मेरे झटको से वो दीवार से लगी ऊपेर नीचे हो रही थी और मेरा लंड किसी हथौड़े की तरह से उसकी चूत को चोद रहा था. दोनो के बदन पसीने से भरे हुए थे. आशा की आँखें बहेर को निकल आई थी पेन और प्लेषर एक साथ दिखाई दे रहे थे उसके चेहरे से. मेरे लंड से अभी अभी मलाई निकली थी और अभी मैं जल्दी छ्छूटने वाला नही था इसी लिए मैं उसको पागलो की तरह से चोद रहा था. अब तक आशा तकरीबन 5 या 6 बार झाड़ चुकी थी जिसके चलते उसकी चूत बोहोत ही गीली हो गयी थी और वो आँखे बंद किए मस्ती से चुद रही थी. उसकी आँखो से प्लेषर के आँसू बह रहे थे चेहरा लाल हो गया था और आआआअहह उूुउऊहह सस्स्स्स्स्स्स्सस्स म्‍म्म्माआररर्र्र्र्र्र्ररर दददाअलल्ल्ल्ल्ल्ल्ल्ल्लूऊऊऊ पफाआद्द्द्द्द्द्दद्ड दददाअल्ल्लूऊऊऊऊ र्रर्राआाजजजज्ज्ज्ज्ज्ज हहाआआईईई आईसस्स्सीईए हहिईीई. मेरे धना धन धक्को से उसके बूब्स बड़ी मस्ती मे डॅन्स कर रहे थे जिन्है मे मूह मे ले के चूसने लगा. बहुत ही ज़ोर ज़ोर से और पूरी ताक़त से चोद रहा था और लंड उसकी चूत मे बड़ी बे दरदी से धक्के मार रहा था और लंड का सूपड़ा लगता था के उसकी गंद मे घुस जाएगा. मैं अब उसको पागलो की तरह से चोद रहा था और पचा पच की आवाज़ से कमरा गूँज रहा था और उषा हमै नशीली आँखों से देख रही थी उसका हाथ उसकी चूत का मसाज कर रहा था. अब मैं भी झड़ने के कगार पर आ चुका था और इतनी ज़ोर ज़ोर से चोद रहा था के आशा ने अब चिल्लाना शुरू कर दिया था हहाअईए र्रररीई म्‍म्माआआररररर द्ददडाअलल्ल्लाआअ सस्स्स्स्सस्स zzआआल्ल्ल्ल्ल्ल्ल्लीईईईईईइम्म्

म्म्म्म्म्म्म्म ब्ब्ब्बबभूऊसस्स्स्द्द्दडाा ब्ब्बाआन्न्न्न्नाआआआ द्डडीईईई ऊवूऊवूवुउवुयियैआइयैयीयीयियी म्‍म्म्माआ और मेरा एक फाइनल झटका उसकी गीली चूत के अंदर इतनी ज़ोर से पड़ा के वो चिला उठी म्माआआअरर्र्र्र्ररर गगगगगगाआआययययईईई र्र्र्ररराज्ज्जज्ज्ज्ज्ज्ज्ज्ज ब्ब्ब्बासस्स्स्स्स्स्सस्स ककककककाआआररर्र्रूऊऊऊ प्प्प्प्प्प्ल्ल्ल्ल्ल्लीईईईईzzzzzzzzzz और जैसे ही मेरे लंड से गाढ़ी गाढ़ी मलाई की पिचकारी निकल के उसकी बची दानी से टकराई वो मेरे बदन से बोहोत ज़ोर से लिपट गयी और एक बार और उसकी चूत फूट गयी और वो झड़ने लगी. मेरी मलाई निकलती रही पर मैं उसकी चूत को फिर भी चोद्ता ही रहा. धीरे धीरे मेरे धक्के कम हुए. थोड़ी देर के बाद जब मेरी मलाई पूरी तरह से निकल चुकी तो मेरी ग्रिप उसकी गंद से लूस हुई और लंड उसकी चूत से पच की आवाज़ के साथ बहेर निकल गया और आशा नीचे फ्लोर पे ऐसे गिर पड़ी जैसे उसके बदन मे जान ही नही रही हो. उसकी चूत से इतनी देर से रुका हुआ उसका जूस और मेरी मलाई उसकी चूत से बह के नीचे फ़राश पे टपकने लगी. मेरा लंड उसकी चूत से बहेर निकला तो वो हम

दोनो के जूस से भरा हुआ था और मेरे लंड के हेड से दोनो के जूस की बूँदें टपकने लगी तो उषा जल्दी से नीचे बैठ गयी और मेरे लंड को अपने मूह मे ले के चूसने लगी और बोली के हाई राजा इतनी कीमती मलाई को ऐसे टपकने नही दिया जाता और लंड मूह मे ले के चूस्ति चूस्ति बोली के वाह क्या मज़े दार है मीठी मीठी मलाई है तुम्हारी और वो मेरे लंड को चूस्ति ही रही. मैं खड़े खड़े थक गया था इसी लिए करीब पड़ी हुई बिना हाथ वाली चेर पे बैठ गया.

--

साधू सा आलाप कर लेता हूँ ,

मंदिर जाकर जाप भी कर लेता हूँ ..

मानव से देव ना बन जाऊं कहीं,,,,

बस यही सोचकर थोडा सा पाप भी कर लेता हूँ

आपका दोस्त

राज शर्मा

(¨`·.·´¨) ऑल्वेज़

`·.¸(¨`·.·´¨) कीप लविंग &

(¨`·.·´¨)¸.·´ कीप स्माइलिंग !

`·.¸.·´ -- राज

Mast Marwari Malaai ( MMM )--paart--28

Thodi der mai nashta pani karta raha. Itni der mai Asha mere pant ke ooper se hi mere Lund ko sehla rahi thi aur Lund apne akadne ki poori charam seema par pohoch chuka tha aur pant ke ander se nikal ne ko tadap raha tha. Asha ne dekha aur bola ke haye raja babu is musal ko kyon saza de rahi ho isko kyon kaid kar ke rakha hai, isko kaid se azaad kardo aur yeh kehte hue usne pant ki zip khol dali aur underwear ko thoda neeche kar ke mere Lund ko pakad lia aur pant ke ander se baher nikal dia. Lund baher nikalte hi aise lehrane laga jaise saanp ke aage been bajane se saanp lehrata hai. Yeh dekh ke Usha ek dum se bol padi wow kia hathyar paya hai raja babu aapka bola aur apni jagah se uth ke hamare kareeb ke sofe pe baith gayee aur mere masti se lehrate, bal khate Lund ko pyar bhari sexy aur khaa jane wali nazro se dekhne lagi.

Do do chooton ko chudwane ke liye betaab dekh kar mera dimagh bhi kharab ho chuka tha. Mai Asha ke sar ko pakad ke uske muh ko chodne laga. Ash ne bina mere Lund pe se muh hataye apna ek hath peeche kia aur table pe rakhe cake ke ooper se topping ka chocolate apne ugnlio mai uthaya aur mere Lund pe achi tarah mal dia aur mere Lund se liquid chocolate chaatne lagi. Mai ne hath badha ke uske top ko utar dia. Usne ander brassier nahi pehni thi. Mai uske boobs ko apne dono hatho se pakad ke masalne laga. Asha ke chuchian mai pehle bhi daba chuka tha wo aaj bhi waise ke waise hi kadak the aur uske nipples bhi khade ho chuke the. Usne baithe hi baithe apna pant utar dia aur ek dum se nangi

hoi gayee. Usko nanga dekh ke mera josh kuch aur badh gaya to mai bhi apne chootad sofe se utha dia to wo mera ishara samajh gayee aur mere pant ke ander hath dale ke pant aur underwear dono ko ek sath khech ke mere badan se nikal dia. Itni der me mai bhi apna T shirt nikal ke nanga ho chuka tha. Usha mere kasrati fouladi badan ko bohot hi sexy nazro se dekhne lagi aur phir mere aur kareeb aa gayee aur mere badan pe hath pher ke mere badan ki takat ka andaza lagane lagi. Jaise hi Usha mere kareeb ayi mai ne apna hath uski gand pe rakh ke usko apne kareeb kar lia aur uski saree ke ooper se hi uski choot ko sehlaane laga to usne apni tangein khol di. Main thodi der uski choot ko sehlata raha phir hath ooper kar ke uske boobs ko dabane laga aur sath mai uske blouse ke hooks ko bhi khol dia. Bra to usne bhi nahi pehni thi wo mai pehle hi dekh chuka tha. Jaisa hi blouse khula mujhe uske mast chuchian dikhayee dene lage. 36 ke size ke bohot hi pyare aur perfect shape mai the uske chuchian. Kadak bhi the. Uske nipples bhi khade ho gaye the. wo mere kareeb neeche baith gayee to mai ne apne Lund pe lagi hui thodi si chocolate ko apne hath mai lia aur uski chuchion ke ooper laga dia aur unhai choosne laga. Asha mera Lund choos rahi thi aur mai uski badi behen Usha ki chuahian choos raha tha. Usha ke chuchion ko chooste chooste mei ne apna hath thoda neeche kia aur uski choot ko sehlane laga to usne baithe baithe apne tangein choudi kar li. Mai uski saree ke folds ko kholne laga to wo khadi ho gayee aur khud hi apni saree aur petticoat ka nada khol ke nikal dia aur nangi ho gayee. Wah kia batau dosto kia perfect jisam tha uska. Ek dum se mast chikne thighs, aur choot to kia batau dekhte hi muh aur Lund dono mai pani aa gaya bohot hi chikni choot thi thodi si phooli hui aur utha hua pedu tha uska. Wo nangi be inteha khubsurat lag rahi thi. Mai uski choot ko bade pyar se sehlane laga. Uski chikni bina balo wali baby choot bohot hi mast lag rahi thi aur mere hath uski chikni choot pe phisal rahe the aur mujhe bohot maza aa raha tha aisa lagta tha ke usne aaj ki chudai ke liye usne kisi buty parlour mai ja ke khaas tor se apni choot ki waxing karwayee hai. Mai apne muh thoda sa aage kia aur uski chikni choot ko kiss kia to jsiae saans ander lete hai waise hi usne saans ander li ssssssssssssss ki awaz ke sath hi uske tangein khul gayee aur usne mere sar ko pakad ke apni choot mai ghusa lia. Mai thodi der tak uski chikni baby choot ko choosta aur chaat ta raha. Usha ne bhi apne hath badha kar table pe rakhe cake ke ooper lage hue chocolate cream ko uthaya aur apni choot mai chupad lia. Choot ke ooper, pankhadion pe aur pankhadion ke ander chocolate bhar lia tha. Wo mere samne khadi hui thi aur uski

choot poori tarah se chocolate cream se bhar chuki thi. Mei usko apni taraf khech lia aur uski choot pe lagi cream chaat ne laga. Idhar Asha mere Lund ko kisi ice cream ki tarah se chaat rahi thi. Asha kuch aise style mei neeche baithi thi ke uski choot mere pairo ki unglio ke samne thi to mai ne apne pair ke angoothe se uski choot ka massage karne laga. Mai uski choot ki clitoris ko apne pair ke angoote se khel raha tha. Pair ka angoota uski choot ke ander baher hone laga. Uski choot geeli ho chuki thi aur wo kuch itni mast ho gayee thi ke apne gand ko aage peeche kar ke mere pair ke angoothe ko apni choot se chod rahi thi aur maza le rahi thi.

Mera Lund ko kabhi poora apne halak ke ander tak le ke choosti to kabhi sirf Lund ke supade ko apni jeebh se chaat ti. Aise different style se Lund choosne mai mujhe bohot hi maza aa raha tha aur phir ek time Asha ne mere Lund ko poora apne halak ke ander tak utar lia aur halak ke surakh se mere Lund ke supade ko ander baher karne lagi. Mea Lund uske halak ke surakh ke ander baher aise ho raha tha jaise uske halak ka surakh koi tight choot hai jise mai chod raha hu. Wah dosto kia batau aisa lag raha tha ke mai swarg mai pohoch gaya hu itni mast style mei to kisi ne bhi mera Lund nahi choosa tha aur phir ek hi minute ke ander mere Lund se garam malayee ka fawwara direct uske halak ke ander chala gaya par usne Lund choosna nahi chhora. Wo bade maze se Lund choos rahi thi aur uske aise choosne se Lund se malayee nikalne ke bawajood bhi Lund ka tanao kam nahi hua balke aur ziada badh gaya. Jab meri cream nikal rahi thi aur mai masti mai chhoor tha aur Usha ki choot mere muh mai thi to mai ne uski choot ko dato se kaat lia to wo machal gayee aur mere muh mai apni choot ko ghusa dia aur mere muh mai apni choot ko ragadte ragadte jhadne lagi.

Udhar Ash bhi full masti se mere pair ke angoothe ko zor zor se chodne lagi aur ek zor ka jhatka mara aur uski choot se juice nikalne laga jiske chalte mere pair ka angootha uski choot ke juice se geela ho gaya. Idhar meri cream nikal rahi thi udhar Usha ki choot se juice ka jharna phoot pada tha.

Mai ne Asha ko kandho se pakad ke utha lia aur apne akde hue Lund pe bitha lia to usne apne pair mere back pe lapet liye aur mere se chipak gayee. Uski choot be inteha geeli thi aur pair cheer ke baithne se choot bhi khul gayee thi aur wo mere Lund pe baithne lagi. Mera Lund dheere dheere uski choot ko cheerta

hua uski geeli choot ke ander ghusne laga. Aahhh kia tight choot thi uski. Ab Asha ke boobs mere samne the. Mai ne aage badh kar uske boobs ko choosna shuru kar dia aur usne mere gardan mai hath dal dia aur wo masti mai mere Lund pe uchalne lagi. Mujhe aisa lag raha tha jaise mera Lund uske pet ke ander tak ghusa hua hai. Asha ki aankhein masti mai band ho gayi thi usne kaha Sir aapki us din hotel wali chudai se mujhe aisa maza mila ke bata nahi sakti aur uss chudai ko mai zindagi bhar nahi bhul sakti aur us din se aaj tak mujhe apni choot mai sirf aaka Lund mehsoos hota hai. Aapke musal Lund ne mera din ka chain aur raato ki neend uda rakhi hai. Aapke Lund ki to pooja karne ko ji chahta hai. Please Sir ek bar phir se mujhe deewar se laga ke wohi style mei chod dalo sir to mai ne bola ke Asha mai ne pehle hi bola tha ke ab yeh Sir war bolna band karo aur seedhe Raja ya Raj bolo to usne haste hue kaha ke bhool gayee thi sir oops Raja aur haste hue mere se lipat gayee aur mere muh mai pani jeebh dal ke kiss karne lagi. Usha ne Asha se poocha ke wo kaise choda tha raja ne ter ku to usne bola ke abhi dekh lo didi tum khud hi aur mere ku kiss karke boli ke mere sweet raja utho na please aur apne Lund se drill kardo meri choot ko chod chod ke phad dalo.

Mai Asha ki gand ko pakad lia aur Lund ko uski choot ke ander rakhe hi rakhe apni jagah se uth khada hua. Asha ka kuch balance out ho raha tha isliye usne mere gale mai bahein dale apne aap ko thoda sa adjust kia aur mere Lund ki sawari karne lagi. Asha ne apne pairo ke gherao ko mere back pe tight kar dia jis se uski choot aur khul gayee thi. Usha ham dono ko hairat se dekhne lagi aur mai ne Asha ko deewar se tika dia. Usha bhi hamare sath sath deewar tak chali ayi. Ab mai Asha ko deewar se tika dia aur pehle to balance ko adjust kia aur uske bad neeche khade khade usko chodna chalu kar dia. Uske hath mere gale mai pade hue the aur pair peeth pe lapete hue the wo mere badan se jhool rahi thi. Shuru mai to balance ko adjust karte hue chod raha tha aur jab grip sahi mil gayee to phir kia poochna dosto itni buri tarah se chod raha tha ke uski choot ki chamdi aur pankhadiya mere Lund ke dande se chipke hue baher nikalte aur Lund ke dande ke sath hi ander chale jate. Usha kareeb khade bade interest se Lund aur Choot ka khel dekh rahi thi. Asha masti mai bol rahi thi chhoodddooooo mmmeeerreee rrraaajjjjaaaaaaa hhhhaaaaeeeeeeee bohoooooootttt mazzaaaaaa hhhhhheeeeeeee yyyeeehhhhhhhhhh ccccchhhhuudddaaayyyyeeeeeeee meeeee haaaeee reeeeeee ooooooooiiiiiiiiiii mmmmaaaaaaaaaa.

Mere jhatko se wo deewar se lagi ooper neeche ho rahi thi aur mera Lund kisi hathoude ki tarah se uski choot ko chod raha tha. Dono ke badan paseene se bhare hue the. Asha ki aankhein baher ko nikal ayi thi pain aur pleasure ek sath dikhaee de rahe the uske chehre se. Mere Lund se abhi abhi malayee nikli thi aur abhi mai jaldi chhootne wala nahi tha isi liye mai usko pagalo ki tarah se chod raha tha. Ab tak Asha takreeban 5 ya 6 bar jhad chuki thi jiske chalte uski choot bohot hi geeli ho gayee thi aur wo aankhain band kiye masti se chudwa rahi thi. Uski aankho se pleasure ke aansoo beh rahe the chehra laal ho gaya tha aur aaaaaaahhhhhhhhhhhh uuuuuhhhhhhhhh sssssssssss mmmmaaaarrrrrrrrrrr dddaaalllllllllloooooooo pphhhaaaaddddddddd dddaaallloooooooooo rrrraaaaajjjjjjjjj hhhhhaaaaaaeeeeeee aaeesssseeeee hhhiiiii. Mere dhana dhan dhakko se uske boobs badi masti mai dance kar rahe the jinhai mei muh mei le ke choosne laga. Bohot hi zor zor se aur poori takat se chod raha tha aur Lund uski choot mai badi be dardi se dhakke mar raha tha aur Lund ka supada lagta tha ke uski gand mai ghus jayega. Mei ab usko pagalo ki tarah se chod raha tha aur pacha pach ki awaz se kamra goonj raha tha aur Usha hamai nashili aankhon se dekh rahi thi uska hath uski choot ka massage kar raha tha. Ab mai bhi jhadne ke kagaar par aa chuka tha aur itni zor zor se chod raha tha ke Asha ne ab chillana shuru kar dia tha hhhaaaeee rrrreeee mmmaaaaaarrrrr ddddaaallllaaaaa ssssssss zzaaaalllllllliiiiiiiiiiiiimmmmmmmmmm bbbbbbhhhoooossssddddaaaa bbbaaaannnnnaaaaaaaa dddeeeeeeeee uuuuuuuuuiiiiiiiii mmmmaaa aur mera ek final jhatka uski geeli choot ke ander itni zor se pada ke wo chilaa uthi mmaaaaaaarrrrrrrr ggggggaaaaaayyyyeeeeeeeee rrrrrrajjjjjjjjjjj bbbbaassssssssss kkkkkkaaaaaarrrrroooooooo pppppplllllleeeeeeeeeezzzzzzzzzz aur jaise hi mere Lund se gaadhi gaadhi malayee ki pichkari nikal ke uski bachi dani se takrayee wo mere badan se bohot zor se lipat gayee aur ek bar aur uski choot phoot gayee aur wo jhadne lagi. Meri malayee nikalti rahi par mai uski choot ko phir bhi chodta hi raha. Dheere dhere mere dhakke kam hue. Thodi der ke bad jab meri malayee poori tarah se nikal chuki to meri grip uski gand se loose hui aur Lund uski choot se pach ki awaz ke sath baher nikal gaya aur Asha neeche floor pe aise gir padi jaise uske badn mai jaan hi nahi rahi ho. Uski choot se itni der se ruka hua uska juice aur meri malayee uski choot se beh ke neeche farash pe tapakne lagi. Mera Lund uski choot se baher nikla to wo ham

dono ke juice se bhara hua tha aur mere Lund ke head se dono ke juice ki boondein tapakne lagi to Usha jaldi se neeche baith gayee aur merre Lund ko apne muh mai le ke choosne lagi aur boli ke haayee raja itni keemti malayee ko aise tapakne nahi diya jata aur Lund muh mai le ke choosti choosti boli ke wah kia maze daar hai meethi meethi malayee hai tumhari aur wo mere Lund ko choosti hi rahi. Mei khade khade thak gaya tha isi liye kareeb padi hui bina hath wali chair pe baith gaya.